Wednesday, October 27, 2021

Add News

australia

पैंडोरा पेपर्स: ओसवाल की बीवीआई फर्म ने इंडोनेशिया की खदान से कोयला बेचा

पैंडोरा पेपर्स के खुलासे से पता चला है कि कैसे व्यक्ति और व्यवसाय घर पर कानून में खामियों और टैक्स हेवन के ढीले अधिकार क्षेत्र का उपयोग करके पता लगाने से बचने के लिए लिफाफे को आगे बढ़ा रहे...

अमेरिका का ऑकुस दांवः Thucydides Trap की एक और मिसाल?

अमेरिकी टीवी चैनल सीएनएन के विश्लेषक फरीद जकरिया की पहचान अमेरिका के लिबरल खेमे की सोच को जुबान देने वाले टीकाकार की है। अमेरिकी सियासत में डॉनल्ड ट्रंप के उभार के बाद से मोटे तौर पर सीएनएन चैनल की...

ऑकस समझौते से नाराज फ्रांस ने अमेरिका और आस्ट्रेलिया से वापस बुलाए अपने राजदूत

पनडुब्बी सौदा कैंसिल करने से नाराज़ होकर फ्रांस ने कल संयुक्त राज्य अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया से अपने राजदूतों को वापस बुला लिया है। फ्रांस के विदेश मंत्री जीन-यवेस ले ड्रियन ने बताया है कि राजदूतों को "परामर्श" के लिए...

स्टेट बैंक ऑफ इंडिया या ऑफ अडानी?

देखिए! क्या विडंबना है कि देश का सबसे बड़ा सरकारी बैंक, स्टेट बैंक ऑफ इंडिया अडानी इंटरप्राइजेज को ऑस्ट्रेलिया की कार्मिकेल खान प्रोजेक्ट के लिए एक बिलियन ऑस्ट्रेलियन डॉलर (करीब 5450 करोड़ रुपये) की रकम लोन देने जा रहा...

एक मरहूम खिलाड़ी के नाम एक मुल्क का माफ़ीनामा

ऐसे मौके इतिहास/तवारीख में शायद ही कभी आए हों, जब मुल्क की संसद एक सुर में एक ऐसे शख्स के नाम अपनी क्षमायाचना का इजहार करती हो जबकि उस शख्स को गुजरे छह साल बीत चुके हों। ऑस्ट्रेलिया की...

विश्व भर ने महसूस की जॉर्ज की पीड़ा

जॉर्ज फ्लायड की हत्या ने दुनिया भर की पीड़ित कौमों को उनकी पीड़ा का अहसास करा दिया है। नतीजतन फ्लायड की हत्या के बाद शुरू हुआ विरोध-प्रदर्शनों का दायरा अमेरिका की सरहदों को तोड़कर विश्वव्यापी होता जा रहा है।...

उदय प्रकाश की नजर से देखिए क्रिकेट के बहाने समाज, राजनीति, बाजार, नस्ल और देशों के बीच रिश्तों की नई दुनिया

अगर भू-भौगोलिक राजनीतिक दृष्टि से देखें, तो ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के बीच का यह सेमिफाइनल ही असल में वर्ल्ड कप का फ़ाइनल था।  उसी तरह जैसा भारत और पाकिस्तान के बीच का कोई भी मैच हुआ करता है। चाहे...
- Advertisement -spot_img

Latest News

सरदार उधम: आज देश को ‘राम मोहम्मद सिंह आज़ाद’ की ही जरूरत है

सरदार उधम अंत में एक सवाल उठाती है कि अंग्रेजों के शासन के दौरान भारत में लाखों लोग मारे...
- Advertisement -spot_img