Monday, November 29, 2021

Add News

unemployment

मोदी सरकार की तर्ज पर बिहार में तानाशाही कायम करना चाहते हैं नीतीश: दीपंकर भट्टाचार्य

पटना। भाकपा-माले के महासचिव कॉ. दीपंकर भट्टाचार्य ने कहा है कि मोदी की तानाशाही की तर्ज पर बिहार में तानाशाही का नीतीश मॉडल विकसित हो रहा है। मोदी-योगी सरकार के नक्शे कदम पर चलते हुए कुछ दिन पहले ही...

राजनीति की धमनियों में है युवा खून की दरकार

यदि कोई बीमार है, पचास तरह की बीमारियां हैं, जुकाम से लेकर सारे शरीर में दर्द, दिल भी खराब, जिगर भी कमजोर, किडनी भी ठीक काम नहीं कर रही, तो क्या करेंगे? जाहिर है डॉक्टर ही देखेगा। डॉक्टर अकेले...

लखनऊ: युवा कांग्रेस ने शुरू किया बेरोजगारी के खिलाफ नौकरी संवाद

लखनऊ। युवा कांग्रेस ने आज प्रदेश मुख्यालय पर राष्ट्रीय युवा दिवस के दिन नौकरी संवाद की शुरुआत की। नौकरी संवाद में प्रदेश भर से आये नौजवानों ने अपनी व्यथा बताई। युवा कांग्रेस नौकरी संवाद के जरिये पूरे प्रदेश में...

किसानों का यह संघर्ष ही भारतीय अर्थव्यवस्था के तमाम संकटों की कुंजी है

भारत में ग्रामीण अर्थव्यवस्था के साथ पूंजीवाद का संबंध उपनिवेश और औपनिवेशिक शक्ति के बीच के संबंध का रूप ले चुका है। पिछले तमाम वर्षों में गांवों में निवेश और गांवों से धन की निकासी के बीच भारी फ़र्क़...

मौजूदा लेबर कोड मजदूरों की गुलामी का दस्तावेज

जमाखोरी, न्यूनतम समर्थन मूल्य के खात्मे, ठेका खेती के जरिए जमीनों पर कब्जा करने और देश की खाद्य सुरक्षा को खतरे में डालकर खेती किसानी को देशी-विदेशी कॉरपोरेट घरानों के हवाले करने की आरएसएस-भाजपा की मोदी सरकार की कोशिश...

किसान आंदोलन, गोदी मीडिया और प्रधानमंत्री के आमोद-प्रमोद में खलल

एक ज़माना था, जब हमारे देश में खेती को सब से उत्तम कार्य माना जाता था। महाकवि घाघ की एक मशहूर कहावत है-  "उत्तम खेती, मध्यम बान, निषिद्ध चाकरी, भीख निदान।" यानी खेती सब से अच्छा कार्य है। व्यापार...

भट्ठों की बंधुआ जिंदगी से मिली 16 मजदूरों को निजात

ईंट भट्ठे, बंधुआ मजदूरी के पर्याय बन गए हैं। कितना अजीब लगता है सुनने में कि आज जब सूचना और तकनीकी बच्चे-बच्चे की पहुंच में है, ऐसे समय में एक-दो नहीं, दर्जनों लोगों को कुछ लोग बंधुआ बनाकर काम...

लॉकडाउन के साइड इफेक्टः टूट गए मध्यवर्गीय महिलाओं के सपनों के पंख

कोरोना वायरस और लॉकडाउन ने शहरों में भयानक आर्थिक संकट को जन्म दिया है। इसके अहम पहलूओं से अभी भी हम अछूते हैं। शहर में रहने वाली कामकाजी महिलाओं से काम छिन गया है। जॉब का छिन जाना उन...

बिहारः जाति से बाहर निकलने की छटपटाहट

बिहार के चुनाव रोचक और दिलचस्प हो गए हैं। इसकी वजह यह नहीं है कि तेजस्वी का महागठबंधन नीतीश कुमार के नेतृत्व वाले एनडीए को पछाड़ने की स्थिति में है और लंबे समय से चले आ रहे शासन के...

कृषि कानून नहीं, यह मोदी की अडानी-अंबानी को 62 लाख करोड़ की सौगात है!

मोदी सरकार किसानों को व्यापारी बनाने का नाम देकर पूंजीपतियों की मैनेजमेंट समिति, बड़े पूंजीपतियों को पूंजी निवेश और बेरोकटोक लाभ कमाने के अवसर प्रदान करने के लिए कृषि क्षेत्र का लगभग 62 लाख करोड़ का व्यापार सोने की...
- Advertisement -spot_img

Latest News

भारत-माता का संदर्भ और नागरिक, देश तथा समाज का प्रसंग

'भारत माता की जय' भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन के दौरान सबसे अधिक लगाया जाने वाला नारा था। भारत माता का...
- Advertisement -spot_img