Friday, March 1, 2024

bhonsle

स्थाई भाव बन गई है संघियों की वर्चस्ववादी पेशवाई ग्रंथि

शाहजी राजे भोंसले (1594-1664) 17वीं शताब्दी के एक सेनानायक और बीजापुर तथा गोलकुंडा के मध्य स्थित जागीर कोल्हापुर के जागीरदार थे। वे कभी एक सल्तनत का आधिपत्य मानते तो कभी दूसरे का। अंतत: 23 जनवरी, 1664 को शिकार खेलते...

Latest News

हिमाचल में बागी विधायकों को सबक, क्या विपक्षी दलों में टूट-फूट रोकने में सफल होगा?

आज हिमाचल प्रदेश के स्थानीय समाचार पत्रों में राज्य सभा के लिए निर्वाचित भाजपा सांसद हर्ष महाजन का बयान...