Friday, April 19, 2024

चंडीगढ़ मेयर चुनाव में हुए धांधली का विरोध, दिल्ली की सड़कों पर AAP कार्यकर्ताओं का प्रदर्शन

नई दिल्ली। आम आदमी पार्टी और भाजपा के दो सौ से अधिक कार्यकर्ताओं को पुलिस ने दीन दयाल उपाध्याय मार्ग पर गिरफ्तार कर लिया। दोनों पार्टियों के कार्यकर्ता एक दूसरे के कार्यालय की तरफ मार्च कर रहे थे। लेकिन पुलिस ने दोनों पार्टियों के कार्यकर्ताओं को बीच में ही रोक कर गिरफ्तार कर लिया।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान ने चंडीगढ़ मेयर चुनाव में हुए धांधली के खिलाफ आप कार्यकर्ताओं के धरना-प्रदर्शन का नेतृत्व किया। आप कार्यालय पर पहुंचकर दोनों मुख्यमंत्रियों ने कार्यकर्ताओं का हौसला बढ़ाया और भाजपा सरकार पर निशाना साधा। उन्होंने कार्यकर्ताओं से कहा कि पुलिस जहां रोके, वहीं रूक कर विरोध करिए।

अरविंद केजरीवाल ने कहा कि चंडीगढ़ मेयर चुनावों में इन्होंने वोटों की चोरी की। भाजपा के पाप का घड़ा भर चुका है। पाप बढ़ने पर ऊपर वाला आता है। पाप के बाद कुदरत झाड़ू चलाता है। देश के साथ खिलवाड़ नहीं होना चाहिए। भाजपा सत्ता के लिए देश को भी बेच सकती है।

चंडीगढ़ मेयर चुनाव में धांधली के खिलाफ आज दिल्ली में आम आदमी पार्टी के प्रदर्शन के समानांतर भाजपा ने भी अरविंद केजरीवाल के कथित भ्रष्टाचार के खिलाफ दीन दयाल मार्ग स्थित आप मुख्यालय पर धरना देने का ऐलान कर दिया। शुक्रवार को दोनों दलों के कार्यकर्ता एक दूसरे के दफ्तर पर धरना देने के लिए अपने कार्यालय से निकल भी लिए। लेकिन पुलिस ने उन्हें बीच में ही रोक दिया।

दिल्ली पुलिस के एक अधिकारी ने कहा कि “हमने कार्यकर्ताओं को पार्टी कार्यालयों तक पहुंचने से रोकने के लिए बहुस्तरीय बैरिकेड्स के साथ पहले से ही विस्तृत व्यवस्था की थी। एक अधिकारी ने कहा, आप के लगभग 150 और भाजपा के 60 कार्यकर्ताओं को हिरासत में लिया गया और बसों में अलग-अलग पुलिस स्टेशनों में ले जाया गया। आईटीओ और डीडीयू मार्ग के आसपास 1,000 से अधिक कर्मियों को तैनात किया गया है।”

उन्होंने कहा कि प्रदर्शनकारियों पर नियंत्रण के लिए दंगा-रोधी गियर और डंडों के साथ डीडीयू मार्ग पर अर्धसैनिक बल की दो कंपनियां तैनात की गईं, जिनमें महिला कर्मचारी और दिल्ली पुलिस की सशस्त्र इकाई के कर्मी शामिल थे। एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा कि प्रदर्शनकारियों को दोपहर करीब 1.45 बजे हिरासत में लिया गया और उन्हें अलग-अलग पुलिस स्टेशनों में ले जाया गया, जहां से उन्हें कुछ घंटों के बाद रिहा कर दिया जाएगा।

दिल्ली सरकार में मंत्री आतिशी ने कहा, ‘चंडीगढ़ के मेयर चुनाव में खुलेआम धोखाधड़ी हुई। आज आप के नेता, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान दिल्ली में भाजपा के खिलाफ एक शांतिपूर्ण विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। लेकिन इस शांतिपूर्ण विरोध प्रदर्शन से पहले पूरे दिल्ली में बैरिकेड्स लगा दिए गए हैं। आप के कार्यालय को छावनी बना दिया गया है। आज भाजपा को इतना डर लग रहा है कि एक तरफ चुनाव में घपला करते हैं और दूसरी तरफ देश में शांतिपूर्ण प्रदर्शन भी नहीं हो सकता। भाजपा को इतना डर क्यों है?’

