Sunday, October 17, 2021

Add News

आख़िर मुसलमानों के साथ यह दोहरापन क्यों?

ज़रूर पढ़े

परसों इंदौर में कोरोना जांच के लिए स्वास्थ्य विभाग की सर्वे टीम जिसमें डॉक्टर, टीचर, पैरामेडिकल और आशा कार्यकर्ता शामिल थे, पर पलासिया क्षेत्र में चाक़ू से हमला किया गया। लेकिन मुरादाबाद और टाटपट्टी बाखल की तरह इस घटना को मीडिया ने नहीं उछाला क्योंकि चाक़ू मारने वाला एक हिन्दू था। दुखद घटना है। लेकिन यह दोहरा रवैया क्यों है? और बात सिर्फ मीडिया तक ही सीमित नहीं रही अपने आस-पास के ही बहुत से लोगों का व्यवहार आप देखें तो वो पिछले कुछ दिनों से बिल्कुल बदल गया है।

कोरोना जैसे संक्रामक रोग से उपजे भय को मीडिया ने बहुत शातिराना तरीके से मुस्लिम समाज के खिलाफ इस्तेमाल किया है और अच्छे-अच्छे लोग भी इस षड्यंत्र के शिकार हो गए हैं। पर यह कुछ ही दिनों में बना नैरेटिव नहीं है इसके पीछे एक संगठन पिछले 95 सालों से मेहनत कर रहा है और अब उसकी मेहनत सफल हो गयी है।

मित्र श्याम मीरा सिंह इसे और स्पष्ट रूप से समझाते हैं, वे कहते हैं……….’सच तो ये है कि भारतीय बहुसंख्यक समाज मान चुका है कि मुसलमान स्वभाव से ही द्रोही है और हिन्दू घटनावश ही अपराधी हो सकता है लेकिन वह स्वाभाविक द्रोही नहीं है।

यही कारण है कि मीडिया के लिए मुसलमान पत्थरबाज, सिर्फ एक पत्थरबाज नहीं होता बल्कि उसके लिए वह सिर्फ “मुसलमान” होता है। लेकिन पत्थरबाज यदि हिन्दू हो तो मीडिया के लिए वह हिन्दू नहीं होता तब वह सिर्फ एक “पत्थरबाज” ही होता है।

एंकर द्वारा रची गयी यह भाषा साधारण नागरिकों के मन में धीरे धीरे बैठने लगती है कि पत्थरबाजी तो मुसलमानों का स्वभाविक कार्य है। यही कारण है कि पत्थरबाजी की खबर पढ़ते ही हम पत्थरबाजों के नाम ढूंढने लगते हैं। यदि हिन्दू हुआ तो वह कोई आकस्मिक घटना मान ली जाती है। यदि मुसलमान हुआ तो इस पूर्वाग्रह को और अधिक ईंधन मिलता है कि मुसलमान तो स्वभाव से ही द्रोही है।

इसका दूसरा उदाहरण आप निजामुद्दीन की घटना से लीजिए। यदि कोई नागरिक मस्जिद में फंसा हुआ हो तो वह फंसा हुआ न होकर “छुपा” हुआ होता है। वहीं फंसा हुआ तबका बहुसंख्यक समाज से हो तो वह “फंसा” हुआ ही होता है। यहां मुसलमानों के लिए “छुपा” हुआ शब्द उपयोग करने के पीछे व्याकरण वही है जो मुसलमान को हर हाल में अपराधी साबित करना चाहता है। जो इस पूर्वाग्रह को बढ़ावा देता है कि अपराध तो मुसलमान के स्वभाव में है।

आप हैदराबाद में एक महिला डॉक्टर के साथ हुई नृशंस घटना को याद कीजिए। उसमें एक मुसलमान युवक का नाम बार-बार उछाला गया। जबकि बाकी 3 युवक हिन्दू ही थे। लेकिन ये विचार किसी के मन में नहीं डाला गया। सबका ध्यान उस मुस्लिम युवक पर ही था जो इस पूर्वाग्रह को पुष्ट करे कि मुसलमान तो स्वभाव से ही अपराधी हैं।

यही कारण है कि यदि हिन्दू ने चोरी की होती है तो वो सिर्फ एक “चोर” होता है, हिन्दू ने बलात्कार किया होता है तो वह सिर्फ एक “बलात्कारी” होता है, हिन्दू ने पत्थर फेंका होता है तो वह सिर्फ एक “पत्थरबाज” होता है। लेकिन वही चोर, बलात्कारी, पत्थरबाज यदि मुसलमान होता है तो वह सिर्फ मुसलमान होता है, तब उसके अपराध से अधिक प्रमुख उसका धर्म हो जाता है।

चूंकि भारतीय बहुसंख्यक समाज मान चुका है कि मुसलमान स्वभाव से द्रोही होता है जबकि हिन्दू आकस्मिक अपराधी हो सकता है स्वभाविक नहीं।

दिक्कत हमारे साथ तो है ही, लेकिन हमारी भाषा के व्याकरण में भी बड़ी गम्भीर समस्या है जो हमेशा बहुसंख्यकों और ताकतवरों के हिसाब से साजिशन रची जाती है, जिसका शिकार अब तक स्त्री, दलित, वंचित होते आए थे, अब मुसलमान हो रहे हैं।

(स्वतंत्र लेखक गिरीश मालवीय का लेख। गिरीश आजकल इंदौर में रहते हैं।)

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

जन्मशती पर विशेष:साहित्य के आइने में अमृत राय

अमृतराय (15.08.1921-14.08.1996) का जन्‍म शताब्‍दी वर्ष चुपचाप गुजर रहा था और उनके मूल्‍यांकन को लेकर हिंदी जगत में कोई...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This

- Advertisement -

Log In

Or with username:

Forgot password?

Forgot password?

Enter your account data and we will send you a link to reset your password.

Your password reset link appears to be invalid or expired.

Log in

Privacy Policy

Add to Collection

No Collections

Here you'll find all collections you've created before.