Saturday, October 23, 2021

Add News

koshyari

कोश्यारी ने एक बार फिर खुद को नालायक साबित किया है!

संविधान की अनदेखी कर मनमाने तरीके से काम करने और अपने सूबे की सरकार के लिए नित-नई परेशानी खड़ी करने के लिए कुख्यात महाराष्ट्र के राज्यपाल भगतसिंह कोश्यारी ने एक बार फिर उद्दण्डता और निर्लज्जता का परिचय देते हुए...

महाराष्ट्र में संकट टला लेकिन सवाल अब भी शेष हैं!

भारत के संविधान में चुनाव आयोग को एक स्वतंत्र संवैधानिक निकाय का दर्जा दिया गया है, लेकिन उसकी कार्यप्रणाली पर अक्सर सवाल उठते रहे हैं। 1990 के दशक में टीएन शेषन और इस सदी के प्रारंभ में जेएम लिंगदोह...

रात के अंधेरे में एक बार फिर जिबह हुआ लोकतंत्र!

यह महाराष्ट्र का इमरजेंसी मोमेंट था। जब रात के अंधेरे में एक बार फिर लोकतंत्र का गला घोंट दिया गया। हत्या में केवल बीजेपी के नेता और केंद्र सरकार ही नहीं बल्कि संवैधानिक संस्थाओं के प्रतिनिधि भी शामिल थे।...
- Advertisement -spot_img

Latest News

एक साल में तीन-तीन आपदाओं से लकवाग्रस्त हो गया है उत्तराखंड

16 अक्टूबर को उत्तराखंड में अच्छी धूप खिली हुई थी और मौसम बेहद सुहावना था। इस साल मानसून लंबा...
- Advertisement -spot_img