Saturday, January 22, 2022

Add News

विशद कुमार

पूर्वी सिंहभूम में पांचवीं अनुसूची, पेसा कानून एवं सीएनटी एक्ट का उल्लंघन के खिलाफ आन्दोलन

उल्लेखनीय है कि झारखंड का पूर्वी सिंहभूम जिला अंतर्गत पोटका प्रखंड संविधान की पांचवीं अनुसूची के क्षेत्र में आता है। फिर भी यहां भूमि माफियाओं की मिलीभगत से स्थानीय प्रशासन द्वारा बड़े पैमाने पर पांचवीं अनुसूची, पेसा कानून- 1996 (Extension...

झारखंड: मनरेगा में भ्रष्टाचार का बड़ा खेल, सोशल ऑडिट में उभरकर आया सामने

झारखंड। उल्लेखनीय है कि मनरेगा की अवधारणा ग्रामीण क्षेत्र के मजदूरों को रोजगार उपलब्ध कराने को लेकर तैयार की गई थी। जिसमें मशीन के इस्तेमाल पर पूरी तरह पाबंदी है, बावजूद इसके झारखंड में मनरेगा के कर्मचारियों, अधिकारियों व...

भारत में कोरोना की तीसरी लहर में फुल लॉकडाउन की जरूरत नहीं: विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन

दैनिक जागरण में छपी एक रिपोर्ट के मुताबिक विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन ने कहा है कि भारत में कोरोना वायरस की तीसरी लहर के बावजूद फुल लाकडाउन लगाने की जरूरत नहीं है। संगठन ने कहा है कि भारत जैसे देश...

दुमका में कोल माफियाओं का 350 कोयला खदानों पर कब्जा!

दुमका लोकसभा की सीट हो या विधानसभा की, दोनों सीटों पर लगभग हमेशा से सोरेन परिवार का कब्जा रहा है। लेकिन इसी दुमका के कोयलांचल क्षेत्र में आज कोयला माफियाओं का राज है। इनके आतंक का यह हाल है...

शहीदों के स्मारक के लिए दी जमीन लेकिन आज भूखों मरने की नौबत

जालियांवाला बाग (13 अप्रैल, 1919) से पहले का जालियांवाला बाग, यानी अंग्रेजी हुकूमत की क्रूरता का पहला गवाह बना था, झारखंड के खूंटी जिला अंतर्गत मुरहू प्रखंड का डोंबारी बुरू। जहां आज से ठीक 121 साल पहले 9 जनवरी,...

रांची एयरपोर्ट से मानव तस्करी के आरोप में एक महिला गिरफ्तार

झारखंड की राजधानी रांची से एक नवजात को खरीद कर मुंबई ले जाने के क्रम में रांची एयरपोर्ट पर निखत परवीन (36) नामक एक महिला को गिरफ्तार कर लिया गया। मामले का पता तब चला जब उसके टिकट में...

कोविड काल में 80% बच्चों में सीखने में आयी कमी और 10 % बच्चे बन गए बाल श्रमिक: रिपोर्ट

भारत में कोरोना के कारण जनता कर्फ्यू के रूप में 22 मार्च 2020 को लॉकडाउन की शुरुआत हुई। इस लॉकडाउन के कारण सबसे अधिक शिक्षा के क्षेत्र में असर पड़ा। इस प्रभाव को ग्रामीण क्षेत्रों के SC, ST, OBC...

झारखंड में बिरसा मुंडा स्मारक बना सरकारों की उपेक्षा का शिकार

जलियांवाला बाग (13 अप्रैल 1919 ) से पहले का जलियांवाला बाग, यानी अंग्रेजी हुकूमत की क्रूरता का पहला गवाह बना था, झारखंड के खूंटी जिला अंतर्गत मुरहू प्रखंड का डोंबारी बुरू, जहां आज से ठीक 118 साल पहले 9 जनवरी 1900 को ब्रिटिश सेना-पुलिस...

पलामू; अवैध उत्खनन के खिलाफ ग्रामीणों ने खोला मोर्चा

दिसम्बर महीने में छाये बादल मौसम के बिगड़ते मिजाज के प्रमाण हैं। यह सिर्फ हमारे झारखंड में ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया में हो रहा है। गर्मी से तपने वाले क्षेत्रों में ठंड पड़ रही है, तो बर्फ से...

आदिवासी सरकार में भी क्यों हो रहे हैं आदिवासी पुलिसिया उत्पीड़न के शिकार?

झारखंड अलग राज्य गठन के 21 साल हो गए, एक रघुवर दास को छोड़कर राज्य के सभी मुखिया आदिवासी हुए हैं बावजूद इसके राज्य में आदिवासियों पर पुलिसिया उत्पीड़न की घटनाएं लगातार घटती रही हैं।  हाल ही में बोकारो जिले...

About Me

217 POSTS
0 COMMENTS

Latest News

मध्यप्रदेश में मुस्लिम होने के गुनाह में जला दिया मकान व ऑटो

भाजपा शासित राज्यों में मुसलमान होना ही गुनाह है। शिवराज सिंह चौहान शासित मध्यप्रदेश मुस्लिम समुदाय के लोगों के...