Monday, August 15, 2022

developed

प्रधानमंत्री का वायदा पूरा करने के लिए सैकड़ों खरब डालर की जरूरत

भारत को विश्व जलवायु सम्मेलन,ग्लासगो में प्रधानमंत्री के वायदे को पूरा करने के लिए अगले दस वर्षों में लगभग एक सौ खरब (एक ट्रिलियन) डालर की जरूरत होगी। सरकार ने राज्यसभा में यह जानकारी दी है। पर्यावरण, वन और...

ग्लासगो के संकल्प कहीं हिमालय को बर्बाद न कर दें ?

स्काटलैंड के शहर ग्लासगो में सीओपी26 (कान्फ्रेंस ऑफ पार्टिस 26) का आयोजन 1 नवंबर से शुरु हुआ था। भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसमें शामिल होते हुए जिन समझौतों और संकल्पों पर हस्ताक्षर किए हैं इससे न केवल...

विपन्नता के समुद्र में जाहिलियत की नदी बह रही है!

जाहिलियत और विपन्नता ही अब इस देश की पहचान बन गयी है। और अफगानिस्तान का तालीबानी निजाम हमारा आदर्श है। मौजूदा 'विश्व गुरू' की सच्चाई यह है कि अलीगढ़ में एक परिवार को पिछले 10 दिनों से अन्न का...
- Advertisement -spot_img

Latest News

जश्न और जुलूसों के नाम थी आज़ादी की वह सुबह

देश की आज़ादी लाखों-लाख लोगों की कु़र्बानियों का नतीज़ा है। जिसमें लेखक, कलाकारों और संस्कृतिकर्मियों ने भी अपनी बड़ी...
- Advertisement -spot_img