Thursday, October 21, 2021

Add News

george

जॉर्ज फ्लॉयड हत्या मामले में हुआ इंसाफ

अमेरिका की एक अदालत ने जॉर्ज फ्लॉयड हत्या मामले में ऐतिहासिक फैसला सुनाते हुए मिनियापोलिस के पूर्व पुलिसकर्मी डेरेक शॉविन को हत्या का गुनहगार क़रार देते हुए, 22 साल 6 महीने जेल की सजा सुनाई है। अमेरिका में अश्वेत...

‘राष्ट्रपिता’ गांधी का नस्लवादी चेहरा, संदर्भ-ब्लैक लाइव्स मैटर

(अमेरिका में अफ्रीकी-अमेरिकी जॉर्ज फ्लायड की हत्या के बाद अमेरिका समेत यूरोप और दुनिया के अन्य हिस्सों में नस्लवाद विरोधी आंदोलन उठ खड़ा हुआ। ब्लैक लाइव्स मैटर नाम से चलने वाले इस आंदोलन में नस्लीय भेदभाव और दास प्रथा...

एक थी जॉर्ज फ्लायड की हत्या और एक है तूतीकोरिन में बाप-बेटे की पुलिस कस्टडी में मौत!

नई दिल्ली। एक अफ्रीकी-अमेरिकी की पुलिस प्रताड़ना से मौत के बाद अमेरिका समेत पूरी दुनिया में विद्रोह उठ खड़ा होता है। दास और औपनिवेशिक दौर की मूर्तियां ढहाई जाने लगती हैं। श्वेत समुदाय के लोग अफ्रीकी-अमेरिकी लोगों से माफी...

नस्ल भेद विरोधी आंदोलन पहुंचा नये चरण में, निशाने पर अब दास प्रथा और औपनिवेशिक दौर के प्रतीक

अमेरिका में जॉर्ड फ्लायड की हत्या के खिलाफ जो आंदोलन शुरू हुआ था उसने अब पूरे यूरोप को अपनी आगोश में ले लिया है। आस्ट्रेलिया से लेकर कनाडा तक इसकी धमक सुनायी दे रही है। समय बढ़ने के साथ...

ऐसा न हो कि सारी सरकारों को बंकर में छुपना पड़े

25 मई की रात लगभग आठ बजे अमेरिका के एक श्वेत पुलिस वाले डेरेक शौविन ने अश्वेत नागरिक जॉर्ज फ्लॉयड की अपने पैरों से कुचलकर हत्या कर दी। वजह बहुत मामूली थी, जॉर्ज पर बीस डॉलर का नकली नोट...

विश्व भर ने महसूस की जॉर्ज की पीड़ा

जॉर्ज फ्लायड की हत्या ने दुनिया भर की पीड़ित कौमों को उनकी पीड़ा का अहसास करा दिया है। नतीजतन फ्लायड की हत्या के बाद शुरू हुआ विरोध-प्रदर्शनों का दायरा अमेरिका की सरहदों को तोड़कर विश्वव्यापी होता जा रहा है।...

भारत में जनतंत्र हासिल करने का सफर अभी क्यों लंबा है? संदर्भ- अमेरिका का जार्ज फ्लायड हत्याकांड

अमेरिका के मिनेपोलिस शहर में काम करने वाले अफ्रीकी-अमेरिकन जार्ज फ्लायड की नृशंस हत्या और उसके विरुद्ध जिस तरह का राष्ट्रव्यापी-प्रतिरोध आज अमेरिका में देखा जा रहा है, उसे लेकर भारत के तमाम लोकतांत्रिक संगठनों, व्यक्ति-समूहों और व्यक्तियों में...
- Advertisement -spot_img

Latest News

ब्राह्मणवादी ढोल पर थिरकते ओबीसी के गुलाम नचनिये

भारत में गायों की गिनती होती है, ऊंटों की गिनती होती है, भेड़ों की गिनती होती है। यहां तक...
- Advertisement -spot_img