Monday, January 24, 2022

Add News

कुशल लोकतंत्र के लिए स्वतंत्र और निडर प्रेस आवश्यक:चीफ जस्टिस

ज़रूर पढ़े

एक कुशल लोकतंत्र के लिए स्वतंत्र और निडर प्रेस आवश्यक है लेकिन समाचारों के साथ विचारों का मिश्रण खतरनाक कॉकेटल है।चीफ जस्टिस एनवी रमना ने बुधवार को सत्ता से सच बोलने में पत्रकारों द्वारा निभाई गई “महान” भूमिका को रेखांकित किया।उन्होंने कहा कि एक पत्रकार का पेशा एक वकील के समान ही महान होता है। सत्ता से सच बोलना और समाज के सामने आईना रखना एक बहुत बड़ी जिम्मेदारी है जिसे निभाना बेहद मुश्किल है। उन्होंने यह भी कहा कि मीडिया घरानों को रिपोर्टिंग, विशेष रूप से कानूनी रिपोर्टिंग के लिए विशेषज्ञों में निवेश करने की आवश्यकता है।

उन्होंने कहा कि एक कुशल लोकतंत्र के लिए एक निडर प्रेस होना जरूरी है। कहा जाता है कि कानूनी पेशा एक नेक पेशा है। लेकिन मैं कह सकता हूं कि पत्रकार का पेशा उतना ही नेक होता है। एक पत्रकार के रूप में अपना पेशेवर करियर शुरू करने वाले व्यक्ति के रूप में, मैं आपकी कठिनाइयों और संघर्षों को समझ सकता हूं। सत्ता से सच बोलना और समाज के सामने आईना रखना एक बहुत बड़ी जिम्मेदारी है जिसे निभाना बेहद मुश्किल है।

उन्होंने कहा कि एक पत्रकार को कठिन जीवन जीने के बावजूद, पेशे को कम भुगतान किया जाता है और वेतन उत्साहजनक नहीं होता है।उन्होंने कहा कि आप लंबे समय तक अपने पैरों पर खड़े रहते हैं और लगातार कॉल और काम पर रहते हैं। छुट्टियां कम हैं और बीच में हैं और परिवार के साथ बिताने के लिए समय निकालना मुश्किल है। आपके परिवार पर तनाव भी बहुत अधिक है। वेतन भी बहुत उत्साहजनक नहीं है।

वह पत्रकारिता में उत्कृष्टता के लिए दिए जाने वाले रेड इंक अवार्ड्स 2021 में मुख्य भाषण दे रहे थे। उन्होंने सभी विजेताओं को सम्मानित करते हुए इस बात पर रोशनी डाली कि मजबूत लोकतंत्र के लिए पत्रकारिता और सच्चे रिपोर्ताज कितने जरूरी हैं, वहीं उन्होंने खबरों को ‘एक तरह का रंग’ दिये जाने की आलोचना की।

जस्टिस रमना ने डिजिटल मीडिया और सोशल मीडिया के आगमन के कारण पत्रकारिता के क्षेत्र में आए परिवर्तनों पर भी प्रकाश डाला।उन्होंने कहा कि प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के विपरीत, दुर्भाग्य से, यूट्यूब जैसे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म को जवाबदेह ठहराना लगभग असंभव है, भले ही वे सबसे अपमानजनक और अपमानजनक सामग्री की मेजबानी करते हैं, जिसमें करियर और जीवन को बर्बाद करने की क्षमता है।

उन्होंने कहा कि एक और प्रवृत्ति जो मैं आजकल रिपोर्टिंग में देख रहा हूं, वह है समाचार में वैचारिक रुख और पूर्वाग्रहों का रिसना। व्याख्या और राय रंग दे रही है कि तथ्यात्मक रिपोर्ट क्या होनी चाहिए। विचारों के साथ मिश्रित समाचार एक खतरनाक कॉकटेल है।उन्होंने कहा कि टकराव की राजनीति और प्रतिस्पर्धी पत्रकारिता के घातक संयोजन से ज्यादा घातक कुछ भी लोकतंत्र के लिए नहीं हो सकता।

चीफ जस्टिस ने रॉयटर्स के फोटो जर्नलिस्ट दानिश सिद्दीकी को भी श्रद्धांजलि दी, जो अफगान सुरक्षा बलों और तालिबान के बीच संघर्ष को कवर करते हुए मारे गए थे।चीफ जस्टिस ने कहा कि वह एक जादुई आंख वाले व्यक्ति थे और उन्हें इस युग के अग्रणी फोटो जर्नलिस्टों में से एक माना जाता था। अगर एक तस्वीर एक हजार शब्दों को बता सकती है, तो उनकी तस्वीरें उपन्यास थीं।

जस्टिस रमना ने अदालत के फैसलों की खासतौर पर सोशल मीडिया पर व्याख्या किये जाने और न्यायपालिका पर हमलों की बढ़ती प्रवृत्ति का उल्लेख करते हुए कहा कि प्रेस को न्यायपालिका में विश्वास प्रकट करना चाहिए।उन्होंने कहा कि आजकल रिपोर्टिंग में मैं एक और चलन देख रहा हूं कि खबर में वैचारिक रुझान और पूर्वाग्रह आ जाता है।

उन्होंने कहा कि एक तरह से पत्रकार न्यायाधीशों की तरह होते हैं। आपको अपनी विचारधारा और आस्था से परे बिना किसी से प्रभावित हुए काम करना चाहिए। आपको केवल तथ्यों को बताना चाहिए और पूरी एवं सच्ची तस्वीर पेश करनी चाहिए।

उन्होंने कहा कि लोकतंत्र के अहम हितधारक के रूप में मीडिया का कर्तव्य न्यायपालिका को बुरी ताकतों के हमलों से बचाना है। जस्टिस रमना ने कहा कि मिशन लोकतंत्र में और राष्ट्रीय हितों को बढ़ावा देने में हम साथ हैं। हमें साथ चलना होगा।

(वरिष्ठ पत्रकार जेपी सिंह की रिपोर्ट।)

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

कब बनेगा यूपी की बदहाली चुनाव का मुद्दा?

सोचता हूं कि इसे क्या नाम दूं। नेताओं के नाम एक खुला पत्र या रिपोर्ट। बहरहाल आप ही तय...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This

- Advertisement -