Subscribe for notification

पत्रकार विक्रम जोशी की हत्या, पुलिस नाकामी छुपाने के लिए सांप्रदायिक रंग देने की कर रही कवायद

गाज़ियाबाद में कल बीच सड़क पर पत्रकार विक्रम जोशी को गोली मार दिया गया था, आज सुबह यशोदा अस्पताल में पत्रकार की मौत हो गई है। सूचना है कि गाज़ियाबाद में पत्रकार विक्रम जोशी ने कुछ गुंडो के खिलाफ छेड़छाड़ की रिपोर्ट लिखवायी थी, इसी के चलते गुंडों ने उन्हें गोली मार दी।

बता दें कि गाजियाबाद के विजयनगर थाना क्षेत्र की माता कॉलोनी में सोमवार रात करीब साढ़े दस बजे तीन स्कूटी पर सवार छः बदमाशों ने पत्रकार को गोली मार दी। सिर में गोली लगने से गंभीर रूप से घायल हुए पत्रकार को यशोदा अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां इलाज के दौरान आज सुबह उनकी मौत हो गई। इस मामले में गाजियाबाद पुलिस ने मुख्य आरोपी समेत नौ लोगों को को गिरफ्तार किया है, वहीं चौकी इंचार्ज राघवेंद्र को सस्पेंड कर दिया गया है।

यशोदा अस्पताल के सामने धरने पर बैठे परिजन, बहन ने लगाए चौकी इंचार्ज पर संगीन आरोप

यशोदा हॉस्पिटल के सामने गाज़ियाबाद के पत्रकार, परिवार के साथ धरने पर बैठ गए हैं। डीएम को बुलाने की मांग के साथ परिवार को मुआवजा देने की मांग हो रही है। पत्रकार बता रहे हैं कि गाज़ियाबाद प्रशासन का ये पुराना किस्सा है। गुंडों को पैसों के लिए बचाते हैं।

मृतक पत्रकार विक्रम जोशी की बहन गाजियाबाद पुलिस पर गंभीर आरोप लगा रही हैं। वो कह रही हैं कि उनके भाई की हत्या की प्लानिंग में चौकी इंचार्ज शामिल है। विक्रम जोशी की भांजी के साथ कुछ दिन पहले छेड़छाड़ की घटना हुई थी। इस संबंध में विक्रम जोशी द्वारा थाने में नामजद शिकायत दर्ज़ की गई थी। लेकिन इस मामले में पुलिस ने कोई कार्यवाही नहीं की, जबकि आरोपी पीड़ित पक्ष को लगातार धमकी दे रहे थे। परिजनों का कहना कि विक्रम जोशी पीड़ित परिवार की पैरवी कर रहे थे। इसी बात को लेकर आरोपी ने हत्या की घटना को अंजाम दिया।

पुलिस की दलील जुआ खेलने के लेकर हुआ विवाद बना हत्या की वजह

पुलिस ने पत्रकार की हत्या के केस को नया मोड़ देते हुए इसे जुआ खेलने पर हुए विवाद का मामला बताया है। पुलिस का कहना है कि पत्रकार के परिवार का इलाके में जुआ खेलने वालों से विवाद हुआ था जिसके बाद आरोपियों ने उनकी भांजी से छेड़छाड़ की थी। जबकि पीड़ित के परिवार के अनुसार, पत्रकार अपनी दोनों बेटियों के साथ घर वापस लौट रहे थे, तभी बदमाशों ने उन्हें घेरकर उनके सिर पर गोली मार दी थी। इस मामले में पुलिस अब तक 5 आरोपियों मोहित, दलवीर, आकाश, रवि और शाकिर  को गिरफ्तार भी कर चुकी है। गाजियाबाद पुलिस का कहना है कि जिस इलाके में पत्रकार का घर है, वहां जुआ खेलने पर कई लोगों के खिलाफ कार्रवाई की गई है। पुलिस का कहना है कि घर के बाहर जुआ खेलने की वजह से पत्रकार का आरोपियों से विवाद हुआ था जिसके बाद उन्होंने पत्रकार पर हमला कर दिया।

सोशल मीडिया पर सांप्रदायिक रंग देने की कोशिश

पत्रकार विक्रम जोशी की हत्या पुलिस प्रशासन की नाकामी और अपराधियों के साथ सिस्टम के याराना के चलते हुई है। लेकिन पत्रकार की हत्या में दो मुस्लिम नाम आते ही सोशल मीडिया पर भगवा गैंग पूरे घटनाक्रम को सांप्रदायिक रंग देने में जुट गई है।

This post was last modified on July 28, 2020 9:46 pm

Leave a Comment
Disqus Comments Loading...
Share

Recent Posts

बिहार की सियासत में ओवैसी बना रहे हैं नया ‘माय’ समीकरण

बिहार में एक नया समीकरण जन्म ले रहा है। लालू यादव के ‘माय’ यानी मुस्लिम-यादव…

10 hours ago

जनता से ज्यादा सरकारों के करीब रहे हैं हरिवंश

मौजूदा वक्त में जब देश के तमाम संवैधानिक संस्थान और उनमें शीर्ष पदों पर बैठे…

11 hours ago

भुखमरी से लड़ने के लिए बने कानून को मटियामेट करने की तैयारी

मोदी सरकार द्वारा कल रविवार को राज्यसभा में पास करवाए गए किसान विधेयकों के एक…

12 hours ago

दक्खिन की तरफ बढ़ते हरिवंश!

हिंदी पत्रकारिता में हरिवंश उत्तर से चले थे। अब दक्खिन पहुंच गए हैं। पर इस…

13 hours ago

अब की दशहरे पर किसान किसका पुतला जलायेंगे?

देश को शर्मसार करती कई तस्वीरें सामने हैं।  एक तस्वीर उस अन्नदाता प्रीतम सिंह की…

13 hours ago

प्रियंका गांधी से मिले डॉ. कफ़ील

जेल से छूटने के बाद डॉक्टर कफ़ील खान ने आज सोमवार को कांग्रेस महासचिव प्रियंका…

16 hours ago