Subscribe for notification

अंबरीश कुमार

संपूर्ण क्रांति दिवस के मौके पर: मंच पर गांधी थे नीचे मैं वालंटियर -पारीख

मुंबई। देश का माहौल बदला हुआ है। आजादी के समय गांधी, नेहरु और पटेल थे। बोस थे तो जेपी और…

4 months ago

एक विद्रोही का ऐसे असमय जाना !

अजीत जोगी अचानक ऐसे चले जाएंगे यह उम्मीद तो नहीं थी। अपना नाता दो दशक से पुराना रहा। इंडियन एक्सप्रेस…

4 months ago

नौतपा में रेल में तपते मजदूर !

नौतपा शुरू हो गया है। पच्चीस मई से। नौ दिन देश तपेगा खासकर उत्तर भारत। और इसी नौतपा में तपेंगे…

4 months ago

तपती गर्मी में भूखे प्यासे पैदल चलते लोग

हम मई के ठीक मध्य में खड़े हैं। मौसम बेहद गर्म है और कुछ जगहों पर गर्म हवा चलने लगी…

4 months ago

मानसरोवर से सिताब दियारा तक सरजू का सफ़र !

हम कभी मानसरोवर की यात्रा पर नहीं गए। पर अपने गांव की नदी तो मानसरोवर से ही आती है। फोटो…

4 months ago

यह मजदूरों का मार्च है, मज़बूरी का मार्च है !

देश में मजदूरों का लांग मार्च शुरू हो गया है। सुबह खबर आई कि सोलह मजदूर रेल की पटरी पर…

5 months ago

लॉकडाउन का चालीसवां पर कैसे हो घर वापसी

लॉकडाउन का चालीसवां होने जा रहा रहा। देश के इतिहास में कभी समूचा देश इतने वक्त तक बंद नहीं रहा।…

5 months ago

तो सुशासन का श्राद्ध कर रहे हैं नीतीश बाबू !

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार अपने तथाकथित सुशासन का श्राद्ध करते नजर आ रहे हैं। फिलहाल बिहार के मौजूदा हाल…

5 months ago

दिल्ली से पैदल गांव लौटता हताश लोकतंत्र !

वे दिल्ली से लौट रहे हैं। क्योंकि दिल्ली से उन्हें लौटा दिया गया है। लौटने का कोई साधन नहीं है।…

6 months ago

इकाई में क्यों सिमटी दिल्ली की यह लड़ाई!

दिल्ली विधान सभा चुनाव में जो हुआ वह अप्रत्याशित है। इसकी उम्मीद तो नहीं थी। भाजपा ने ढाई सौ सांसद,…

7 months ago