Friday, July 1, 2022

पीके मौर्या

ग्राउंड रिपोर्ट: पीएम के संसदीय क्षेत्र की एक बस्ती में शौच के लिए परिवारों के हर सदस्य को देने पड़ते हैं 5 रुपये

वाराणसी। बनारस के चौकाघाट पानी टंकी के पास ढेलवरिया रेलवे अंडर के पहले डेढ़ से दो हजार नागरिकों की झोपड़ीनुमा घर-गृहस्थी है। भारत के आजादी के अमृत महोत्सव के पहले यानी सात दशकों से अधिक समय से यहां रह...

ग्राउंड रिपोर्ट : बनारस में सीवर से नहाई गंगा में अब रेत के टीलों ने डाला डेरा

वाराणसी। उत्तर प्रदेश के बनारस में घाट किनारे गंगा की दुर्गति किसी से छिपी नहीं है। दो दर्जन से अधिक छोटे-बड़े नाले रोजाना सवा सौ से अधिक सीवर गंगा में फेंट रहे हैं। इसमें अनवरत सीवर ढोने वाली अस्सी...

ग्राउंड रिपोर्ट: चंदौली पुलिस पर सवालों की बौछार, कातिल इंस्पेक्टर पर 302 की मांग लेकर जनवादी संगठनों का डेरा

मनराजपुर (चंदौली)। उत्तर प्रदेश में चन्दौली जिले के मनराजपुर में पुलिसिया दबिश के दौरान हुई बेकसूर निशा यादव की मौत से जनपद अब भी सुलग रहा है। एक ओर सूबे के मुखिया योगी राज में सुराज यानी कुशल न्यायिक-कानूनी...

स्पेशल: ज्ञानवापी मामले में फव्वारे के पक्ष के लोगों की दलील, कहा-शिवलिंग में छेद नहीं होता

वाराणसी। बनारस के ज्ञानवापी मस्जिद में कथित ‘शिवलिंग’ की तरह की आकृति मिलने के बाद छिड़े चौतरफा विवाद के बीच एक बहस शुरू हो गई है। तकरार इस बात पर हो रही है कि विवादित स्ट्रक्चर आखिर है क्या-शिवलिंग...

ग्राउंड रिपोर्ट: मोदी के गृह राज्य ही नहीं चुनावी क्षेत्र में भी नशे का कारोबार परवान पर

वाराणसी। बनारस में साधु-सन्यासी और रिक्शा चालकों द्वारा सेवन किया जाने वाला गांजा, अब आम चलन में आ गया है। जो कभी घाटों पर चोरी छिपे इस्तेमाल किया जाता था, अब खुलेआम हो रहा है। मानों यह ट्रेंड बन...

ग्राउंड रिपोर्ट: कुपोषित बच्चों की राजधानी बन गया है पीएम का संसदीय क्षेत्र वाराणसी

वाराणसी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में कई पोषण-राशन योजनाओं के होने के बाद भी शहर में 55 हजार बच्चे कुपोषित हैं। चौंकाने वाली बात यह है कि इसमें 3,500 बच्चे अतिकुपोषित और इनमें भी एक हजार...

About Me

6 POSTS
0 COMMENTS

Latest News

हिन्दुत्व के सबसे सटीक व्याख्याकार निकले एकनाथ शिंदे 

कई बार ढेर सारी शास्त्रीय कोशिशें, कई ग्रन्थ, अनेक परिभाषाएं और उनकी अनेकानेक व्याख्यायें भी साफ़ साफ़ नहीं समझा...