Tuesday, October 26, 2021

Add News

humiliation of farmers

महापंचायत में बोलीं प्रियंका गांधी- बेटों को सरहद पर भेजने वाले किसानों को अपमानित किया गया

“इंसानों की तरह देश का भी एक हृदय होता है। उस हृदय के धड़कने से देश जीवित होता है। मेरा मानना है कि इस देश का हृदय किसान हैं। जो ज़मीन से जुड़ा है। ज़मीन को सींचकर उपजाऊ बनाता...
- Advertisement -spot_img

Latest News

हाय रे, देश तुम कब सुधरोगे!

आज़ादी के 74 साल बाद भी अंग्रेजों द्वारा डाली गई फूट की राजनीति का बीज हमारे भीतर अंखुआता -अंकुरित...
- Advertisement -spot_img