Tuesday, June 28, 2022

Chandrasingh

पेशावर काण्ड के बहादुर गढ़वालियों का कोई नामलेवा नहीं

विश्व में शायद ही कोई ऐसा सैन्य विद्रोह हुआ हो जिसमें विद्रोही सैनिकों द्वारा हथियार उठाने के बजाय हथियार गिरा दिये गए हों। ऐसी मिसाल गढ़वाली सैनिकों ने पेशावर में 23 अप्रैल 1930 को पेश की थी। यही नहीं...
- Advertisement -spot_img

Latest News

आधी रात को सुप्रीम कोर्ट ने मुकदमे सुने हैं, पर वे कौन से मुकदमे थे?

सुप्रीम कोर्ट की वैकेशन बेंच द्वारा महाराष्ट्र शिवसेना के बागी मंत्री एकनाथ शिंदे की याचिका पर तत्काल सुनवाई के...
- Advertisement -spot_img