Wednesday, April 17, 2024

caa

देश का बहुसंख्यक ‘हिंदू खतरे में है’ से अपने परिवार की रोजी-रोटी को खतरे में पा रहा है 

भाजपा की ओर से ‘अबकी बार 400 पार’ का नारा जोर-शोर से चलाया जा रहा है, जिसे मीडिया ने इतना चलाया कि इंडिया गठबंधन के लिए भी अपना आकलन कर पाना मुश्किल हो रहा है। एक तरफ गरज-गरज कर...

महिला आरक्षण बिल यानि शकुनी का नया पांसा

अंततः वोट कबाड़ने और सत्ता में बने रह कर अपनों को रेवड़ियां बांटने के लिये आखरी पांसा भी फेंक दिया गया है। मनुस्मृति को देश के संविधान से ऊपर मानने वाली, संविधान सभा में हिंदू महिलाओं को अधिकार देने वाले...

समान नागरिक संहिता और हिंदुत्व की राजनीति

2024 के लोकसभा चुनाव में अब मुश्किल से दस महीने शेष हैं और नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भारतीय जनता पार्टी को हर हालत में वह चुनाव जीतना है। ‘सब का साथ, सब का विकास और सब का विश्वास’...

प्यार में शाहीन बाग: प्रतिरोध की ज़मीन पर उगते प्रेम के फूल 

इंकलाब प्रेम की आखिरी मंज़िल है। प्रतिरोध के पत्थर पर ही मुहब्बत के फूल खिलते रहे हैं। 'प्यार में शाहीन बाग' एक ऐसी ही कहानी है, जो खुद में सब कुछ समेटे है। अल्पसंख्यकों के हक़ के सवाल, ध्रुवीकरण...

सीएए आंदोलन: यूपी सरकार ने नुकसान की भरपाई के नोटिस वापस लिए, सुप्रीम कोर्ट ने दिए वसूल राशि लौटाने के निर्देश

उत्तर प्रदेश सरकार ने संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) के विरोध में प्रदर्शन करने वालों के विरुद्ध शुरू की गई समस्त कार्रवाई और भरपाई के लिए जारी नोटिस वापस ले लिए हैं। उच्चतम न्यायालय के जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ व जस्टिस...

देश में किसी व्यक्ति को एक ही कार्यकाल के लिए प्रधानमंत्री होना चाहिए: अरुंधति रॉय

आज जब हम नई दिल्ली के जामिया मिलिया इस्लामिया पर दिल्ली पुलिस के हमले के दो साल पूरे होने को याद कर रहे हैं, तो हमें सीएए-एनआरसी से बात शुरू करनी चाहिए। हमें यह याद करने की ज़रूरत है...

नार्थ ईस्ट डायरी: कृषि कानून निरस्त होने के बाद असम में सीएए विरोधी आंदोलन फिर से शुरू करेंगे जन संगठन

तीन विवादास्पद कृषि कानूनों को निरस्त करने के नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार के फैसले के बाद असम में एक बार फिर से सीएए (नागरिकता संशोधन अधिनियम) के विरोध की आवाज गूंज रही है और राजनीतिक दलों सहित...

सत्ता के इशारे पर जांच एजेंसियों का नतमस्तक होना लोकतंत्र के लिए खतरनाक: रिहाई मंच

लखनऊ। रिहाई मंच ने पुलिस की कार्यशैली पर सवाल उठाते हुए कहा कि दिल्ली दंगा हो या उत्तर प्रदेश सीएए आंदोलन का पुलिसिया दमन, सरकारी मशीनरी के दुरूपयोग की गंध हर जगह मौजूद है। रिहार्इ मंच अध्यक्ष मुहम्मद शुऐब ने...

भारत की आज़ादी के दिन लंदन में लगे ‘मोदी गद्दी छोड़ो’ के बैनर

आज भारत की आज़ादी के 75वीं वर्षगांठ की भोर में लंदन में ऐतिहासिक वेस्टमिन्स्टर पुल से ‘मोदी गद्दी छोड़ो’ का बैनर लटकाया गया। आज 15 अगस्त को जैसे ही लंदन में भोर हुई, प्रवासी भारतीयों के सदस्य और भारत के...

अखिल गोगोई का एनआईए कोर्ट से बरी किया जाना असाधारण घटना

अखिल गोगोई अंततः जेल से छूट गए। जेल के बारे में मेरी यह स्थाई मान्यता है कि कोई भी जेल में स्थाई तौर पर नहीं रहता। समय कम ज्यादा लगता है लेकिन आरोपी जेल से बाहर आ ही जाता है।...

Latest News

लोकतंत्र में चुनाव लघुता का पर्व और गर्व होता है, प्रभुता का पर्व और प्रसाद नहीं‎

लोकतंत्र में चुनाव सबसे बड़ा पर्व होता है, लोकतंत्र का पर्व। लोकतंत्र का पर्व असल में किस का पर्व...