Saturday, October 23, 2021

Add News

tryst

स्वतंत्र भारतः अधूरे सपनों का ख्वाबगाह

औपनिवेशिक शासन से भारत की मुक्ति के बाद देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू ने स्वाधीनता आंदोलन के नेताओं के सपनों और आकांक्षाओं का अत्यंत सारगर्भित वर्णन अपने प्रसिद्ध भाषण 'ए ट्रिस्ट विथ डेस्टिनी' में किया था। उन्होंने कहा...
- Advertisement -spot_img

Latest News

सुप्रीम कोर्ट उ.प्र. राज्य उपभोक्ता आयोग के सदस्यों के कम वेतन भत्तों की जाँच करेगा

उच्चतम न्यायालय के जस्टिस संजय कृष्ण कौल और जस्टिस एम सुन्दरेश कि पीठ राज्य उपभोक्ता विवाद निवारण आयोग, उ.प्र....
- Advertisement -spot_img