Monday, February 6, 2023

बादल सरोज

घोटाले की कालिख तले अडानी को ‘इंडिया’ होने का गुमान

भारत में 21वीं सदी के सबसे बड़े घोटाले, ठगी और बेईमानी पर दुनिया भर में भारत की सरकार और उसके कॉरपोरेट की भद्द पिटी पड़ी है। बाजार अपने निर्णय सुना रहा है, मगर जिन्हें बोलना था वे न बोल...

मोदी और भागवत के रौद्र और कोमल की जुगलबंदी के पीछे क्या है?

संगीत,भारतीय शास्त्रीय संगीत में स्वर और रागों का एक ख़ास विधान है। स्वर की नियमित आवाज को उसकी निर्धारित तीव्रता से नीचा उतारने पर वह कोमल हो जाता है, थोड़ा ऊंचा उठाने पर वह तीव्र हो जाता है। एक साथ एक...

भाजपा में इस्तीफे नहीं होते; सिर्फ काण्ड होते हैं

कुश्ती के मुकाबलों में देश और दुनिया में अपने खेल कौशल की धाक बनाने वाले, कई विश्व पदक लाने वाले भारत के महिला पुरुष पहलवान तीन दिन तक दिल्ली में जंतर-मंतर पर बैठे रहे। इस धरने के जरिये नामवर महिला पहलवानों ने कुश्ती...

अरक्षणीय तुलसी पर कोहराम तो बहाना है; मनु और गोलवलकर को बचाना है

जैसे इधर मदारी का इशारा होता है और उधर जमूरे का काम शुरू होता है। ठीक उसी तरह इधर संघ के सरसंघचालक मोहन भागवत ने "अपने हिन्दुओं" के युद्धरत होने की बात कही और युद्धकाल में उनके द्वारा आँय-बाँय-साँय कुछ भी...

न धर्मांध कट्टरपंथी सिर्फ काबुल में हैं, न उनके खिलाफ खड़ी मारवा अकेली हैं !!

गुजरी बरस के आख़िरी दिनों का सबसे शानदार फोटो अफ़ग़ानिस्तान की एक 18 साल की युवती मारवा का है। मक्का की एक पवित्र मानी जाने वाली पहाड़ी के नाम वाली यह मारवा काबुल यूनिवर्सिटी की गेट पर तालिबानी गार्डों के...

कर्नाटक और महाराष्ट्र में रार: विभाजन, विग्रह, विखंडन की भाजपाई राजनीति

अब महाराष्ट्र और कर्नाटक के बीच रार ठनी हुयी है।  दोनों सरकारों के मुखिया ; कर्नाटक के मुख्यमंत्री बासवराज बोम्मई और महाराष्ट्र के असली मुख्यमंत्री, वैसे उपमुख्यमंत्री, देवेंद्र फडणवीस सार्वजनिक रूप से एक दूजे को ललकार रहे हैं।  बात पुलिस...

किस बरहमन ने कहा था कि ये साल अच्छा है!

सामान्य रस्म और रिवाज गुजरे साल का गुणगान और आने वाली वर्ष के लिए उम्मीदों के पहाड़ खड़े करने की है। मगर 2022 के लिए यह औपचारिक रस्मअदायगी भी नहीं की जा सकती। यह साल अनेक अशुभों, पीड़ाओं और...

हुड़दंग का बेशर्म ढंग, फासी गिरोह की नई तरंग 

फिल्म को जनवरी में रिलीज होना है और हुड़दंगियों ने अभी से तूमार खड़ा करना शुरू कर दिया है। पूरे का पूरा गिरोह टूट पड़ा है। स्वयंभू साधुओं से लेकर सांसद, मंत्रियों से लेकर बजरंगियों तक सब के सब एक ही...

चुनाव नतीजों के सबक और कारपोरेट चीयरलीडर्स का कोहराम 

यह मार्केटिंग और चीयर लीडर्स-चीखाओं- का काल है। उन्हीं के हाथ में तूती है और गजब की ही बोलती है। इसे बार-बार बजाकर वे इतिहास बदलने की कोशिश तो कर ही रहे हैं, दिनदहाड़े आंखों के सामने घटी घटनाओं को, ताजे...

एनडीटीवी: मसला सिर्फ एक चैनल या पत्रकार का नहीं है, बात उससे आगे की है

एनडीटीवी के जबरिया और तिकड़मी टेकओवर पर देश भर में विक्षोभ और चिंता की लहर सी उठी है। मीडिया के भविष्य को लेकर फ़िक्र बढ़ी है - ज्यादातर लोगों ने इसे ठीक उसी तरह लिया है जिस तरह लिया...

About Me

121 POSTS
0 COMMENTS

Latest News

जमशेदपुर में धूल के कणों में जहरीले धातुओं की मात्रा अधिक-रिपोर्ट

मेट्रो शहरों में वायु प्रदूषण की समस्या आम हो गई है। लेकिन धीरे-धीरे यह समस्या विभिन्न राज्यों के औद्योगिक...