Subscribe for notification
Categories: राज्य

मृत सफ़ाई कर्मियों के आश्रितों को 50 लाख मुआवज़ा दे सरकार : स्वराज इंडिया

दिल्ली में पिछले 37 दिनों में सीवर के अंदर दस सफ़ाई कर्मियों की दु:खद मौत हो चुकी है। बिना किसी सुरक्षा उपकरण के सीवर के अंदर जाने से और ज़हरीली गैस के कारण इतने बेकसूर ग़रीब लोग जान गंवा बैठे। इन सभी दर्दनाक मौतों की मुख्य वजह सरकारी लापरवाही और नियम कानूनों का उल्लंघन पाया गया है। 

स्वराज इंडिया की मांग

नवगठित राजनीतिक पार्टी स्वराज इंडिया ने दिल्ली सरकार के अपने ही किये वादे के मुताबिक मृत सफ़ाई कर्मियों के आश्रितों को 50 लाख मुवावज़े की मांग की है। साथ ही, सीवर सफ़ाई के काम का पूर्ण मशीनीकरण करने की भी बात कही है। पार्टी ने मांग की है कि जब तक पूर्ण मशीनीकारण न हो किसी भी सफ़ाई कर्मी को बिना उचित सुरक्षा उपायों के सीवर के अंदर न जाने दिया जाए। और ये काम भी ठेका प्रथा ख़त्म कर नियमित सरकारी कर्मचारियों द्वारा ही करवाए जाएं।

ऐसा नहीं है कि इस तरह की घटनाएं आज पहली बार हो रही हैं। सरकारी लापरवाही के कारण सीवर लाइन के अंदर सफ़ाई कर्मियों की मौत निरंतर होती रहती हैं। फ़र्क़ बस ये है कि इस बार ये ख़बरें टीवी-अख़बारों में आ रही हैं। इसलिए आम आदमी पार्टी की दिल्ली सरकार और अन्य पार्टियां भी घड़ियाली आँसू बहाने में लगी हैं। एलजी और मुख्यमंत्री ने संवेदनशीलता दिखाने की कोशिश की है जिसके बाद अब कई घोषणाएं भी हो रही हैं।

‘दिल्ली सरकार की ज़िम्मेदारी’

लेकिन सच ये है कि सरकार अपने खुद के किये वादे और न्यूनतम ज़िम्मेदारियों से भागती रही है। दिल्ली की सभी सीवर लाइन दिल्ली जल बोर्ड के अंतर्गत आती हैं, जिसकी ज़िम्मेदारी सीधे तौर पर दिल्ली सरकार की बनती है। लेकिन ऐसे हर मामले में सरकार यह कहकर पल्ला झाड़ लेती है कि मृत सफ़ाईकर्मी उनके अपने कर्मचारी नहीं थे, ठेके पर काम कर रहे थे। हर मौत के बाद एक जाँच बिठा दी जाती है जिसका एकमात्र उद्देश्य ठीकरा फोड़ने के लिए कोई सर ढूंढना रहता है।

कोर्ट के फ़ैसले की अनदेखी

ज्ञात हो कि 25 मई 2016 को दिल्ली हाईकोर्ट ने भी सीवर की सफ़ाई में लगे कर्मियों के संबंध में एक अहम फैसला दिया था। नेशनल कैम्पेन फॉर डिग्निटी ऐंड राइट्स ऑफ सीवरेज ऐंड एलाइड वर्कर्स के इस मामले में अदालत ने दिल्ली सरकार के अधीन जल बोर्ड के सीईओ को सीवर सफ़ाई कर्मचारियों के लिए हर हाल में सुरक्षा उपकरण सुनिश्चित कराने का निर्देश दिया था।

‘आप’ पर हमला

स्वराज इंडिया के दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष अनुपम ने लगातार हो रही इन घटनाओं पर चिंता जताते हुए कहा, “आम आदमी पार्टी ने चुनाव पूर्व ये वादा किया था कि वो सफ़ाई कर्मचारियों में ठेकेदारी प्रथा पूरी तरह से ख़त्म कर देगी। लेकिन घोषणापत्र में वादा करने के बाद आज दिल्ली सरकार सीवर की सफ़ाई जैसे जानलेवा काम भी ठेकेदारों को ही दे रही है। इसका नतीजा यह है कि बिना उचित सुरक्षा उपायों के, बिना बीमा, मास्क, बेल्ट या सीढ़ी के मज़दूरों को सीवर लाइन के अंदर उतार दिया जाता है। और जब कोई दुर्भाग्यपूर्ण घटना हो जाये तो सरकार उन्हीं ठेकेदारों पर ठीकरा फोड़कर अपना पल्ला झाड़ लेती है।”

