Tuesday, November 29, 2022

पुष्पराज

नाटक की प्रयोगशाला में एक नूतन प्रयोग है पुंज प्रकाश का ‘पलायन’

सच्चाई है कि लुटियन के टीले पर जारी नाटक के समक्ष भारत के तमाम नाटक अप्रासंगिक होते जा रहे हैं। बावजूद इसके जनता का नाटक और सत्ता के नाटक का फर्क करते हुए हमने बरसों बाद पटना में नाटक...

गरीब दशरथ मांझी के ब्रांड नेम की सबको दरकार है!

गर्वीली गरीबी के नायक दशरथ मांझी को हम क्यों याद कर रहे हैं। भारत के श्रमिकों के आईकॉन दशरथ मांझी का कल 13 वां परिनिर्वाण दिवस था। हम दशरथ मांझी की पुण्यतिथि को परिनिर्वाण दिवस इसलिए लिख रहे हैं...

फांसी के फंदे पर चढ़ते वक्त क्रांतिकारी खुदीराम बोस के हाथ में नहीं थी गीता

यह सुयोग ही है कि भारतीय स्वाधीनता संग्राम के महान क्रांतिकारी खुदीराम बोस का शहादत दिवस मनाने के चौथे दिन बाद ही भारत की आज़ादी का उत्सव मनाया जाता है। आज जब भारत के हुक्मरान आज़ादी दिवस के जश्न...

About Me

3 POSTS
0 COMMENTS

Latest News

कस्तूरबा नगर पर DDA की कुदृष्टि, सर्दियों में झुग्गियों पर बुलडोजर चलाने की तैयारी?

60-70 साल पहले ये जगह एक मैदान थी जिसमें जगह-जगह तालाब थे। बड़े-बड़े घास, कुँए और कीकर के पेड़...