Sunday, November 28, 2021

Add News

लोकतंत्र के लठैत

बचा-खुचा लंगड़ा लोकतंत्र भी हो गया दफ्न!

आह, अंततः लोकतंत्र बेचारा चल बसा। लगभग सत्तर साल पहले पैदा हुआ था, बल्कि पैदा भी क्या हुआ था। जैसे-तैसे, खींच-खांच कर बाहर निकाला गया था। अविकसित, अपूर्ण, रुग्ण। उम्मीद थी कि एक बार जैसे-तैसे बाहर आ जाएगा और...
- Advertisement -spot_img

Latest News

बुंदेलखंडी खुद तय करें अपनी तकदीर, इसके लिए कांग्रेस बनाएगी बुंदेलखंड विकास बोर्ड: प्रियंका गांधी

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने आज महोबा में प्रतिज्ञा रैली को संबोधित किया। "बुंदेलखंड के भइया-बहिनन का राम-राम, मोड़ा-मोड़ियन...
- Advertisement -spot_img