Thursday, October 28, 2021

Add News

culture of money

पूंजी की सभ्यता-समीक्षा के कवि मुक्तिबोध

मुक्तिबोध गहन संवेदनात्मक वैचारिकी के कवि हैं। उनके सृजन-कर्म का केंद्रीय कथ्य है-सभ्यता-समीक्षा। न केवल कवितायें बल्कि उनकी कहानियां, डायरियां, समीक्षायें तथा टिप्पणियां सार रूप में सभ्यता समीक्षा की ही विविध विधायें हैं, वह जो उपन्यास लिखना चाहते थे,...
- Advertisement -spot_img

Latest News

जाकिया जाफरी की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई, सिब्बल ने कहा-गुजरात दंगा मामले में जांच एजेंसियों ने आरोपियों की मदद की थी

उच्चतम न्यायालय में वरिष्‍ठ वकील कपिल सिब्बल ने जब यह कहा कि जांच एजेंसियों ने गुजरात दंगों के मामले...
- Advertisement -spot_img