Thursday, February 2, 2023

suicide

ग्राउंड रिपोर्ट: मौजूदा व्यवस्था व सरकारी नीतियों की बलि चढ़ा एक और छात्र, इल्जाम एक बार फिर मोहब्बत के नाम

प्रयागराज। इलाहाबाद सेंट्रल यूनिवर्सिटी के ताराचंद हॉस्टल के कमरा नंबर 208 में एक छात्र आशीष तिवारी पुत्र सत्यनारायण तिवारी ने पंखे से लटककर जान दे दी। मरहूम छात्र आशीष तिवारी निवासी सैबसी, थाना ललौली, जनपद फ़तेहपुर का निवासी था...

इलाहाबाद विश्वविद्यालय: फीस वृद्धि आंदोलन ने लिया विस्फोटक रूप, छात्रों ने की सामूहिक आत्मदाह की कोशिश

प्रयागराज। फ़ीस वृद्धि के ख़िलाफ़ इलाहाबाद यूनिवर्सिटी में आज कुलपति दफ़्तर पर 15-20 छात्रों ने पेट्रोल छिड़ककर आत्मदाह की कोशिश की। गौरतलब है कि छात्र पिछले 15 दिनों से यूनिवर्सिटी कैंपस में धरना दे रहे हैं। संयुक्त छात्र संघर्ष...

इलाहाबाद यूनिवर्सिटी: 400 प्रतिशत फीस वृद्धि के खिलाफ छात्रों का आंदोलन जारी, छात्र ने की आत्मदाह की कोशिश

प्रयागराज। 400 प्रतिशत फीस वृद्धि के ख़िलाफ़ इलाहबाद यूनिवर्सिटी में छात्रों का आंदोलन 15वें दिन में प्रवेश कर गया। कल वहीं छात्र आंदोलन के दौरान छात्रों ने भैंस के आगे बीन बजाकर यूनिवर्सिटी प्रशासन की संवेदनहीनता का मुज़ाहिरा किया।...

आखिर क्यों आत्महत्या के लिए मजबूर हैं यूपी के शिक्षा मित्र?

पिछले दो दिनों से एक शिक्षामित्र की ट्रेन के नीचे आकर आत्महत्या करने की कहानी सोशल मीडिया में छाई हुई है। बिजनौर के चांदपुर में ट्रेन की चपेट में आने से गांव मिर्जापुर बेला निवासी शिक्षामित्र की दर्दनाक मौत...

एक चुनौती है गरीब किसान-मजदूर की आत्महत्या

देश के दिहाड़ी मजदूरों की आत्महत्याओं के आंकड़े, उनकी दर्दनाक हालात बयान करते हैं। राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो के हाल ही में 2021 के जारी किए आंकड़ों के अनुसार, इस वर्ग में आत्महत्याओं का अनुपात अन्य वर्गों की तुलना...

आखिर कब तक गौवंशी चरते रहेंगे किसानों की ज़िदगी?

“मेरे ये शब्द लिखकर रखिए, ये मोदी बोल रहा है और आपके आशीर्वाद के साथ बोल रहा है। जो पशु दूध नहीं देता है, उसके गोबर से भी आय हो, ऐसी व्यवस्था मैं आपके सामने खड़ी कर दूंगा।” नरेंद्र मोदी...

माले महासचिव ने किया परिवार की सामूहिक आत्महत्या वाले घटनास्थल का दौरा

पटना। भाकपा (माले) महासचिव कामरेड दीपंकर भट्टाचार्य 6 जून को समस्तीपुर जिले के विद्यापतिनगर प्रखंड अंतर्गत मऊ गांव पहुंचे जहां परसों 5 जून (रविवार) की सुबह एक ही परिवार के दो नाबालिग बच्चों और वृद्ध मां समेत परिवार के...

‘आप’ के राज में भी किसान आत्महत्या क्यों कर रहे हैं?

पंजाब में आम आदमी पार्टी का राज आ जाने से जिन्हें यह भ्रम था कि चमत्कार हो जायेगा उनके दिल से जुड़ी उम्मीद की नाज़ुक रगें टूटने लगी हैं और क़र्ज़ में डूबे किसानों की आत्महत्याओं का दम भर...

पड़ताल: इलाहाबाद में युवा क्यों दे रहे हैं अपनी जान?

इलाहाबाद/प्रतापगढ़। गांव गाल्हन, विश्वनाथगंज जिला प्रतापगढ़ की एक बूढ़ी मां की सूनी आंखों में बेपनाह पीड़ा है। बेटे का जिक्र सुनते ही आंसू आंखों की हदबंदी तोड़ बाहर आ जाते हैं। वो सुबक सुबककर रोने लगती हैं। वो किसी...

आत्महत्याओं के रूप में फूट पड़ा है पहाड़ों का दर्द

“आत्महत्या एक घृणित अपराध है, यह पूर्णतः कायरता का कार्य है। क्रान्तिकारी का तो कहना ही क्या, कोई भी मनुष्य ऐसे कार्य को उचित नहीं ठहरा सकता। …. आत्महत्या करना, केवल कुछ दुखों से बचने के लिए अपने जीवन...

Latest News

जेल साहित्य को समृद्ध करती मनीष और अमिता की जेल डायरी

भारत में जेल साहित्य दिन प्रतिदिन बढ़ रहा है, यह अच्छी बात भी है और बुरी भी। बुरी इसलिए...