Saturday, October 1, 2022

dabwali

डबवाली अग्निकांड की बरसी (23 दिसंबर) पर विशेष: उन सात मिनटों में आज भी ठहरे हुए हैं 24 साल!

शहर महज एक बेहद हौलनाक हादसे की वजह से रहती सभ्यता तक 'मौत का शहर' कहलाते हैं और कभी न भरने वाले जख्म उसके कोने-अंतरों में स्थायी जगह बना लेते हैं तथा सदा रिसते रहते हैं। हरियाणा, पंजाब और...
- Advertisement -spot_img

Latest News

सोडोमी, जबरन समलैंगिकता जेलों में व्याप्त; कैदी और क्रूर होकर जेल से बाहर आते हैं: सुप्रीम कोर्ट

सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को कहा कि भारत में जेलों में अत्यधिक भीड़भाड़ है, और सोडोमी और जबरन समलैंगिकता...
- Advertisement -spot_img