Thu. Jun 17th, 2021

लेखक

1 min read

हवा में रहेगी मेरे ख्याल की बिजली- देशवासियों को ‘‘इंकलाब जिंदाबाद’’ और ‘‘साम्राज्यवाद मुर्दाबाद’’ का क्रांतिकारी नारा दे, जंग-ए-आज़ादी में...

1 min read

वाराणसी। कवि केदारनाथ सिंह की तीसरी पुण्यतिथि की पूर्व संध्या 'क' कला दीर्घा में प्रो. अवधेश प्रधान की अध्यक्षता में...

1 min read

हिंदी साहित्य के आकाश में नामवर सिंह उन नक्षत्रों में से एक हैं, जो अपनी चमक हमेशा बिखेरते रहेंगे। उनकी...

1 min read

शानी के मानी यूं तो दुश्मन होता है और गोयाकि ये तखल्लुस का रिवाज ज्यादातर शायरों में होता है, लेकिन...

1 min read

मुल्क में तरक्की पसंद तहरीक जब परवान चढ़ी, तो उससे कई तख्लीककार जुड़े और देखते-देखते एक कारवां बन गया, लेकिन...

1 min read

सआदत हसन मंटो, हिंद उपमहाद्वीप के बेमिसाल अफसानानिगार थे। प्रेमचंद के बाद मंटो ही ऐसे दूसरे रचनाकार हैं, जिनकी रचनाएं...

1 min read

जब बांग्ला साहित्य और समाज की उदार और विद्रोही चेतना को हिंदी इलाके के संकीर्ण राष्ट्रवाद और बंगाल में पहले...

1 min read

यह एक ऐसा उपन्यास है, जिसका कथानक दुनिया के चार महाद्वीपों में फैला है! इसके चरित्र भी कई देशों से...