Saturday, December 4, 2021

Add News

सरकार

कायरता ही सरकार की बन गई है बहादुरीः महुआ मोईत्रा

संसद में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर बहस चल रही है, जिसमें विपक्ष सरकार पर बुरी तरह हमलावर है। टीएमसी सांसद महुआ मोइत्रा ने 'घृणा और कट्टरता' को लेकर सरकार पर तीखा हमला किया और आरोप लगाया...

मई 2024 तक का प्लान हुआ तैयार, आंदोलन और खेती होगी साथ-साथ

सरकार के रवैये से किसान नेताओं ने बखूबी समझ लिया है कि यह आंदोलन लंबा खिंचने वाला है। सरकार आंदोलन को लंबा खींचने की कोशिश में है, ताकि जनमानस में यह बात भरी जा सके कि सरकार हल निकालने...

8वीं बैठक भी बेनतीजा, कृषि मंत्री फिर गिनाए कानून के फायदे

किसान नेताओं के साथ सरकार की आज की बैठक बेनतीजा खत्म हो गई। चार घंटे तक चली बैठक में तीन कृषि क़ानूनों पर चर्चा हुई। आज एमएसपी पर बात नहीं हो सकी। बैठक में किसान यूनियनों ने कृषि क़ानून...

झारखंड: मुख्यमंत्री बनते ही पत्थलगड़ी केस वापस लेने का वादा भूल गए हेमंत

झारखंड जनाधिकार महासभा ने पत्थलगड़ी मामलों की स्थिति की समीक्षा और झारखंड में हो रहे मानवाधिकार हनन की घटनाओं की विवेचना के लिए रांची के एचआरडीसी में सेमिनार का आयोजन किया। इसमें अनेक जन संगठनों और सामाजिक कार्यकर्ताओं ने...

पांचवें दौर की वार्ता भी नाकाम, 9 दिसंबर को फिर बातचीत की सरकार की पेशकश

किसानों की पांचवे दौर की बैठक भी बेनतीजा खत्म हो गई है। अब 9 दिसंबर को फिर से बैठक होगी। किसान नेता कानून को रद्द की मांग कर रहे हैं और सरकार संशोधन का आश्वासन दे रही है। इस...

कप्पन की पत्नी का यक्ष प्रश्न- क्या सरकार संघ से जुड़े पत्रकारों को करेगी गिरफ्तार!

केरल के पत्रकार सिद्दीक कप्पन की पत्नी रायनाथ कप्पन ने कहा है कि उनके पति का  पीएफआई से कोई संबंध नहीं है, लेकिन तर्क के लिए ही सही यदि भले ही वे उसके सदस्य हों  तो सवाल यह है...

सरकार को नहीं मालूम आरोग्य सेतु ऐप किसने बनाया! केंद्रीय सूचना आयोग ने नोटिस जारी कर मांगा जवाब

मोदी सरकार को नहीं पता आरोग्य सेतु  ऐप किसने बनाया है! इस मामले में केंद्रीय सूचना आयोग ने संबंधित अधिकारियों को नोटिस जारी कर जवाब तलब किया गया है। https://twitter.com/barandbench/status/1321429653526056960 दरअसल सौरभ दास नामक एक सामाजिक कार्यकर्ता ने केंद्रीय सूचना आयोग...

कभी आय में बीडीओ को मात देने वाले किसान की हैसियत अब चपरासी के बराबर भी नहीं

‘उत्तम खेती मध्यम बान, निकृष्ट चाकरी भीख निदान’ की पुरानी उक्ति अब कृषि प्रधान देश में पूर्णरूप से उलट गई है। खेती-किसानी घाटे का सौदा हो गया है। देश अन्न के मामले में तो आत्मनिर्भर हो गया है; लेकिन...

हर साल आने वाला सैलाब क्यों नहीं है बिहार चुनाव का मुद्दा?

पटना। बिहार विधासभा चुनाव अपने शबाब पर पहुंच चुका है। इस बीच बिहार के सबसे बड़े हिस्से की परेशानी बाढ़ चुनावी मुद्दा बनता नजर नहीं आ रहा है। हालात यह हैं कि हर वर्ष उत्तर बिहार के अधिकांश हिस्से...

छत्तीसगढ़ः स्कूल-अस्पताल मांग रहे ग्रामीणों को बघेल सरकार दे रही है पुलिस कैंप

सत्ता बदलने से गर सब कुछ बदल जाता तो छत्तीसगढ़ के जिला दंतेवाड़ा के हालात भी बदल गए होते। भाजपा के काम को आगे बढ़ाते हुए कांग्रेस सरकार ने दंतेवाड़ा के कई गांवों में सौगात के तौर पर पुलिस...
- Advertisement -spot_img

Latest News

एजेंडे पर मथुरा-काशी यानि पश्चिमांचल से लेकर पूर्वांचल तक बीजेपी को नफरत का सहारा

दिसंबर के दूसरे सप्ताह में प्रधानमंत्री व भाजपा के चुनावी चेहरे नरेंद्र मोदी काशी कॉरीडोर का उद्घाटन करेंगे। उत्तर...
- Advertisement -spot_img