Saturday, October 23, 2021

Add News

sharnarthi

नॉर्थ ईस्ट डायरी: म्यांमार के शरणार्थियों के लिए भारत ही है आखिरी उम्मीद

साल 2011 में लियान सुआन थांग म्यांमार पुलिस में भर्ती हुए थे। लोकतंत्र समर्थक और नेशनल लीग फॉर डेमोक्रेसी की नेता आंग सान सू की को एक साल पहले ही रिहा कर दिया गया था। उनकी रिहाई ने आंशिक...
- Advertisement -spot_img

Latest News

पंचायत चुनाव को प्रभावित करने के नजरिये से मोरियावा में पुलिस ने किया तांडव: माले

भाकपा-माले राज्य सचिव कुणाल ने पटना जिले के धनरूआ प्रखंड के मोरियावा में पुलिस द्वारा किए गए तांडव की...
- Advertisement -spot_img