Saturday, October 23, 2021

Add News

manish

5 दिन अपने गांव में ही रहा मनीष गुप्ता की हत्या का आरोपी इंस्पेक्टर, पुलिस कहती रही मिल ही नहीं रहा

कानपुर के कारोबारी मनीष गुप्ता का हत्यारा इंस्पेक्टर जगत नारायण सिंह पांच दिन अमेठी जिले में अपने गांव में छिपा रहा। जबकि दूसरी ओर गोरखपुर पुलिस दलील देती रही कि वो मिल ही नहीं रहा, जबकि गोरखपुर पुलिस उसे...

गोरखपुर के मनीष हत्याकांड ने एक बार फिर पुलिस सुधार की जरूरत को प्रासंगिक कर दिया है

कानून लागू करने का एक मूल सिद्धांत यह है कि, उसे कानूनी तरह से लागू किया जाय। कानून, कानून लागू करने वाली एजेंसियों, चाहे वह पुलिस हो, या अन्य कोई भी एजेंसी, को जब उक्त कानून लागू करने का...

गोरखपुर: आधी रात चेकिंग करने आयी योगी की ‘ठोक दो’ पुलिस ने युवा कारोबारी मनीष गुप्ता की हत्या की

कानपुर के कारोबारी मनीष गुप्ता (38 वर्ष) की गोरखपुर के एक होटल में पुलिसकर्मियों ने पीट-पीटकर हत्या कर दी। घटना मंगलवार की है। दरअसल पुलिस के जवान आधी रात होटल में चेकिंग के बहाने उनके कमरे में घुस गए...

टीकाकरण ने मोदी के राष्ट्रवाद में पलीता लगा दिया

मोदी सरकार जब सत्ता में आई तो उसने राष्ट्रवाद का एक नया आख्यान रचने की कोशिश की ।पिछले साल जब कोरोना ने दस्तक दी तो मोदी सरकार ने थाली बजाकर और मोमबत्तियां जलाकर इसी राष्ट्रवाद को मजबूत बनाने की...

माले के वाराणसी दफ्तर पर आधी रात को पुलिस का छापा, पार्टी ने जताया कड़ा एतराज

लखनऊ। सीपीआई (एमएल) के वाराणसी दफ्तर में पुलिस ने छापा मारा है। बताया जा रहा है कि यह छापा कल रात में तकरीबन 11 बजे पड़ा है। पार्टी की केंद्रीय समिति के सदस्य कॉ. मनीष ने बताया कि पुलिसकर्मियों...

“ऐसे ‘अपराधी’ से मैं केवल बहन ही नहीं बल्कि नागरिक के तौर पर भी प्यार करती हूं”

यह सरकार अपनी अल्पसंख्यक, दलित, महिला, आदिवासी, पर्यावरण विरोधी सत्ता को कायम रखने के लिए दो तरह के काम कर रही है। एक ओर तो वह एक बड़ी आबादी के दिमाग को साम्प्रदायिक, ब्राह्मणवादी संकीर्णता से भर कर उन्हें आपसी झगड़ों और लिंचिंग...

अमिता-मनीष की गिरफ्तारी पर उठे सवाल, लोगों ने पूछा-आतंकवाद की आरोपी संसद में और मानवाधिकावादियों को जेल

लखनऊ। लखनऊ में सामाजिक, सांस्कृतिक और राजनीतिक संगठनों के कार्यकर्ताओं ने रिहाई मंच कार्यालय पर बैठक करके एक स्वर में भोपाल से अमिता और मनीष श्रीवास्तव की गिरफ्तारी को अवैध बताते हुए रिहाई की मांग की। बैठक में इलाहाबाद से आईं सीमा...

झूठी है मनीष और अमिता की गिरफ्तारी के पीछे की पुलिस की कहानी!

(लेखिका और एक्टिविस्ट सीमा आजाद ने पुलिस द्वारा भोपाल में की गयी दो गिरफ्तारियों के बारे में बताया है। गिरफ्तार किए गए मनीष श्रीवास्तव और अमिता श्रीवास्तव पति-पत्नी हैं और सीमा आजाद के भाई और भाभी हैं। आजाद ने...
- Advertisement -spot_img

Latest News

अडानी-भूपेश बघेल की मिलीभगत का एक और नमूना, कानून की धज्जियां उड़ाकर परसा कोल ब्लॉक को दी गई वन स्वीकृति

रायपुर। हसदेव अरण्य क्षेत्र में प्रस्तावित परसा ओपन कास्ट कोयला खदान परियोजना को दिनांक 21 अक्टूबर, 2021 को केन्द्रीय...
- Advertisement -spot_img