Monday, January 24, 2022

Add News

बादल सरोज

महंगाई ने खड़ा कर दिया है किसानों को शहरी मजदूरों की कतार में

मुरैना जिले के बस्तौली गाँव के गयाराम सिंह धाकड़ को समझ ही नहीं आ रहा है कि सरसों के उम्मीद से कहीं ज्यादा अच्छे भाव मिलने के बाद भी उनका सारा बजट कैसे गड़बड़ा गया। खर्चे अभी भी पूरे...

मालवा में पतझड़ की बहार और उसके ध्वजाधारी

मध्यप्रदेश में इन दिनों पतझड़ के बहार हैं और प्रदेश का वह अंचल जिसे मालवा कहा जाता है इसका सबसे बदतरीन शिकार है। सप्ताह भर में एक के बाद एक दर्जन भर से अधिक मामले सामने आये हैं जो...

जनता के खून-पसीने से बनी आयुध कंपनियों की बिक्री को राष्ट्र के नाम समर्पण बताने की धूर्तता

प्रचलन में यह है कि दशहरे के दिन अस्त्र-शस्त्रों की पूजा होती है। मगर जैसा कि विश्वामित्र कह गए हैं ; "कलियुग में सब उलटा-पुलटा हो जाता है। " वही हो रहा है। इस दशहरे पर मोदी जी -...

न्यूटन से विदुर तक लखीमपुर खीरी पैटर्न और क्रोनोलॉजी

गांधी के जन्मदिवस के ठीक अगले दिन लखीमपुर खीरी में विरोध प्रदर्शन करके वापस लौट रहे किसानों को गाड़ियों से रौंदने का, निर्ममता के फ़िल्मी दृश्यों को भी पीछे छोड़ देने का जो काण्ड घटा है वह एक लम्पट...

पुरखों को गोद लेने की चतुराई वंश बेल बताने नहीं, विषबेल फैलाने के लिए है

दुनिया भर में वंश चलाने के लिए वारिस गोद लेने का रिवाज है। जो संतानहीन होते हैं या स्वयं की संतान को जन्मने के झंझट से बचना चाहते हैं वे वारिस को गोद ले लेते हैं। मगर ब्रह्माण्ड की...

तानाशाही के हाईवे पर लोकतंत्र की प्रतिरोध शिला

चारण और भाटों ने कसीदे काढ़े, नयी-नयी उपमा और विशेषण गढ़े,  "आसमां पै है खुदा (नहीं नहीं ईश्वर) और जमीं पै ये" मार्का प्रचार के तूमार खड़े करने के लिए पूरी अक्षौहिणी सेना झोंक दी, कर्ज में डूबे, दिवालिया...

अडानी के बंदरगाह पर मार्फीन की जब्ती के आगे पीछे की आशंकायें!

गुजरात के मुंद्रा पोर्ट (बंदरगाह) से 3000 किलो हेरोइन पकड़ी गई है। अंतरराष्ट्रीय बाज़ार में इसकी कीमत 21 हज़ार करोड़ रुपए है। मुंद्रा पोर्ट को "हम दो हमारे दो" में से एक ब्रह्मा जी के परमप्रिय गौतम अडानी चलाते...

संघ को नहीं पता कि ध्वंसों से नहीं, निर्माण से बनता है इतिहास

मध्यप्रदेश में एमबीबीएस के छात्रों को अब आरएसएस संस्थापक हेडगेवार और जनसंघ के संस्थापक नेता पं. दीनदयाल उपाध्याय के विचार पढ़ाए जाएंगे।   चिकित्सा शिक्षा मंत्री ने इस घोषणा के लिए तारीख सरकारी शिक्षक दिवस- 5 सितम्बर - की चुनी।...

आरएसएस-बीजेपी पर साया है ‘अल्ला हू अकबर’ और ‘हर हर महादेव’ के नारे का खौफ!

5 सितम्बर के मुज़फ्फरनगर के इतवार की खासियतें इस बार कारपोरेट गोदी मीडिया के एक हिस्से को भी दर्ज करनी पड़ी। लगभग हरेक ने माना कि पिछली 25 वर्षों में-- जबसे इस इलाके में किसानों के बड़े-बड़े जमावड़ों की...

….और फिर वे इन्फोसिस के मूर्तिभंजन के लिये आये; नारायण, नारायण

आरएसएस और भाजपा की दीदादिलेरी काबिलेगौर है।  वे जितनी फटाफट द्रुत गति से अपने मुखौटे उतार रहे हैं उससे जिन्हें अब भी  यह भ्रम था कि पहले तोहमतें लगाकर बदनाम करना, उसके बाद नफरतें उभारना और आखिर में मॉब-लिंचिंग...

About Me

68 POSTS
0 COMMENTS

Latest News

यूपी चुनाव में जो दांव पर लगा है

यह कहावत बहुचर्चित है कि दिल्ली का रास्ता लखनऊ से होकर जाता है। यानी अक्सर यह होता है कि...