Tuesday, November 29, 2022

केके राय

स्मृति शेषः यहीं कहीं हैं, कहीं गए नहीं हैं अरुण

स्वर काफी धीमा था पर आवाज अरुण की ही थी, वो अस्पताल से लौटे थे पहली बार, कमल भाई, समय लगेगा मगर मैं ठीक हो जाऊँगा। अपने पर घनघोर विश्वास ही अरुण की ताकत थी। यह अक़ीदा उनमें बार-बार...

विशेष लेख: यह सुप्रीम कोर्ट का काला दौर है

पहले कुछ तारीखों पर गौर कर लिया जाए-  30 जनवरी, 2020 को केरल राज्य के त्रिशूर जिले में कोरोना के  पहले मरीज की पहचान हुई जो चीन के यूहान प्रांत से आया एक छात्र था।4 फरवरी, 2020 को केरल की...

आखिरी वक्त में भी हाथ उठाकर बंधी रही चितरंजन भाई की मुट्ठी!

चितरंजन भाई अपने गांव लौट गए थे। कुछ महीने पहले। ग्राम सुल्तानपुर, तहसील बांसडीह, जिला बलिया, घाघरा का कछार और दियारे के एक कोने में ऊंचाई पर टिका गांव। चितरंजन भाई अपने जीवन का वृत्त पूरा कर रहे थे। सोचने...

About Me

3 POSTS
0 COMMENTS

Latest News

कस्तूरबा नगर पर DDA की कुदृष्टि, सर्दियों में झुग्गियों पर बुलडोजर चलाने की तैयारी?

60-70 साल पहले ये जगह एक मैदान थी जिसमें जगह-जगह तालाब थे। बड़े-बड़े घास, कुँए और कीकर के पेड़...