Sunday, December 4, 2022

जब छत्तीसगढ़ में सीबीआई की भी जासूसी करती पकड़ी गयी पुलिस!

Follow us:
Janchowkhttps://janchowk.com/
Janchowk Official Journalists in Delhi

ज़रूर पढ़े

कल सोनी सोरी और लिंगा कोड़ोपी सीबीआई टीम के साथ एड्समेट्टा गए थे 

एड्समेट्टा में आज से 4 साल पहले पुलिस ने 9 आदिवासियों को माटी पंडूम मनाते समय गोली से उड़ा दिया था 

मरने वाले आदिवासियों में बच्चे भी शामिल थे 

बाद में पुलिस ने कहा कि उसने नक्सलियों को मारा है 

छत्तीसगढ़ में पीयूसीएल के हमारे साथी डिग्री प्रसाद चौहान इस मामले को लेकर सुप्रीम कोर्ट गए थे 

cbi small1
सीबीआई के सामने अपना पक्ष रखती महिलाएं और पुरुष।

और अभी 2 महीने पहले सुप्रीम कोर्ट में मानव अधिकार वकील कॉलिन गोंजाल्विस ने इस मामले में सीबीआई जांच की मांग करी

जिसे सुप्रीम कोर्ट ने स्वीकार किया 

और सीबीआई टीम को छत्तीसगढ़ के बीजापुर जिले के एड्समेट्टा गांव में जाकर जांच करने का आदेश दिया 

जांच करने के लिए सीबीआई टीम छत्तीसगढ़ पहुंची तो पुलिस अधीक्षक ने सीबीआई टीम को रोकने के लिए झूठे बहाने बनाने शुरू किये 

और कहा कि आपका जाना सुरक्षित नहीं है नक्सलियों का डर है

सीबीआई टीम ने सोनी सोरी से कहा कि आप हमारी मदद कीजिए

सोनी सोरी और लिंगा कोड़ोपी सीबीआई टीम के साथ एड्समेट्टा गांव तक पहुंचे 

गांव में पहले से ही एक अजनबी व्यक्ति पहुंच कर गांव वालों के बीच में बैठ गया था 

गांव वालों ने पूछा आप कौन हैं ?

तो उस व्यक्ति ने कहा मैं मीडिया से हूं 

cbi small2
मौके से मिले कागजात।

लेकिन उस व्यक्ति ने पुलिस यूनिफार्म वाले जूते पहने हुए थे 

गांव वालों ने कहा कि आप के जूते पुलिस के हैं 

तो उस व्यक्ति ने जवाब दिया नहीं मेरी चप्पल टूट गई थी इसलिए मैंने किसी से मांग कर यह जूते पहन लिये हैं 

जब सीबीआई की टीम एड्समेट्टा से गांव वालों के बयान लेकर वापस जा रही थी 

तो वह पुलिस वाला उसी इलाके में मौजूद पुलिस टीम की तरफ जाने लगा 

तो गांव की महिलाओं ने कहा कि यह पुलिस की तरफ जा रहा है यह जरूर पुलिस वाला है 

आदिवासी महिलाओं के इतना कहते ही वह पुलिस वाला पुलिस टीम की तरफ दौड़ पड़ा 

ग्रामीण आदिवासी महिलाओं ने उस पुलिस वाले को पकड़ लिया और सीबीआई टीम के सामने पेश किया 

सीबीआई टीम की अगुवाई कर रही महिला अधिकारी ने ग्रामीण महिलाओं से कहा क्षमा कीजिए 

आदिवासी महिलाओं ने कहा आपने गलती नहीं की है 

लेकिन यह पुलिस वालों की बदमाशी आप देखिए 

cbi small3

अगर यह आपके सामने इतनी बदमाशी कर सकते हैं 

तो आपके पीछे से क्या हरकतें करते होंगे ?

पुलिस आखिर इतना डरी हुई क्यों है ?

मतलब साफ है इस मामले में आदिवासियों के कत्ल में पुलिस सीधे-सीधे शामिल है 

और छत्तीसगढ़ में आदिवासियों का कत्ल करने का सरकार ने पुलिस को आदेश दिया है 

और सरकार ने आदिवासियों का कत्ल करने का पुलिस को आदेश इसलिए दिया है 

क्योंकि सरकार पूंजीपतियों के लिए आदिवासियों की जमीन छीनने में लगी हुई है 

इस पूरे मामले में सोनी सोरी और लिंगा कोड़ोपी साथ गए मीडिया के साथियों और आदिवासियों ने बहुत बहादुरी का परिचय दिया है

देखना है कि इस मामले में सर्वोच्च न्यायालय क्या निर्णय देता है

(हिमांशु कुमार गांधीवादी कार्यकर्ता हैं और आजकल हिमाचल प्रदेश में रहते हैं।)

   

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

 मोदीराज : याराना पूंजीवाद की पराकाष्ठा

पिछले पांच वर्षों में विभिन्न कम्पनियों द्वारा बैंकों से रु. 10,09,510 करोड़ का जो ऋण लिया गया वह माफ...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This

- Advertisement -