AICCTU ने ऐप कर्मियों की मांगों को लेकर चलाया हस्ताक्षर अभियान, श्रमायुक्त को दिया ज्ञापन।

Estimated read time 1 min read

दिल्ली में अलग-अलग ऐप कंपनियों में कार्यरत लाखों ऐप कर्मचारी विषम परिस्थितियों से लगातार जूझ रहे हैं। ऐप कर्मियों का प्रति ऑर्डर रेट और इंसेंटिव्स लगातार घट रहे हैं और ऐप कर्मचारी 15-16 घंटे काम करने पर मजबूर हैं। इसके ऊपर से कंपनियां मनमाने तरीके से लगातार ऐप कर्मियों का आई डी ब्लॉक कर देती हैं। ऐसी तमाम समस्याओं को देखते हुए ऐप कर्मचारी एकता यूनियन (ऐक्टू) ने पिछले दिनों दिल्ली भर में एक बड़ा हस्ताक्षर अभियान ऐप कर्मियों के बीच चलाया।

यह हस्ताक्षर अभियान दिल्ली के विभिन्न इलाकों में चलाया गया। मालवीय नगर, साकेत, कालकाजी, छत्तरपुर, बेगमपुर, मसूदपुर, नेब सराय, वसंत कुंज, मुनिरका, सी आर पार्क, गोविंदपुरी, पटेल नगर, पंजाबी बाग, करोल बाग, कनॉट प्लेस, राजिंदर प्लेस, झंडेवालान, कीर्ति नगर, करमपुरा, राजौरी गार्डन, सुभाष नगर, पीतमपुरा, शालीमार बाग, सुभाष प्लेस, प्रशांत विहार, रोहिणी, अशोक विहार, हडसन लेन, बुराड़ी, राणा प्रताप बाग, मॉडल टाउन, कमला नगर, मुखर्जी नगर, शक्ति नगर, चांदनी चौक, लाल किला, लक्ष्मी नगर, निर्माण विहार, चंदर विहार, आई पी एक्सटेंशन, कड़कड़डूमा और मयूर विहार के इलाकों में लगातार एक महीने तक यह हस्ताक्षर अभियान चलाया गया। इस अभियान में Swiggy-Zomato-Blinkit-Zepto-Porter-Ola-Uber-Rapido इत्यादि कंपनियों में कार्यरत कर्मियों ने हिस्सा लिया और हजारों की संख्या में हस्ताक्षर किए।

ऐप कर्मचारी एकता यूनियन ने निम्नलिखित मांगों के साथ ज्ञापन दिया –

  1. सभी ऐप कंपनियों के साथ काम करनेवालों को पक्के कर्मचारी का दर्जा दिया जाए। केंद्र व राज्य सरकार इस सम्बन्ध में तुरंत कानून बनाये।
  2. सभी ऐप-कर्मियों को 8 घंटा काम करने के उपरान्त कम से कम 26,000 रुपये प्रतिमाह आमदनी की गारंटी हो।
  3. सभी कर्मचारियों को कम से कम 20% बोनस का भुगतान किया जाए।
  4. सभी कर्मचारियों को सामाजिक सुरक्षा मुहैया कराई जाए, पी.एफ. और ई.एस.आई. की गारंटी हो. पेट्रोल और CNG के बढ़ते दामों को देखते हुए अलग से भत्ता दिया जाए।
  5. काम के दौरान किसी दुर्घटना में घायल होने की स्थिति में 50 लाख रुपए व मृत्यु की स्थिति में आश्रत को 1 करोड़ रुपए का मुआवजा दिया जाए।
  6. ऐप कंपनियों द्वारा की जा रही अवैध छटनी पर तुरंत रोक लगे।

ऐप कर्मचारी एकता यूनियन (ऐक्टू) ने दिल्ली के श्रमायुक्त कार्यालय में दिल्ली में लाखों की संख्या में कार्यरत ऐप कर्मचारियों की इन मांगों को लेकर ज्ञापन दिया। ऐप कर्मचारी एकता यूनियन (ऐक्टू) के प्रतिनिधि मण्डल ने एडीशनल लेबर कमिश्नर से मुलाक़ात की और ऐप कर्मियों की समस्याएं रखीं। इस प्रतिनिधि मण्डल में अपूर्वा शर्मा, आयुष मंडल, आकाश भट्टाचार्य और विभिन्न कंपनियों के ऐप कर्मी भी शामिल थे। सभी मुद्दों पर बातचीत रखी गई और मांगपत्र जमा किया। ऐप कर्मचारी एकता यूनियन के पदाधिकारी आकाश भट्टाचार्य ने कहा कि यूनियन इस संघर्ष को आगे जारी रखेगी और आनेवाले दिनों में सरकार को हमारी मांगें माननी ही पड़ेगी।

(प्रेस विज्ञप्ति पर आधारित।)

You May Also Like

More From Author

5 1 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments