पहला पन्ना

मेवात फिर उबला, युवक की रहस्यमय मौत के बाद हिंसा

पुन्हाना (मेवात)। हरियाणा के मेवात में जुनैद नामक 21 वर्षीय युवक की संदिग्ध हालात में मौत के बाद आज शनिवार को पुन्हाना कस्बे में जमकर हिंसा हुई। कई वाहनों में आग लगा दी गई, पुलिस की गाड़ी में तोड़फोड़ की गई। मेवात में इस वक्त पुलिस और सरकार विरोधी माहौल है। एक दूसरे मामले में अभी हाल ही में हुई हिन्दू महापंचायत के बाद यहां हालात वैसे ही खराब चल रहे थे, उसके बाद शनिवार को इस घटना के बाद पूरा मेवात उबल पड़ा है।

हरियाणा में मेवात का इलाका निकट भविष्य में खट्टर सरकार के लिए मुसीबत बन सकता है। महापंचायत में समुदाय विशेष के खिलाफ जहर उगलने वाले और थाना फूंकने की धमकी देने वाले करणी सेना के अध्यक्ष सूरजपाल अम्मू और अन्य नेताओं पर कार्रवाई न होने पर मेवात के लोग पहले से ही नाराज चल रहे हैं।

क्या है पूरा मामला

जुनैद पेंटर का काम करता है। वह मेवात के गांव जमालगढ़ का रहने वाला था। उसे 31 मई को दूसरे जिले में फरीदाबाद पुलिस की साइबर टीम ने कुछ युवकों के साथ पकड़ा था। एक दिन बाद पुलिस ने उसे छोड़ दिया। शुक्रवार देर रात उसकी मौत हो गई। शनिवार को सुबह जैसे ही उसकी मौत की खबर फैली पुन्हाना में जबरदस्त तनाव फैल गया। भारी तादाद में युवक सड़कों पर निकल आए और उन्होंने पुलिस वाहनों पर पथराव करके उन्हें तोड़ डाला। कुछ वाहनों में आग लगा दी गई। पुलिस ने मुश्किल से हालात पर काबू पाया।

जुनैद के परिवार का आरोप है कि जुनैद को कुछ युवकों के साथ फरीदाबाद साइबर पुलिस ने गिरफ्तार किया था। परिवार ने कथित तौर पर 70 हजार रुपये देकर उसे फरीदाबाद साइबर पुलिस के चंगुल से छुड़ाया। उन्होंने आरोप लगाया कि पुलिस ने जुनैद को जमकर टॉर्चर किया, जिससे उसकी दस दिनों बाद मौत हो गई। इस सिलसिले में जुनैद का जो फोटो सामने आया है, उसमें पुलिस हिरासत से छूटने के बाद जब वो बाहर आया तो ठीक से चल नहीं पा रहा था और उसके पैरों और शरीर में अन्य जगह चोटों के निशान थे।

क्या कहती है पुलिस

फरीदाबाद पुलिस ने अपने बयान में यह स्वीकार किया कि जुनैद निर्दोष था। लेकिन उसकी मौत पुलिस यातना से नहीं हुई बल्कि उसकी किडनी खराब थी, इसलिए उसकी मौत हो गयी। पोस्टमॉर्टम से सब कुछ साफ हो जाएगा।

पुलिस ने अपने बयान में कहा कि तिलपत के रहने वाले सोनू के साथ 80,000 रुपये की वित्तीय गड़बड़ी हुई थी। इसकी एफआईआर 28 सितंबर, 2020 को फरीदाबाद के साइबर थाने में दर्ज हुई थी। पुलिस का आरोप है कि जुनैद के दो सगे भाई इरशाद, आजाद और एक उनका ममेरा भाई इस फ्रॉड में शामिल हैं। इनको पुलिस गिरफ्तार कर चुकी है। पुलिस ने बैंक से तकनीकी डिटेल्स निकलवाई तो पता चला कि मेवात क्षेत्र के आरोपी इसमें शामिल हैं। जांच के दौरान 31 मई की रात को शाहिद व पांच अन्य लोगों से पूछताछ की गई। शाहिद को गिरफ्तार कर लिया गया और जुनैद जो किडनी रोग से ग्रस्त था, उसे आजाद के हवाले कर दिया गया था। पुलिस ने इस आरोप से इन्कार किया कि साइबर पुलिस ने किसी को किसी भी तरह की कोई यातना दी थी।

लोगों ने उठाए सवाल

फरीदाबाद पुलिस की कहानी पर मेवात के लोगों ने आज पुन्हाना में सवाल उठाए। उन्होंने कहा कि फरीदाबाद पुलिस को कैसे मालूम कि 21 साल का जुनैद किडनी की बीमारी से ग्रस्त था? जब उसे रिश्वत लेने के बाद छोड़ा गया तो उसके शरीर पर चोट के निशान कहां से आए। पुलिस ने जुनैद के पूरे परिवार को अपराधी प्रवृत्ति का करार दे दिया है। उसके दो भाई आजाद और इरशाद पुलिस की कस्टडी में हैं, सवाल ये है कि क्या पूरा परिवार इतना पढ़ा लिखा है कि वो साइबर क्राइम में जुटा हुआ है, जबकि जुनैद खुद पेंटर का काम करता था। लोगों ने कहा कि जब फरीदाबाद पुलिस खुद कह रही है कि उसने जुनैद को आजाद के हवाले सही सलामत किया था, तो कौन से आजाद को सौंपा गया और कौन सा आजाद अभी भी पुलिस की कस्टडी में है। लोगों ने आरोप लगाया कि दोनों भाइयों की गिरफ्तारी का सीधा सा अर्थ है कि वे उन्हें तभी छोड़ेंगे जब जुनैद का परिवार पुलिस पर से अपने आरोप वापस ले लेगा।

जुनैद।

इस संबंध में एक आडियो क्लिप भी सोशल मीडिया पर शेयर की गई है। जिसमें फरीदाबाद पुलिस का कोई अधिकारी जुनैद की मां से फोन पर बात करने के दौरान कह रहा है कि वो सीधे फरीदाबाद आकर उनसे संपर्क करे। वो इधर उधर से फोन पर सिफारिश क्यों करवा रही है। इस कथित आडियो क्लिप में किसकी आवाज है, यह तो स्पष्ट नहीं है लेकिन बातचीत के अंदाज से वो पुलिस की भाषा लग रही है। पु

न्हाना के विधायक मोहम्मद इलियास खान का कहना है कि मेवात के लोगों ने फरीदाबाद में पुलिस कमिश्नर ओ.पी. सिंह से भी जाकर मुलाकात की थी। पुलिस कमिश्नर ने गांव वालों के सामने निर्दोष लोगों को छोड़ने का निर्देश साइबर पुलिस को दिया था। लेकिन निचले स्तर पर पुलिस वालों ने पैसा खाने के लिए जुनैद पर अत्याचार किया। एमएलए ने कहा कि चाहे उन्हें हथकड़ी लगा दी जाए, लेकिन वे जुनैद के परिवार को इंसाफ दिलाने के लिए लड़ेंगे। मोहम्मद इलियास खान मेवात से चार बार से लगातार विधायक बनते आ रहे हैं। वे हरियाणा कैबिनेट में मंत्री भी रह चुके हैं। उनके पिता रहीम खान यहां से सासंद भी रह चुके हैं। 

उबल रहा है मेवात

हरियाणा का मुस्लिम बहुल मेवात इस समय लगातार सुर्खियों में बना हुआ है। पिछले दिनों भीड़ ने खेड़ा खलीलपुर में जिम ट्रेनर आसिफ की हत्या कर दी थी और उसके दो भाइयों को घायल कर दिया था। तीनों भाई मां की दवाई लेकर घर लौट रहे थे। पुलिस में दो दर्जन लोगों के खिलाफ नामजद एफआईआर होने पर मुख्य अभियुक्त और भाजपा कार्यकर्ता प्रदीप उर्फ पटवारी समेत 9 लोगों को गिरफ्तार किया गया। लेकिन बाद में पुलिस ने चार युवकों को निर्दोष बताया। आसिफ हत्याकांड में पुलिस ने जब नामजद आरोपियों की बड़े पैमाने पर गिरफ्तारियां कीं तो इसके विरोध में इंडरी गांव में एक महापंचायत हिन्दू संगठनों ने रखी। इसका आयोजक अरुण जैलदार नामक शख्स था।

इस महापंचायत में दूसरे राज्य के लोगों को बुलाया गया। करणी सेना के अध्यक्ष सूरजपाल अम्मू और बिट्टू बजरंगी ने यहां उकसावे वाले भाषण दिए। मंच से आसिफ हत्याकांड के आरोपियों को छोड़ने की मांग की और न छोड़ने पर थाना फूंकने तक की धमकियां दीं। इसके बाद मेवात में दहशत फैल गई। मेवात के लोगों को जवाबी महापंचायत करने के लिए उकसाया गया लेकिन उन्होंने मना कर दिया। लेकिन जुनैद की मौत के बाद पुन्हाना कस्बे में लोग आज उबल पड़े।

इस संबंध में सोशल मीडिया पर लोग लिख रहे हैं कि हरियाणा की शांति भंग करने के लिए मेवात को किसी न किसी बहाने से निशाना बनाया जा रहा है।

नेता पुलिस को हथियार की तरह इस्तेमाल कर रहे हैं। पुलिस सरकार के दबाव में आकर मेवात के निर्दोष लोगों को तरह-तरह के मुकदमों में फंसा रही है। आए दिन फरीदाबाद, गुड़गांव और अन्य जिलों की पुलिस यहां के युवकों को पकड़ ले जाती है और उन्होंने विभिन्न आरोपों में फंसा दिया जाता है। जबकि पुलिस अधिकारियों का कहना है कि मेवात बहुत बड़ा क्राइम हब बनता जा रहा है। ऊपर से दिलचस्प बात यह है कि जिस अम्मू ने पंचायत में भड़ाकऊ भाषण दिए और जिसे पुलिस को गिरफ्तार करना चाहिए था उसे आज बीजेपी ने अपना सूबे का प्रवक्ता बना दिया है।

(यूसुफ किरमानी वरिष्ठ पत्रकार और राजनीतिक विश्लेषक हैं।)

This post was last modified on June 12, 2021 7:04 pm

Share
%%footer%%