Thursday, February 9, 2023

corruption

मनरेगा में व्याप्त भ्रष्टाचार के खिलाफ झारखंड में चलेगा मजदूर अधिकार संघर्ष अभियान

जब मनरेगा यानी महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम पर बात होती है तो यह जानना जरूरी हो जाता है कि मनरेगा की अवधारणा क्यों और कब तैयार की गई। तो बता दें कि नरेगा यानी राष्ट्रीय रोजगार गारण्टी...

नीरा राडिया के खिलाफ सीबीआई को कुछ नहीं मिला, 14 मामले में शुरुआती जांच के बाद मामले बंद

चर्चित कॉरपोरेट लॉबिस्ट नीरा राडिया के खिलाफ बरसों पहले लगाए गए जिन आरोपों ने सियासत से लेकर कारोबारी दुनिया और मीडिया तक में खलबली मचा दी थी, उसकी सीबीआई जांच में कुछ भी नहीं निकला। कल ये बात कथित...

भ्रष्टाचार का पेट भरने के अनुपात में बढ़ रही थी सुपरटेक के ट्विन टावर की ऊंचाई

नोएडा स्थित सुपरटेक के ट्विन टावर को रविवार को गिरा दिया गया। भ्रष्टाचार का पेट जैसे-जैसे भरा जा रहा था, नोएडा के ट्विन टावर निर्माण में टावर की ऊंचाई उसी हिसाब से बढ़ती जा रही थी। नोएडा के ट्विन...

राजनीतिक चंदे में पारदर्शिता के बगैर नहीं लाया जा सकता है सार्वजनिक जीवन में भ्रष्टाचार पर अंकुश 

2014 का चुनाव भ्रष्टाचार के मुद्दे पर लड़ा गया था क्योंकि इंडिया अगेंस्ट करप्शन आंदोलन की जड़ में, तत्कालीन यूपीए सरकार पर, भ्रष्टाचार के विभिन्न आरोपों के धब्बे थे। गुजरात मॉडल, विकास, और भ्रष्टाचार मुक्त देश आदि शिगूफे हवा...

ख़बर का असर: मनरेगा में जॉब कार्ड धारी मजदूरों को मिला काम

वर्षा के न होने की वजह से अकाल व सुखाड़ का असर झारखंड के गांवों में दिखने लगा है। जिसकी वजह से कृषि संबंधित कार्यों में हो रही दिक्कतों से गांव के मजदूर परिवारों की रोजी-रोटी की समस्या विराट रूप धारण...

भाजपा की डबल इंजन सरकार में भ्रष्टाचार बना संस्थागत; कहीं हाईवे टूटा तो कहीं बांध दरका, कहीं पुल धंसे

क्या यह महज संयोग है कि नवनिर्मित हाइवे धंस रहे हैं, पुलों में दरार पड़ रही है, बांध पहले रिस रहे हैं और फिर बांध की दीवार बह जा रही है या फिर भाजपा की डबल इंजन सरकार ने...

50 साल के कर्मचारी अयोग्य हैं तो नेता कैसे योग्य ?

एक बुजुर्ग जो अभी स्वास्थ्य विभाग में सेवारत हैं 50 साल पार के राज्यकर्मियों को जबरन रिटायर करने के रोडमैप के तौर पर हो रही स्क्रीनिंग पर कहते हैं – सरकार के इस तानाशाही फ़रमान से कर्मचारी दहशत में...

ग्राउंड रिपोर्टः धुंआ और राख के बीच घुटती लाखों जिंदगियां

‘‘जब मेरे इलाके में फैक्ट्रियां लगनी शुरू हुई थीं, तो मेरी उम्र लगभग 40 साल थी। मेरे गांव वाले बहुत खुश थे कि अब हमें रोजगार के लिए दूसरे राज्यों में नहीं जाना पड़ेगा। हमारे इलाके में नये-नये अस्पताल...

शोषित, उत्पीड़ित और उपेक्षितों की बुलन्द आवाज अवधेश कौशल नहीं रहे

कभी बंधुआ मजदूरों तो कभी जंगलवासी गुज्जरों और कभी घायल मसूरी की बेजुबान पहाड़ियों की लड़ाई सड़क से लेकर सुप्रीम कोर्ट तक लड़ने वाले पद्मश्री अवधेश कौशल नहीं रहे। 86 वर्षीय कौशल ने मंगलवार को देहरादून के एक निजी...

ट्रांसफर की धमकी पर हाईकोर्ट के जज ने कहा- मैं एक किसान का बेटा हूं और जमीन जोतने के लिए तैयार हूं

चीफ जस्टिस एनवी रामना ने हाल ही में अमेरिका में कहा था कि न्यायपालिका किसी दल विशेष के प्रति जवाबदेह नहीं है बल्कि केवल संविधान और संविधान के प्रति ही उसकी जवाबदेही है। उन्होंने यह भी कहा था कि भारत...

Latest News

‘उफ़! टू मच डेमोक्रेसी’: सादा ज़बान में विरोधाभासों से निकलता व्यंग्य

डॉ. द्रोण कुमार शर्मा का व्यंग्य-संग्रह ‘उफ़! टू मच डेमोक्रेसी’ गुलमोहर किताब से प्रकाशित हुआ है। वैसे तो ये व्यंग्य ‘न्यूज़क्लिक’...