Friday, July 1, 2022

ग्राउंड रिपोर्ट: बिहार की राजधानी पटना में जाति देखकर मिलता है फ्लैट 

आपका पूरा नाम क्या हुआ? अंकल सौरभ, सर्टिफिकेट नाम क्या हुआ? अंकल सुमन सौरभ, ओ.. पापा का नाम? देवनारायण सौरभ। सुनो सौरभ, हम लोग कायस्थ परिवार से आते हैं। इसलिए...

स्पेशल रिपोर्ट: बेहिसाब पानी होने के बावजूद आखिर बिहार के लोग मछली के लिए आंध्रा और बंगाल पर क्यों हैं निर्भर?

सुपौल, बिहार। बिहार मत्स्य निदेशालय के आंकड़ों के मुताबिक बिहार में सालाना मछली उत्पादन करीब साढ़े पांच लाख...

ग्राउंड रिपोर्ट: चंदौली पुलिस पर सवालों की बौछार, कातिल इंस्पेक्टर पर 302 की मांग लेकर जनवादी संगठनों का डेरा

मनराजपुर (चंदौली)। उत्तर प्रदेश में चन्दौली जिले के मनराजपुर में पुलिसिया दबिश के दौरान हुई बेकसूर निशा यादव...

स्पेशल: ज्ञानवापी मामले में फव्वारे के पक्ष के लोगों की दलील, कहा-शिवलिंग में छेद नहीं होता

वाराणसी। बनारस के ज्ञानवापी मस्जिद में कथित ‘शिवलिंग’ की तरह की आकृति मिलने के बाद छिड़े चौतरफा विवाद...

ग्राउंड रिपोर्ट: मोदी के गृह राज्य ही नहीं चुनावी क्षेत्र में भी नशे का कारोबार परवान पर

वाराणसी। बनारस में साधु-सन्यासी और रिक्शा चालकों द्वारा सेवन किया जाने वाला गांजा, अब आम चलन में आ...

ग्राउंड रिपोर्ट: अग्निपथ ने तोड़ दिये पहाड़ के युवाओं के सपने

देहरादून। आर्मी में भर्ती होना उत्तराखंड के 80 प्रतिशत युवाओं का सपना होता है और राज्य की अस्थाई राजधानी देहरादून सपनों की नगरी। पहाड़ के हर युवा को लगता है कि वह किसी न किसी तरह देहरादून पहुंच जाए तो उसके सपनों को पंख लग जाएंगे। दरअसल देहरादून के इस मोह के दो-तीन कारण हैं। पहला तो यह कि देहरादून में कुछ मैदान हैं, जहां सुबह-शाम दौड़ लगाकर फौज में भर्ती होने की तैयारी की जा सकती है। इन मैदानों के अलावा देहरादून की कुछ सड़कें भी हैं, जहां दौड़ने का अभ्यास किया जा सकता है। कुछ युवा यहां आकर दिन में कोई छोटा-मोटा काम तलाश लेते हैं और शाम सुबह -शाम इन मैदानों में दौड़ लगाते हैं। पहाड़ से आये कई युवक सुबह-शाम देहरादून के मैदानों में अभ्यास करने के साथ अपनी पढ़ाई भी करते हैं। यही वजह है कि देहरादून के मैदानों और कई सड़कों पर सुबह-शाम...

छत्तीसगढ़: भूमि अधिकार आंदोलन के तहत आयोजित हुआ राज्य स्तरीय सम्मेलन 

रायपुर। छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर के पास्टोरल सेंटर में भूमि अधिकार आंदोलन का राज्य सम्मेलन आयोजित हुआ। 28 जून को आयोजित होने वाले इस सम्मेलन में देश के 14...

तीस्ता सीतलवाड़ को रिहा कर उनके खिलाफ आरोपों को वापस ले भारत: ह्यूमन राइट्स वॉच 

न्यूयॉर्क। ह्यूमन राइट्स वॉच ने आज कहा कि भारतीय सरकारी तंत्र को प्रख्यात मानवाधिकार कार्यकर्ता तीस्ता सीतलवाड़ को तुरंत रिहा...

आधी रात को सुप्रीम कोर्ट ने मुकदमे सुने हैं, पर वे कौन से मुकदमे थे?

सुप्रीम कोर्ट की वैकेशन बेंच द्वारा महाराष्ट्र शिवसेना के बागी मंत्री एकनाथ शिंदे की याचिका पर तत्काल सुनवाई के निर्णय पर यह सवाल उठा...

जरूरी खबर

हम से जुड़े रहें

जनचौक पोर्टल से दैनिक ईमेल प्राप्त करें। खबरें जो आप से जुड़ी होती हैं। देश और दुनिया की होती हैं। खबरें जिन्हें छुपाया जाता है। वह सब कुछ यहां मिलेगा नि:शुल्क।

0 / ₹500

426 अन्य की तरह आप भी जनचौक के सहयोग के साथी बनें।

जंतर-मंतर

संस्कृति-समाज

राज्य

पूर्णकालिक दर्जे के लिए सफाई कर्मचारियों ने रायपुर में किया प्रदर्शन

रायपुर। "छोटे कर्मचारी हैं इसीलिए शर्म लगता है क्या साहब, हमारे सामने खड़े होने में? ऐसा लगता है तो...