29.1 C
Delhi
Sunday, September 19, 2021

Add News

anchor

जहरीले डिबेट कराने वाले टीवी एंकरों को सुप्रीम संदेश

उच्चतम न्यायालय की इलेक्ट्रानिक मीडिया के जहरीले, साम्प्रदायिक, किसी की भी खिल्ली उड़ने और मानहानि कारक प्रसारण तथा हेटस्पीच पर भृकुटी टेढ़ी है। इलेक्ट्रानिक मीडिया में जो आजकल चल रहा है उस पर उच्चतम न्यायालय ने सख़्त रुख अख्तियार किया है। सुरेश...

सुप्रीम कोर्ट ने कहा- ‘’आर पार’ में अमीश एंकर नहीं, एक सह-प्रतिभागी थे’, याचिका ख़ारिज

उच्चतम न्यायालय ने सोमवार को सूफी-संत मोइनुद्दीन चिश्ती पर टिप्पणी के लिए पत्रकार अमीश देवगन के खिलाफ दर्ज एफआईआर को खारिज करने से इनकार कर दिया, क्योंकि तथ्यों को देखने से यह स्पष्ट है कि बहस में आरोपी अमीश...

थर्ड रेट टीवी एंकरों ने पीओके पर कराया फ़र्ज़ी हमला, भारत की कराई फ़ज़ीहत

आज तक, एबीपी न्यूज़ और न्यूज़ नेशन चैनल ने ऐसे एंकर रखे हुए हैं जो आये दिन अपने चैनलों की भद्द पिटवाते रहते हैं। इसकी ताजा मिसाल आज तक की एंकर अंजना ओम कश्यप, एबीपी की रुबिका लियाकत और...

अपनी ही नफरत की आग में जल जाएंगे अर्णब और कंगना!

महाराष्ट्र सरकार ऐसा लगता है कि अर्णब गोस्वामी को नायक बनाकर ही दम लेगी। न्यू इंडिया की आक्रामक, हिंसक तथा विभाजनकारी विचारधारा की लाक्षणिक विशेषताओं से परिपूर्ण, किंचित असमायोजित व्यक्तित्वधारी अतिमहत्वाकांक्षी अर्णब को महाराष्ट्र सरकार ने अपनी कोशिशों से...

टीआरपी के घोड़े पर सवार टीवी चैनलों के बदनुमा चेहरों का पर्दाफाश

निजी समाचार चैनलों में आपसी प्रतिस्पर्धा और टीआरपी की होड़ ने आम जनता की परेशानियों से उसे दूर कर दिया और सत्ता की गोद में बैठा दिया है। विशेष कर अन्ना आन्दोलन के समय से यह टेंडेंसी ज्यादा तेज...

बहुत लंबी है टीवी के पतन की प्रक्रिया

इससे पहले कि टीवी समाचार के आसमान पर छाए बादल फटते मैं निकल आया था। या निकलने को विवश हुआ था। लेकिन जाता कहां? ये मेरी ख़ुशफ़हमी थी। अपने इर्दगिर्द ऐसी फुसफुसाहटें, और ऐसी शिकारी आंखें रेंगने लगी थीं...

“लंपट हिंदी एंकरों को देखकर मोदी के समर्थक भी रोते होंगे”

ट्रोल का नेटवर्क कितना विशाल हो चुका है आपको अंदाज़ा लगता ही रहता होगा। इन्हें लगता है कि ये जब चाहेंगे तभी कुछ भी फैला कर पहले दुनिया को अंधेरे में रखेंगे और फिर उसे कुएं में धकेल देंगे। मेरे मनीला...
- Advertisement -spot_img

Latest News

सरकार चाहती है कि राफेल की तरह पेगासस जासूसी मामला भी रफा-दफा हो जाए

केंद्र सरकार ने एक तरह से यह तो मान लिया है कि उसने इजराइली प्रौद्योगिकी कंपनी एनएसओ के सॉफ्टवेयर...
- Advertisement -spot_img

Log In

Or with username:

Forgot password?

Forgot password?

Enter your account data and we will send you a link to reset your password.

Your password reset link appears to be invalid or expired.

Log in

Privacy Policy

Add to Collection

No Collections

Here you'll find all collections you've created before.