Monday, November 29, 2021

Add News

निर्मल कुमार शर्मा

बयानों तक क्यों सीमित हैं मी लॉर्ड के अल्फाज?

'अधिनायकवादी सरकारें अपनी सत्ता को मजबूत करने की खातिर झूठ पर निर्भरता के लिए जानी जातीं हैं, हम देखते हैं कि दुनियाभर के देशों में कोविड-19-डेटा में हेर-फेर करने की प्रवृत्ति बढ़ रही है, इसलिए जरूरी है कि समाज...

अमेरिका का अफगानिस्तान युद्ध से पलायन बनाम उसका झूठ

काबुल एयरपोर्ट के बाहर हुए एक जबर्दस्त फियादीन बम विस्फोट में जिसमें 157 आम अफगान नागरिकों और 13 अमेरिकी सैनिकों की मौत हो गई थी, इस भयावय विस्फोट में बच गये एक अमेरिकी ने तालिबान आंतकवादियों द्वारा मार दिए...

‘राष्ट्रीय पोषण सप्ताह’ का सरकारी ढोंग बनाम भूख से मरती मुल्क की 19 करोड़ जनता

भारत में सन् 1982 से 1 सितम्बर से 7 सितम्बर तक एक सप्ताह ‘राष्ट्रीय पोषण सप्ताह’ मनाने की शुरूआत की गई है। सरकारी दावे के अनुसार इस सप्ताह को मनाने का मुख्य उद्देश्य आम जनता में पोषण के बारे...

बीजेपी की रिश्वतखोर संस्कृति ने ली फिरोजाबाद में 46 मासूमों की जान

उत्तर प्रदेश के फिरोजाबाद में लगातार मरते बच्चों की हालत का जायजा लेने के लिए आगरा के मंडलायुक्त ने जिले का दौरा किया और मुख्य चिकित्साधिकारी से मिलकर मामले की जानकारी ली। फिरोजाबाद की मुख्य चिकित्साधिकारी के अनुसार फिरोजाबाद...

जातीय भेदभाव और धार्मिक नफरत का दंश झेलता हिंदू समाज

अभी पिछले दिनों इंदौर शहर में एक गरीब चूड़ी बेचने वाले को घोर जातिवादी और सत्ता प्रायोजित गुँडों के एक भगवाधारी समूह के लोग एक हिन्दू मुहल्ले में चूड़ी बेचने के कथित अक्षम्य अपराध के लिए चारों तरफ से...

मॉब लिंचिंग राज बन गया है मोदी-योगी-शिव ‘राज’

मोदीराज के कथित रामराज में सत्ता प्रायोजित गुंडों द्वारा अल्पसंख्यकों और दलितों की हत्या करने की होड़ लगी हुई है। विभिन्न संस्थाओं द्वारा जुटाए गए कुछ आंकड़ों के अनुसार सन् 2014 से 2018 तक के सिर्फ 5 साल के...

हमें प्रगतिशील भारत चाहिए या अंधविश्वासी भारत ? एक निष्पृह व निर्भीक समीक्षा

आज वास्तव में इस देश में रहकर यह विश्वास करना कठिन होता जा रहा है कि हम भारत के लोग क्या वास्तव में इक्कीसवीं सदी के ज्ञान-विज्ञान के अंतरिक्ष युग में जी रहे हैं या हम आज से दस-बीस...

भारत में नये चरण में पहुंच गया है राजनीति के अपराधीकरण का खेल

'हमारे हाथ बंधे हैं। हम केवल कानून बनाने वालों की अंतरात्मा से अपील कर सकते हैं कि वे कुछ करें। उम्मीद है वे एक दिन जागेंगे और राजनीति में अपराधीकरण को खत्म करने के लिए बड़ी सर्जरी करेंगे' -भारतीय उच्चतम...

महाबली को खानी पड़ी अफगानिस्तान में मुंह की

'बोतल का जिन्न बोतल से बाहर आकर अपने आका को ही खा गया। 'यह आमजन में प्रचलित एक लोकप्रिय मुहावरा है, परंतु आज अफगानिस्तान की सत्ता पर पुनर्वापसी कर आतंकवादी तालिबान ने उक्त बात को ही गंभीरता से परिपुष्ट...

खाकी की भेष में छुपे अपराधियों को कब मिलेगी सजा

हमारा संविधान कहता है कि 'जब तक किसी व्यक्ति पर किसी सक्षम न्यायालय द्वारा अपराध सिद्ध नहीं हो जाता, उनसे अपराधी की तरह व्यवहार नहीं किया जाना चाहिए, उनसे क्रूरतापूर्ण व्यवहार बिल्कुल नहीं होना चाहिए', लेकिन भारतीय कथित लोकतंत्र...

About Me

32 POSTS
0 COMMENTS

Latest News

भारत-माता का संदर्भ और नागरिक, देश तथा समाज का प्रसंग

'भारत माता की जय' भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन के दौरान सबसे अधिक लगाया जाने वाला नारा था। भारत माता का...