Estimated read time 2 min read
बीच बहस

क्या सत्ता में बैठे व्यक्ति को अहंकारी होना चाहिए?

इस समय राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के द्वारा भारतीय जनता पार्टी के नेतृत्व पर जबरदस्त हमला हो हो रहा है। राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ का [more…]

Estimated read time 1 min read
राज्य

भोपाल: हज़ारों पेड़ों को काट कर विधायकों के लिए नये बंगलों का निर्माण

भोपाल। इस समय मध्यप्रदेश में मंत्रियों तथा विधायकों के निवास को लेकर विवाद चल रहा है। शासन इनके लिये नये बंगलों के निर्माण की योजना [more…]

Estimated read time 1 min read
राज्य

मध्यप्रदेश में कांग्रेस की शर्मनाक हार का कौन ज़िम्मेदार ?

कमज़ोर नेतृत्व, संगठनात्मक कमियां, दिग्विजय सिंह को उम्मीदवार बनाना, कमलनाथ के बारे में अनेक प्रकार की अफवाहें, धार्मिक मामलों में भाजपा के साथ नकल करना ये सब वे कारण [more…]

Estimated read time 1 min read
संस्कृति-समाज

अपनी मौत के पहले नवलनी ने संघर्ष की गाथा से भरपूर अपनी जीवनी लिखी थी

रूस के बहादुर नेता एलेक्सी नवलनी (Aleksei Navalny) ने जेल में अपनी हत्या के पहले अपनी जीवनी लिखी। जीवनी में वे अपने संघर्ष की गाथा [more…]

Estimated read time 1 min read
ज़रूरी ख़बर

दलितों को आशंका है कि संविधान बदला जा सकता है

देश के विभिन्न क्षेत्रों में रहने वाले दलित महसूस करते हैं कि 2024 के लोकसभा के चुनाव के बाद संविधान में परिवर्तन का प्रयास किया [more…]

Estimated read time 1 min read
राज्य

अभिजीत गंगोपाध्याय: न्यायपालिका में भी दीमक लगने लगी

पहले से ही दल-बदल चुनावी लोकतंत्र को पूरी तरह से नष्ट करने पर आमादा है। इसी बीच न्याय के क्षेत्र में एक ऐसी घटना हुई [more…]

Estimated read time 1 min read
राजनीति

कश्मीर समस्या को उलझाने में ब्रिटेन और अमेरिका की साजिशों की भूमिका

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भारतीय जनता पार्टी सहित संपूर्ण संघ परिवार जवाहरलाल नेहरू को कश्मीर की समस्या के लिए उत्तरदायी मानता है। परंतु कश्मीर समस्या के [more…]

Estimated read time 1 min read
राजनीति

भारत के चुनावों को करोड़पतियों ने किया हाईजैक, दलबदल से खतरे में लोकतंत्र

हमारे देश के चुनावों को करोड़पतियों ने हाईजैक कर लिया है। जितने उम्मीदवार चुनावी मैदान में उतरते हैं उनमें से बहुसंख्यक करोड़पति होते हैं। चूंकि [more…]

Estimated read time 1 min read
संस्कृति-समाज

संस्कृति, संगीत, नृत्य, कला और खेल की सीमाएं नहीं होतीं

“संस्कृति, संगीत, नृत्य, खेल, कला की सीमाएं नहीं होती हैं। आंखों को वीजा की जरूरत नहीं होती। सपनों की सरहद नहीं होती। बंद आंखों से [more…]

Estimated read time 1 min read
राजनीति

फुले दंपत्ति का स्वप्न और दलितों-पिछड़ों और महिलाओं की वर्तमान स्थिति

हाल में मैंने फॉरवर्ड प्रेस, दिल्ली द्वारा प्रकशित जोतिराव फुले की पुस्तक ‘गुलामगिरी’ का हिंदी अनुवाद और उनकी पत्नी सावित्रीबाई फुले पर केन्द्रित ‘सावित्रीनामा’ पढ़ा। [more…]