Thursday, January 20, 2022

Add News

डॉ. सिद्धार्थ

भारत के 98 अरबपतियों के पास 55.5 करोड़ लोगों के बराबर संपत्ति, 84 प्रतिशत परिवारों की आय घटी: ऑक्सफैम रिपोर्ट

जहां एक ओर आरएसएस-भाजपा ने पूरे देश में एक धार्मिक उन्मादी माहौल खड़ा करके लोगों को हिंदू-मुसलमान में बुरी तरह उलझा दिया है, वहीं दूसरी तरफ देश के चंद अरबपति देश की संपत्ति पर बहुत ही तेजी से कब्जा...

बसपा के कोर समर्थकों का असमंजस

पांच राज्यों में विधान सभा चुनावों का बिगुल बज चुका है, लेकिन सबकी निगाहें उत्तर प्रदेश विधान सभा चुनाव पर सबसे ज्यादा केंद्रित हैं। आरएसएस-भाजपा के लिए उत्तर प्रदेश विधान सभा चुनाव में जीत का प्रश्न जीवन-मरण का प्रश्न...

यूपी में टूट रहा है भाजपा के विजय रथ का एक पहिया

2017 के विधान सभा चुनावों में भाजाप के प्रचंड बहुमत के विजय रथ के मुख्य दो पहिए थे- एक हिंदुत्व और दूसरा सोशल इंजीनीयरिंग। सोशल इंजीनीयरिंग के तहत भाजपा ने खुलकर गैर-यादव और गैर-जाटव का कार्ड खेला था और...

मोदी की बौखलाहट का नतीजा है पीएम से जुड़ा पंजाब सुरक्षा प्रकरण

एक देश के प्रधानमंत्री से सबसे पहली उम्मीद यह की जाति है कि उसके बयान प्रधानमंत्री पद की गरिमा के अनुकूल हों, न कि वह किसी गली के गुंडे की तरह अनाप-शनाप बके। पंजाब में प्रधानमंत्री के काफिले के...

नये चिंतन, विचार और ज्ञान की सर्जक थीं सावित्री बाई फुले

सावित्रीबाई फुले का व्यक्तित्व बहुआयामी है। वह महान शिक्षिका, बहुजनों और महिलाओं की मुक्ति के लिए संघर्ष करने वाली अद्वितीय नायिका और आधुनिक युग की महान कवयित्री हैं, लेकिन इस सब के पीछे उनका एक चिंतक-विचारक व्यक्तित्व भी है,...

बुद्धिजीवियों को लेना होगा हिंदुत्ववादी ताकतों से सीधा मोर्चा

आज निम्न गंभीर संकट हमारे सामने खड़ा है- 1- आरएसएस-भाजपा और उसके घोषित-अघोषित आनुषांगिक संगठनों के नेतृत्व में एक बहुसंख्य समूह के रूप में हिंदू बर्बर और आक्रामक तरीके से धार्मिक अल्पसंख्यकों (मुसलमानों और ईसाईयों) खिलाफ हमलावर है। अब बात...

उत्तराखंड भोजन माता प्रकरण: दलितों के अपने संवैधानिक अधिकार छोड़ने के चलते कायम है गांवों में ‘सामाजिक सौहार्द’

अखबारों में यह खबर आई है कि उत्तराखंड के सूखीढांग जाआईसी में भोजन माता प्रकरण का हल हो गया है। अभी तक की सूचना के अनुसार घटना क्रम इस प्रकार है पहले सवर्णों के बच्चों (ब्राह्मणवाद-मनुवाद के जहर से...

धर्म की अफीम चटाकर, ओबीसी लोकतांत्रिक क्रांति को आरएसएस ने कैसे रोका

डॉ. आंबेडकर के नेतृत्व में दलित लोकतांत्रिक क्रांति के बाद यदि भारत में ब्राह्मणवाद की कब्र खोदने वाली कोई लोकतांत्रिक क्रांति हो सकती थी, तो वह थी- ओबीसी क्रांति (शूद्र क्रांति)। यदि दलित लोकतांत्रिक क्रांति के बाद ओबीसी लोकतांत्रिक...

विफल मोदी, फिर भी विपक्ष असफल क्यों

यह सतह पर दिखने वाला खुला तथ्य है कि भारत की केंद्रीय सत्ता एक व्यक्ति के इर्द-गिर्द घूम रही है, वह व्यक्ति नरेंद्र मोदी हैं। संसदीय लोकतंत्र का एक आधार स्तंभ कैबिनेट व्यवस्था ध्वस्त हो चुकी है, कैबिनेट मंत्री...

धम्मचक्र प्रवर्तन दिवस:आंबेडकर का बुद्ध से नाता जोड़ने का निहितार्थ

आज धम्मचक्र प्रवर्तन दिवस है। आज ही के दिन (14 अक्टूबर 1956) डॉ. आंबेडकर ने महामानव गौतम बुद्ध से अपना घोषित नाता जोड़ा था, हालांकि अघोषित तौर पर बुद्ध से उनका नाता बहुत पुराना था। गौतम बुद्ध इस तथ्य...

About Me

76 POSTS
0 COMMENTS

Latest News

ब्रिटिश पुलिस से कश्मीर में भारतीय अधिकारियों की भूमिका की जांच की मांग

लंदन। लंदन की एक कानूनी फर्म ने मंगलवार को ब्रिटिश पुलिस के सामने एक आवेदन दायर कर भारत के...