Monday, October 25, 2021

Add News

अंजनी कुमार

विपक्ष की गैर मौजूदगी में लेबर कोड बिल लोकसभा से पास, किसानों के बाद अब मजदूरों के गले में फंदा

मोदी सरकार ने किसानों के बाद अब मजदूरों का गला घोंटने की तैयारी कर ली है। इस सिलसिले में उसके द्वारा तैयार लेबर कोड बिल आज विपक्ष की गैर मौजूदगी में लोकसभा से पास हो गया। इसके तीन हिस्से...

किसान, बाजार और संसदः इतिहास के सबक क्या हैं

जो इतिहास जानते हैं, जरूरी नहीं कि वे भविष्य के प्रति सचेत हों। लेकिन जो इतिहास जानते ही नहीं, वे बने बनाये रास्ते पर भी नहीं चल पाते। जो इतिहास के चेहरे पर झूठ का कचरा फेंकते रहते हैं,...

भोजपुरी जो हिंदी नहीं है!

उदयनारायण तिवारी की पुस्तक है ‘भोजपुरी भाषा और साहित्य’। यह पुस्तक 1953 में छपकर आई थी। लेखक ने पुस्तक के पहले संस्करण में ‘दो शब्द’ में अपने समय में हिंदी और भोजपुरी को लेकर छायी हुई गलतफहमियों पर कुछ...

दिल्ली के करीब डेढ़ लाख परिवारों के पास शौचालय नहीं, सर्वे में खुलासा

दिल्ली सरकार का सामाजिक-आर्थिक सर्वेक्षण, 2018-2019 जारी हुआ है। सर्वे के अनुसार इस शहर में 20.05 लाख परिवार हैं। 42.6 प्रतिशत परिवार 10 हजार रूपये तक प्रति महीना पर जिंदगी गुजारता है। 47.3 प्रतिशत 10 से 25 हजार रूपये...

यातना घर में बदलता देश

अभी मुंबई के रंगमंच का दृश्य फेड-आउट भी नहीं हुआ था, दिल्ली दंगे की चार्जशीट में नये नाम जुड़ जाने और उमर खालिद की गिरफ्तारी ने एक बार फिर आपको राजधानी की तरफ आने के लिए बाध्य कर दिया।...

हकीकत और फसाने के बीच ऑनलाइन की फसंत

इस लॉकडाउन के दौरान ऑनलाइन पढ़ाई, ऑनलाइन काम, डिजिटल भुगतान, ट्विटर आंदोलन, वेबिनार जैसे शब्द तेजी से हमारी भाषा का हिस्सा हो गए। ट्रोल जैसे शब्द तो पहले से ही चल रहे हैं, लेकिन जब इन शब्दों का प्रयोग...

विकास नहीं, यह मौत का है रास्ता

वह समाज खूबसूरत होता है जो अपनी कमियों को हंसते हुए स्वीकार करे और उसे ठीक करने के लिए कमर कस ले। यह हरेक इंसान के लिए भी जरूरी है। हर आदमी शीशे में अपना चेहरा देखते हुए थोड़ा...

झुग्गियां नहीं, न्यायपालिका से न्याय उजड़ा है!

न्यायमूर्ति अरुण कुमार मिश्रा सर्वोच्च न्यायालय के कार्यभार से रिटायर हो गये। जाने के पहले उन्होंने वकील प्रशांत भूषण पर अवमानना के केस की सुनवाई और सजा सुनाने वाली बेंच में रहे। इस केस में अन्य न्यायमूर्तियों की अपेक्षा...

फेसबुक की सलीब पर टंगा लोकतंत्र

वाॅल स्ट्रीट जर्नल ने एक बार फिर फेसबुक की वह रिपोर्ट दिया है। जो भारत की राजनीतिक पार्टियां भाजपा और कांग्रेस द्वारा दिये गये विज्ञापन के खर्च को बताता है। फरवरी, 2019 से अब तक भाजपा ‘सामाजिक मुद्दों, चुनाव...

वेंटिलेटर पर पड़ी अर्थव्यवस्था को चाहिए जनता का खून

मजदूर शहर में वापस आ रहे हैं। राज्य अंतर्राज्यीय आवाजाही में क्वारंटाइन करने की अनिवार्यता खत्म कर रहे हैं जिससे कि उनकी वापसी और आर्थिक गतिविधियां शुरू हो सकें। जबकि कोविड-19 से पीड़ितों की संख्या 60,000 प्रतिदिन से अधिक...

About Me

11 POSTS
0 COMMENTS

Latest News

एक्टिविस्ट ओस्मान कवाला की रिहाई की मांग करने पर अमेरिका समेत 10 देशों के राजदूतों को तुर्की ने ‘अस्वीकार्य’ घोषित किया

तुर्की के राष्ट्रपति रेचेप तैय्यप अर्दोआन ने संयुक्त राज्य अमेरिका, जर्मनी, फ़्रांस, फ़िनलैंड, कनाडा, डेनमार्क, न्यूजीलैंड , नीदरलैंड्स, नॉर्वे...