Subscribe for notification

सुयोग्य, कर्मठ, जुझारू हो गए ‘सींग’

उत्तराखंड में अभी जुम्मा-जुम्मा चंद रोज ही बीते हैं, जब गांव-गांव, धार-धार, खाळ-खाळ सुयोग्य, कर्मठ, जुझारू और विकास के लिए प्रतिबद्धों की लाइन लगी हुई थी। दीवारें सुयोग्य, कर्मठ, जुझारुओं के पोस्टर-बैनरों से पटी हुई थी. त्रिस्त्रीय पंचायतों के चुनाव निपटे और पता चला कि सुयोग्य, कर्मठ, जुझारुओं की खेप की खेप तो लापता चल रही है। आए दिन अखबारों में खबरें आने लगीं कि फलां-फलां इलाके के इतने-इतने सुयोग्य, कर्मठ, जुझारू अता-पता-लापता हो गए हैं। वे ऐसे गायब हो गए हैं, जैसे गधे के सिर से सींग।

‘गधे के सिर से सींग की तरह गायब होना’, यह मुहावरा भी बड़ा रोचक है। किसी ने तो वह गधा देखा होगा, जिसके सिर पर सींग रहे होंगे। और फिर कब उसने देखा होगा कि उस गधे के सिर से वो सींग गायब हो गए हैं! पंचायत चुनाव जीते प्रतिनिधियों के गायब होने के संदर्भ में जब इसका प्रयोग होता है तो और भी गज़ब। पूरे इलाके ने इन प्रतिनिधियों को जिता कर सिर-माथे बिठाया और ये सिर से, सिरे से गायब हो गए। इस प्रकार इन्हें चुन कर सिर-माथे बिठाने वाला इलाका खुद ही ‘वैशाखनंदन’ बन गया!

जब ये गधे के सिर से सींग हुए तो पहले-पहल लोगों को लगा कि विकास करने का अवसर हासिल करने के लिए लाखों-लाख रुपये और शराब के नौले-गदेरे बहाने वाले, कहीं विकास का भारा लगा रहे होंगे। यानि विकास को पीठ पर लाद कर, ला रहे होंगे! पर कल अचानक खबर आई कि चमोली जिले के 31 सुयोग्य, कर्मठ, जुझारू तो नेपाल से लगे हुए नगर धारचुला में पाए गए। गधे के सिर से गायब सींगों के, सिर से अलग कहीं और प्राप्त होने की यह अनोखी मिसाल है!

कुछ खबरनवीस मित्रों ने बताया कि गधे के सिर से अलग प्राप्त हुए ये सुयोग्य, कर्मठ, जुझारू सींग तो धारचुला से भी नेपाल निकल लिए हैं। यह तो सबसे आसान है। धारचुला में काली नदी पर एक पुल है, जिसे पार करो तो आदमी दार्चुला पहुंच जाता है। दार्चुला बोले तो नेपाल। अब ये 31 सुयोग्य, कर्मठ, जुझारू कोई और उपलब्धि हासिल करें-न-करें पर फ़ॉरेन रिटर्ण्ड तो ये हो ही गए हैं। इलाके के गधे इस बात पर गर्व कर सकते हैं कि उनके सिर पर जो सींग हैं, वे फ़ॉरेन रिटर्ण्ड हैं!

पर ये सुयोग्य, कर्मठ, जुझारू इतनी दूर धारचुला और फिर वहां से नेपाल क्यूं जा रहे होंगे? उच्च न्यायालय द्वारा पंचायत चुनावों में खरीद-फरोख्त रोकने के मामले में दिए गए फैसले में इस बात का उल्लेख है कि ऐसे सुयोग्य, कर्मठ, जुझारुओं को नेपाल, गोवा और यहां तक कि बैंकॉक ले जाने की भी परंपरा है। चुनाव जीतने के बाद इतनी दूर क्यूं ले जाए जाते होंगे, ये सुयोग्य, कर्मठ, जुझारू? क्या जिस विकास के गाड़-गदेरे बहाने के वायदे के साथ चुनाव के दौरान इन्होंने पैसे और शराब के गाड़-गदेरे बहाये, क्या वो विकास गोवा, नेपाल, थाईलैंड में है? लोग अपने लिए जनप्रतिनिधि चुन रहे हैं! नेतृत्व करने वाला नेता चुन रहे हैं! सुयोग्य, कर्मठ, जुझारू के झांसे में आ कर चुन रहे हैं! लेकिन चुने जाते ही वह भेड़-बकरी हो जा रहे हैं, जिसे कोई भी ठेकेदार हांक ले जा रहा है। यही हमारे लोकतन्त्र की सबसे बड़ी विडंबना है। जहां चुने गए प्रतिनिधि खुशी-खुशी वोट की मंडी में भेड़-बकरियों की तरह बिकने को तैयार हों, वहां लोकतंत्र तो मिमियाता हुआ ही होगा।

(लेखक इंद्रेश मैखुरी उत्तराखंड के लोकप्रिय वामपंथी नेता हैं।)

This post was last modified on November 2, 2019 11:23 am

Leave a Comment
Disqus Comments Loading...
Share

Recent Posts

कृषि विधेयक के मसले पर अकाली दल एनडीए से अलग हुआ

नई दिल्ली। शनिवार को शिरोमणि अकाली दल (एसएडी) ने बीजेपी-एनडीए गठबंधन से अपना वर्षों पुराना…

1 hour ago

कमल शुक्ला हमला: बादल सरोज ने भूपेश बघेल से पूछा- राज किसका है, माफिया का या आपका?

"आज कांकेर में देश के जाने-माने पत्रकार कमल शुक्ला पर हुआ हमला स्तब्ध और बहुत…

4 hours ago

संघ-बीजेपी का नया खेल शुरू, मथुरा को सांप्रदायिकता की नई भट्ठी बनाने की कवायद

राम विराजमान की तर्ज़ पर कृष्ण विराजमान गढ़ लिया गया है। कृष्ण विराजमान की सखा…

4 hours ago

छत्तीसगढ़ः कांग्रेसी नेताओं ने थाने में किया पत्रकारों पर जानलेवा हमला, कहा- जो लिखेगा वो मरेगा

कांकेर। वरिष्ठ पत्रकार कमल शुक्ला कांग्रेसी नेताओं के जानलेवा हमले में गंभीर रूप से घायल…

5 hours ago

‘एक रुपये’ मुहिम से बच्चों की पढ़ाई का सपना साकार कर रही हैं सीमा

हम सब अकसर कहते हैं कि एक रुपये में क्या होता है! बिलासपुर की सीमा…

8 hours ago

कोरोना वैक्सीन आने से पहले हो सकती है 20 लाख लोगों की मौतः डब्लूएचओ

कोविड-19 से होने वाली मौतों का वैश्विक आंकड़ा 10 लाख के करीब (9,93,555) पहुंच गया…

11 hours ago