Wednesday, September 27, 2023

sita

सीता के मिथक का विकास: मिथक और साहित्य में महिलाएं

{साहित्य समाज का दर्पण ही नहीं होता, बल्कि प्रेमचंद के शब्दों में यह समाज को राह दिखाने वाली मशाल भी होता है। लेकिन यह बात न केवल प्रगतिशील मूल्यों के लिए सच है बल्कि प्रतिगामी मूल्यों के लिए भी...

दशहरा के बाद की लड़ाई

विजयदशमी (दशहरा) को सशक्तीकरण का क्षण माना जाता है: शाब्दिक और लाक्षणिक दोनो अर्थों में। रावण को पराजित कर दिया गया है। सीता को बचा लिया गया है। और सम्पूर्ण सद्गुणों के अवतार राम के वनवास का अन्त होने...

उनके राम और अपने राम

संघ संप्रदाय अपनी यह घोषणा दोहराता रहता है कि अयोध्या में जल्दी ही श्रीराम का भव्य मंदिर बनाया जाएगा। बीच-बीच में यह खबर भी आती रहती है कि अयोध्या के बाहर मंदिर के लिए पत्थर तराशने का काम तेजी...

राम और सीता नहीं, फुले एवं सावित्रीबाई हैं आदर्श दंपति के प्रतीक

भारत में बहुजन-श्रमण परंपरा के पास आधुनिक भारत के निर्माण के लिए आवश्यक दर्शन, विचारधारा, ग्रंथ और नायक-नायिकाएं हैं। यह बात स्त्री-पुरूष संबंधों के बारे में भी पूरी तरह सच है। जहां वेदों से लेकर हिदुत्व के आधुनिक पैरोकार...

Latest News

‘इंडिया’ का इस्तेमाल रोकने की सरकारी कवायद

यह संयोग ही है कि विपक्षी पार्टियों के ‘इंडिया’ (इंडियन नेशनल डेमोक्रेटिक इंक्लूसिव अलायन्स) के नाम से एक मंच...