Saturday, October 23, 2021

Add News

boudh

बौद्ध श्रमण चिन्तन परम्परा के चिन्तक प्रो. तुलसीराम

बाबासाहब डॉ. भीमराव अम्बेडकर ने अपनी पुस्तक ‘क्रान्ति और प्रतिक्रान्ति’ में लिखा है कि भारतीय इतिहास दो संस्कृतियों के बीच संघर्ष का इतिहास है। ये दो संस्कृतियाँ हैं- वैदिक ब्राह्मण संस्कृति तथा बौद्ध श्रमण संस्कृति। एक तरफ जहाँ वैदिक...

किसान आंदोलन में पहुंचे बौध भिक्षु, 8वें दौर की बातचीत आज

किसान आंदोलन का आज 40वां दिन है। इस बीच आज सरकार और किसान यूनियनों के बीच आठवें दौर की बातचीत दोपहर 2 बजे दिल्ली के विज्ञान भवन में होनी है। आज की वार्ता के नतीजे आने वाले दिनों में...

शिक्षक दिवस: भारतीय सभ्यता और संस्कृति में गुरु-शिष्य परंपरा के मायने

गुरु शिष्य परंपरा भारतीय सभ्यता और संस्कृति का अभिन्न अंग रही है और भारतीय सभ्यता और संस्कृति ब्राह्मणवादी संस्कृति का ही दूसरा नाम है। इस दृश्यमान भौतिक जगत में ब्राह्मणवादी संस्कृति ने काल्पनिक ईश्वर की धारणा को जन्म दिया...
- Advertisement -spot_img

Latest News

कहर साबित हुई उत्तराखंड में बेमौसम बारिश

अत्यधिक वर्षा, भूस्खलन और तबाही, जलवायु परिवर्तन के लक्षण साफ हैं। पर हम जलवायु-परिवर्तन को लेकर बड़ी-बड़ी बातें करते...
- Advertisement -spot_img