घोषणापत्र में था 50 लाख का वादा

2014 में उच्चत्तम न्यायालय ने निर्देश दिया था कि सीवर लाइन के अंदर होने वाली इन सभी मौत में 10 लाख रुपये मुआवज़े के रूप में दिए जाएं। लेकिन 10 अगस्त 2017 को लोकसभा के अंदर एक प्रश्न के जवाब में केंद्रीय मंत्री थावर चंद गहलोत ने बताया कि राजधानी दिल्ली में दस में से सिर्फ़ एक मामले में ही पूर्ण मुआवज़ा दिया गया है। वैसे तो आम आदमी पार्टी ने अपने घोषणापत्र में यह लिखित वादा किया था कि जान गंवाने वाले सफ़ाई कर्मचारियों के परिवार को मुआवज़े के तौर पर 50 लाख रुपये दिए जाएंगे।

‘सरकार ही करा रही मेनुअल स्कैवेंजिग’

पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष योगेंद्र यादव ने कहा कि मैला ढोने या मेहतरी जैसे अमानवीय काम पर सन् 1993 से ही कानूनन प्रतिबंध होने के बावजूद आज भी यह कुप्रथा चल रही है। भले ही इसपर कानूनन रोक है लेकिन परोक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से सरकार ही मेनुअल स्कैवेंजिंग करवा रही है। सभ्य समाज के लिए शर्मनाक होने के साथ साथ ये सरकार की असफ़लता और राजनीतिक इच्छाशक्ति की कमी का सबसे बड़ा परिचायक है।

सफ़ाई कर्मियों के लिए 5 मांगें

स्वराज इंडिया ने इस मुद्दे को मजबूती से उठाने की घोषणा की है। पार्टी की मांग हैं कि:

1.  पिछले सभी दस मृतक आश्रितों को एक महीने के अंदर दिल्ली सरकार वादे के मुताबिक 50 लाख का मुआवज़ा दे।

2.  सीवर के काम का पूर्ण मशीनीकरण करने की सरकार रूपरेखा पेश करे ताकि मेनुअल स्कैवेंजिंग पर रोक लगे।

3.  जब तक पूर्ण मशीनीकरण न हो जाए किसी भी सफ़ाई कर्मी को बिना उचित सुरक्षा उपाय के सीवर के अंदर न जाने दिया जाए।

4.  सीवर सफ़ाई के सारे काम नियमित सरकारी कर्मचारियों द्वारा कराए जाएं। ठेकेदारी प्रथा पूरी तरह से ख़त्म हो।

5.  सीवर सफ़ाई कर्मचारियों को स्वच्छ भारत सेनानी का दर्जा दिया जाए।

This post was last modified on May 9, 2019 10:13 am

Janchowk

Janchowk Official Journalists in Delhi

Leave a Comment
Disqus Comments Loading...
Share
Published by

Recent Posts

नॉम चामस्की, अमितव घोष, मीरा नायर, अरुंधति समेत 200 से ज्यादा शख्सियतों ने की उमर खालिद की रिहाई की मांग

नई दिल्ली। 200 से ज्यादा राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्कॉलर, एकैडमीशियन और कला से जुड़े लोगों…

11 hours ago

कृषि विधेयक: अपने ही खेत में बंधुआ मजदूर बन जाएंगे किसान!

सरकार बनने के बाद जिस तरह से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हठधर्मिता दिखाते हुए मनमाने…

12 hours ago

दिल्ली दंगों में अब प्रशांत भूषण, सलमान खुर्शीद और कविता कृष्णन का नाम

6 मार्च, 2020 को दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच के नार्कोटिक्स सेल के एसआई अरविंद…

13 hours ago

दिल्ली दंगेः फेसबुक को सुप्रीम कोर्ट से राहत, अगली सुनवाई तक कार्रवाई पर रोक

उच्चतम न्यायालय ने बुधवार 23 सितंबर को फेसबुक इंडिया के उपाध्यक्ष अजीत मोहन की याचिका…

14 hours ago

कानून के जरिए एमएसपी को स्थायी बनाने पर क्यों है सरकार को एतराज?

दुनिया का कोई भी विधि-विधान त्रुटिरहित नहीं रहता। जब भी कोई कानून बनता है तो…

15 hours ago

‘डेथ वारंट’ के खिलाफ आर-पार की लड़ाई के मूड में हैं किसान

आख़िरकार व्यापक विरोध के बीच कृषक उपज व्यापार एवं वाणिज्य (संवर्धन एवं सुगमीकरण) विधेयक, 2020…

15 hours ago