Tuesday, March 5, 2024

विशद कुमार

थम नहीं रही है प्रवासी मजदूरों की परेशानी

रांची। झारखंड के दूसरे राज्यों में फंसे मजदूरों की परेशानी थमने का नाम नहीं ले रही है। आज फिर प्रवासी मजदूरों का एक मामला संज्ञान में आया है। रांची जिले के लापुंग प्रखंड के लालगंज गांव के तीन मजदूरों...

जनचौक पर प्रकाशित खबर ने लाया रंग, बंधक बने झारखंड के मजदूरों को लाने अंडमान निकोबार जा रहा है प्लेन

रांची। अंडमान निकोबार में फंसे 150 से ज्यादा मजदूरों के बारे में जनचौक पर प्रकाशित खबर रंग लायी। मामले का झारखंड सरकार ने संज्ञान लेकर मजदूरों की घर वापसी के लिए तत्काल विमान भेजने का फैसला किया है। आज...

झारखंड के मजदूरों को अंडमान निकोबार में बनाया बंधक

रांची। झारखण्ड के विभिन्न क्षेत्रों रांची, गुमला, खूंटी, सरायकेला आदि जिलों के लगभग 150 मजदूर अंडमान निकोबार द्वीपसमूह के पोर्टब्लेयर में एक बिल्डर मेसर्स-सुरेंद्र इंफ्रा. प्रा.लि. कंपनी के यहां काम कर रहे थे। लॉकडाउन के बाद काम बंद हो...

नहीं थम रही महिलाओं के साथ बर्बरता! बदचलनी का आरोप लगाकर बोकारो में एक महिला को निर्वस्त्र घुमाया

बोकारो। ’औरत तेरी यही कहानी........ आज इक्कीसवीं सदी में यह कविता कुछ बेमानी सी लगती है। लेकिन आज भी जब हम अपने इर्द-गिर्द के सामाजिक परिदृष्य पर नजर दौड़ाते हैं, तो हम इस कविता की पंक्ति को काफी हद तक...

फिर भूख से मर गई झारखण्ड की 5 वर्षीय बेटी

लातेहार जिला मुख्यालय से लगभग 40 किमी दूर मनिका प्रखण्ड अन्तर्गत डोंकी पंचायत, हेसातु गाँव के एक दलित परिवार की 5 वर्षीया बच्ची निमनी कुमारी की भूख से मौत हो गई है।  इस गाँव में करीब 35 भुईयाँ परिवार रहते...

अव्यवस्था देखकर पलामू अस्पताल में भर्ती कई टीबी मरीज़ भागे अपने घर, कहा-इससे साफ़ तो मेरा घर है

पलामू। दुनिया भर में ट्यूबरकुलोसिस (टीबी) से हर साल लगभग 15 लाख लोगों की मौत हो जाती है। दुनिया की लगभग एक चौथाई आबादी टीबी से संक्रमित है। जिसमें भारत का पहला स्थान है, भारत में 27 प्रतिशत लोग...

प्रवासी मज़दूरों की लड़खड़ाती ज़िंदगी में मनरेगा कर सकता है बैसाखी का काम

राँची। जब केंद्र सरकार की पहल पर अन्य राज्यों में फंसे राज्य के मजदूरों को लाने की प्रक्रिया शुरू हो गई है और पहली खेप में 1250 अप्रवासी मजदूर झारखंड लाए जा चुके हैं। तब सवाल उठता है कि...

रांची में क्रूर मज़ाक़ की भी इंतहा! पार्षद ने बांटा- पांच सदस्यों वाले परिवारों को 1.50 किलो चावल और 250 ग्राम दाल

रांची। भले ही कोरोना कहर के कारण आज पूरा देश लॉकडाउन का दंश झेल रहा है, लेकिन झारखंड अपने अलग राज्य गठन के 20 वर्षों के बाद अपनी ही समस्याओं के लॉकडाउन से ग्रस्त है। झारखंड अलग राज्य की...

महाआपदा के इस दौर में भी भूखों के मुँह से नेवाला छीन लेने पर उतारू है झारखंड की नौकरशाही

राँची। पूरी दुनिया कोरोना से जंग लड़ रही है, भारत भी इससे अछूता नहीं है। पूरे देश में 3 मई तक लॉकडाउन है। देश के करोड़ों गरीब-मजदूर रोजगार और भूख को लेकर भयभीत हैं। एक तरफ सरकार किसी को...

झारखंड में सड़कों पर आयी पेट की आग, ‘भाषण नहीं, राशन चाहिए’ के नारे के साथ लोगों ने किया प्रदर्शन

रांची। कोरोना संक्रमण से बचने लिए पूरा देश पिछले कई दिनों से लॉकडाउन में है। इस लॉकडाउन से पूरे देश के गरीबों, दिहाड़ी मजदूरों एवं रोजगार के लिए गये दूसरे राज्यों में फंसे मजदूरों के जीवन पर बहुत बुरा...

About Me

521 POSTS
0 COMMENTS

Latest News

ग्रामीण अर्थतंत्र के बीच किसानों की जिजीविषा को बड़े परिदृश्य पर रखता हरियश राय का उपन्‍यास माटी-राग

वाणी प्रकाशन समूह द्वारा प्रकाशित हरियश राय के नये उपन्‍यास माटी- राग का लोकार्पण विश्व पुस्‍तक मेले में किया...