Subscribe for notification

तो भूख या बीमारी से नहीं, बस यूं ही मर गया यह साधु?

अयोध्या। अयोध्या से दिल को झकझोर देने वाली एक तस्वीर सामने आई है। सरकार के बड़े-बड़े दावे और समाजसेवियों की फौज ने सिर्फ रोड पर चंद लोगों को खाना खिला कर या राशन किट बांट कर फोटो खिंचवाने तक ख़ुद को सीमित कर लिया है। अयोध्या में स्थित चौधरी चरण सिंह घाट के समीप सरयू तट पर लगभग 80 वर्ष के एक वृद्ध साधु की भूख से मौत हो गई है। स्थानीय लोगों ने बताया कि वृद्ध साधु कई दिन से बीमार चल रहे थे। उनका हाल-चाल ना तो स्थानीय प्रशासन ने लिया ना ही किसी समाजसेवी ने लेना ज़रूरी समझा। बीमारी की हालत में कई दिनों से भूखे-प्यासे साधु ने आखिरकार आज दम तोड़ दिया।

इस सिलसिले में जनचौक की अयोध्या में सरयू के घाट पर फूल बेचने वाले स्कंद दास से बात हुई। उन्होंने बताया कि साधु बारादरी के सामने रहते थे। और छह दिन से भूखे थे। और बीमार भी चल रहे थे। साधु की उम्र 80 साल के आस-पास थी। इलाक़ा कोतवाली थाने के तहत आता है। बताया जा रहा है कि पिछले छह दिनों से वह वहीं पड़े हुए थे।

स्थानीय पत्रकार तुफैल ने बताया कि आज सुबह तक उनका शव रेत में पड़ा हुआ था। लेकिन अचानक वहाँ से ग़ायब हो गया। स्थानीय लोगों से पूछने पर पता चला कि कुछ पुलिसकर्मियों ने आनन-फ़ानन में उसे उठवाकर सरयू में विलीन कर दिया। उनका कहना है कि ऐसा इसलिए किया गया जिससे पूरे मामले को रफा-दफा कर दिया जाए और किसी को कानों-कान ख़बर तक न हो। इसके पीछे एक दूसरी वजह पोस्टमार्टम से बचने की भी बतायी जा रही है। स्थानीय पुलिस ने कुछ प्रत्यक्षदर्शियों से संपर्क किया और उनसे मामले को दबाने का इशारा किया।

इस मसले पर फैजाबाद के सीओ सिटी अरविंद चौरसिया ने बताया कि वो इलाका उनके क्षेत्र में नहीं आता। आप द्वारा सूचना देने पर उस क्षेत्र के इंस्पेक्टर से बात हुई उसने बताया कि मामले की सूचना पुलिस को है। और उसकी जांच की जा रही है। जबकि दूसरी तरफ खुद को मृतक साधु का चेला कहने वाले दीपक गुप्ता ने बताया कि साधु एक महीने से बीमार थे उनकी देखरेख करने वाला कोई नहीं था। कल रात पानी बरसा उसी में शायद उनकी मौत हो गयी। पुलिस मौके पर आयी थी और उसने पंचनामा किया।

इस घटना में देर रात हमें सादे कागज पर लिखीं दो तहरीरें मिलीं, जिनमें हमें सबसे पहले मृतक साधु का नाम पता चला। मृतक साधु का नाम विष्णु दास उम्र 80 साल है। पहली तहरीर पर खुद को मृतक साधु विष्णु दास का चेला बताने वाले सुखदेव गिरि के अंगूठे के निशान हैं, यानी उन्हें पढ़ना-लिखना नहीं आता। तहरीर सुस्पष्ट कानूनी भाषा में सुंदर हैंड राइटिंग में लिखी गई है।

इस तहरीर पर रामेश्वर दास और सोमनाथ के भी अंगूठे के निशान हैं, यानी वे भी अनपढ़ हैं। तहरीर में साधु की मौत की वजह स्वाभाविक बताई गई है और कहा गया है कि वहां उन साधुओं को दिन में करीब छह से सात बार खाना मिलता है। तहरीर में समाचार देने वाले ग्रुप 5 न्यूज पोर्टल के संचालक तुफैल और रिपोर्टर स्कंद दास सहित इंडियन टाइम्स पर गलत समाचार फैलाकर साधुओं की छवि बिगाड़ने का आरोप लगाया गया है।

दूसरी तहरीर जो मिली है, वह चौकी इंचार्ज के नाम है। यह तहरीर सुखदेव गिरि, सोमनाथ, परमेश्वर दास और सीताराम के नाम से लिखी गई है और इस पर इन्हीं चारों के अंगूठे के निशान हैं। किसी डायरी के पन्ने को फाड़कर लिखी इस तहरीर में कच्चा घाट बारादरी के पीछे झोपड़पट्टी में साधु विष्णु दास की स्वाभाविक मृत्यु हो गई है, वे लोग पोस्टमार्टम नहीं चाहते हैं और लाश साधु रीति रिवाज से नदी में विसर्जित करना चाहते हैं। इन दोनों में से किसी भी तहरीर पर किसी भी थाने की न तो कोई रिसीविंग है और न ही किसी की कोई मुहर है। दोनों तहरीरें आप फोटो में देख सकते हैं।

इस बीच, देर रात अयोध्या पुलिस ने कुछ फ़ोटो ट्विटर पर पोस्ट किए हैं जिसमें इन तहरीरों के अलावा साधु की अर्थी को ले जाते हुए दिखाया गया है।

यह सब कुछ उस समय हो रहा है जब सूबे में हिंदू हितैषी होने का दावा करने वाली सरकार है। और इसका दंभ भरने का वह कोई मौक़ा नहीं चूकती। अयोध्या में रामनवमी के दिन योगी आदित्यनाथ करोड़ों रुपये दिया और दीवाली पर फूंक सकते हैं लेकिन वहाँ के गरीब साधु, संत और भक्तों की जब बारी आती है तो उनका ख़ज़ाना ख़ाली हो जाता है।

शायद सूबे में साधुओं पर शामत आयी हुई है। बुलंदशहर में दो साधुओं की तलवार से जघन्य तरीक़े से हत्या कर दी गयी। पालघर लिंचिंग का मसला उठाने वाले कथित हिंदुओं के रक्षक इस पूरे मसले पर चुप्पी साधे हुए हैं।

This post was last modified on April 30, 2020 1:28 pm

Share
Published by
Janchowk

Janchowk Official Journalists in Delhi