Tuesday, January 18, 2022

Add News

karnatak

संविधान के मौलिक सिद्धांतों के खिलाफ है प्रस्तावित कर्नाटक धर्म स्वातंत्र्य विधेयक

दक्षिणपंथी राजनीति के बढ़ते दबदबे के चलते, कई भारतीय राज्यों ने धर्म स्वातंत्र्य अधिनियम बनाये हैं। विडंबना यह है कि ये सारे कानून, धर्म और आस्था की स्वतंत्रता को सीमित करते हैं। इनका घोषित उद्देश्य कथित धर्मपरिवर्तन रोकना है।...

चौतरफा आलोचना के बाद कर्नाटक कांग्रेस विधायक ने अपने महिला विरोधी बयान के लिए मांगी माफी

कर्नाटक विधानसभा के पूर्व अध्यक्ष और कांग्रेस के वरिष्ठ विधायक के आर रमेश कुमार ने अपनी चौतरफा आलोचना के बाद गुरुवार को विधानसभा में अपने विवादित मुहावरे के लिये विधानसभा के अंदर और बाहर माफ़ी मांग ली है। कांग्रेस...

भाजपा शासित कर्नाटक में हनुमान मंदिर में घुसने पर दलित परिवार पर 23 हजार का जुर्माना

हनुमान मंदिर में प्रवेश करने पर कर्नाटक के कोप्पल जिले के हनुमासागर के पास मियापुरा गांव में एक दलित परिवार पर 23,000 रुपये का जुर्माना लगाया गया है।  दरअसल एक दलित पिता अपने दो साल के बच्चे को लेकर 4...

चीफ जस्टिस ने कहा- नहीं चल पाएगी अंग्रेजों के जमाने की न्याय व्यवस्था

चीफ जस्टिस एनवी रमना ने कहा है कि भारत की न्याय व्यवस्था औपनिवेशिक है और समय के हिसाब से अब इसमें परिवर्तन की जरूरत है। इसका भारतीयकरण जरूरी हो गया है। उन्होंने कहा कि भारतीयकरण से मेरा तात्पर्य है...

आखिर क्यों बीजेपी को चलाना पड़ता है उधार के नेताओं से काम

एक बात डंके की चोट पर कही जा सकती है कि बीजेपी को शासन चलाना नहीं आता है। कर्नाटक में सत्ता फेरबदल ने एक बार फिर इस बात को साबित कर दिया है। जोड़-तोड़ से बनी कर्नाटक की येदुरप्पा...

येदियुरप्पा एक बार फिर जाति का कार्ड खेलने की तैयारी में

कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा एक बार फिर अपनी पार्टी के शीर्ष नेतृत्व को चुनौती देने की तैयारी में हैं। पार्टी नेतृत्व चाहता है कि वे अपनी उम्र के आधार पर मुख्यमंत्री पद छोड़ दें, लेकिन येदियुरप्पा ऐसा करने...

वाटरगेट से भी बड़ा है पेगासस गेट

टेलिग्राफ ने पेगासस मामले को वाटरगेट की संज्ञा दी है। लेकिन कल कर्नाटक सरकार के गिराने में पेगासस इस्तेमाल के नये खुलासे के बाद कहा जा सकता है कि यह महावाटर गेट है। वाटरगेट में तो सरकार बनाने के...

कर्नाटक की कांग्रेस सरकार गिराने में हुआ था पेगासस का इस्तेमाल

अक्सर यह सवाल पूछा जाता है कि चंगेज खां, तैमूरलंग, अलाउद्दीन खिलजी जैसे विदेशी आक्रान्ताओं से भारत के राजा, महाराजा क्यों पराजित हो जाते थे, कैसे बाबर ने बाहर से आकर मुगल सल्तनत कायम किया और 350 सालों से...

योगी के दिल्ली प्रवास के क्या हैं मायने?

अब भाजपा का पूरी तरह कांग्रेसीकरण हो चुका है। पहले भाजपा कैडर की पार्टी मानी जाती थी पर राष्ट्रव्यापी प्रसार और किसी भी कीमत पर सत्ता पाने की हवस ने पार्टी का दरवाजा कांग्रेस सहित अन्य दलों के लिए...

कर्नाटक हाईकोर्ट ने पुलिस कमिश्नर से पूछा- कोरोना नियमों को तोड़ने पर क्यों नहीं दर्ज हुआ अमित शाह के खिलाफ एफआईआर?

कोरोना महामारी के दौर में अब विभिन्न उच्च न्यायालय सीधे मोदी सरकार और गृहमंत्री अमित शाह को घेरने लगे हैं। वास्तव में मोदी सरकार का इक़बाल खत्म होता दिख रहा है। अब मोदी सरकार के नीतिगत निर्णयों पर भी...
- Advertisement -spot_img

Latest News

पुस्तक समीक्षा: सर सैयद को समझने की नई दृष्टि देती है ‘सर सैयद अहमद खान: रीजन, रिलीजन एंड नेशन’

19वीं सदी के सुधारकों में, सर सैयद अहमद खान (1817-1898) कई कारणों से असाधारण हैं। फिर भी, अब तक,...
- Advertisement -spot_img