आप नेता सौरभ भारद्वाज ने कहा कि भाजपा बेईमानी पहले भी करती थी, एमसीडी चुनाव में भी भाजपा ने बेईमानी की। लेकिन देश में पहली बार कैमरे पर भाजपा की चोरी चंडीगढ़ मेयर चुनाव में पकड़ी गई। आम आदमी पार्टी के नेता विनय मिश्रा ने कहा कि 20 वोट रखने वाला गठबंधन चुनाव हार जाता है, और 16 वोट वाली भाजपा चुनाव जीत जाती है, सरेआम वीडियो पर वोट चोरी करके। जब मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और मुख्यमंत्री भगवंत मान ने प्रदर्शन करना चाहा तो भाजपा ने पूरी दिल्ली को पुलिस की छावनी बना दिया। आप आंदोलन से निकली पार्टी है, डरने नहीं वाली।

(जनचौक की रिपोर्ट।)

जनचौक से जुड़े

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

Latest Updates

Latest

जौनपुर में आचार संहिता का मजाक उड़ाता ‘महामानव’ का होर्डिंग

भारत में लोकसभा चुनाव के ऐलान के बाद विवाद उठ रहा है कि क्या देश में दोहरे मानदंड अपनाये जा रहे हैं, खासकर जौनपुर के एक होर्डिंग को लेकर, जिसमें पीएम मोदी की तस्वीर है। सोशल मीडिया और स्थानीय पत्रकारों ने इसे चुनाव आयोग और सरकार को चुनौती के रूप में उठाया है।

AIPF (रेडिकल) ने जारी किया एजेण्डा लोकसभा चुनाव 2024 घोषणा पत्र

लखनऊ में आइपीएफ द्वारा जारी घोषणा पत्र के अनुसार, भाजपा सरकार के राज में भारत की विविधता और लोकतांत्रिक मूल्यों पर हमला हुआ है और कोर्पोरेट घरानों का मुनाफा बढ़ा है। घोषणा पत्र में भाजपा के विकल्प के रूप में विभिन्न जन मुद्दों और सामाजिक, आर्थिक नीतियों पर बल दिया गया है और लोकसभा चुनाव में इसे पराजित करने पर जोर दिया गया है।

सुप्रीम कोर्ट ने 100% ईवीएम-वीवीपीएटी सत्यापन की याचिका पर फैसला सुरक्षित रखा

सुप्रीम कोर्ट ने EVM और VVPAT डेटा के 100% सत्यापन की मांग वाली याचिकाओं पर निर्णय सुरक्षित रखा। याचिका में सभी VVPAT पर्चियों के सत्यापन और मतदान की पवित्रता सुनिश्चित करने का आग्रह किया गया। मतदान की विश्वसनीयता और गोपनीयता पर भी चर्चा हुई।

Related Articles

जौनपुर में आचार संहिता का मजाक उड़ाता ‘महामानव’ का होर्डिंग

भारत में लोकसभा चुनाव के ऐलान के बाद विवाद उठ रहा है कि क्या देश में दोहरे मानदंड अपनाये जा रहे हैं, खासकर जौनपुर के एक होर्डिंग को लेकर, जिसमें पीएम मोदी की तस्वीर है। सोशल मीडिया और स्थानीय पत्रकारों ने इसे चुनाव आयोग और सरकार को चुनौती के रूप में उठाया है।

AIPF (रेडिकल) ने जारी किया एजेण्डा लोकसभा चुनाव 2024 घोषणा पत्र

लखनऊ में आइपीएफ द्वारा जारी घोषणा पत्र के अनुसार, भाजपा सरकार के राज में भारत की विविधता और लोकतांत्रिक मूल्यों पर हमला हुआ है और कोर्पोरेट घरानों का मुनाफा बढ़ा है। घोषणा पत्र में भाजपा के विकल्प के रूप में विभिन्न जन मुद्दों और सामाजिक, आर्थिक नीतियों पर बल दिया गया है और लोकसभा चुनाव में इसे पराजित करने पर जोर दिया गया है।

सुप्रीम कोर्ट ने 100% ईवीएम-वीवीपीएटी सत्यापन की याचिका पर फैसला सुरक्षित रखा

सुप्रीम कोर्ट ने EVM और VVPAT डेटा के 100% सत्यापन की मांग वाली याचिकाओं पर निर्णय सुरक्षित रखा। याचिका में सभी VVPAT पर्चियों के सत्यापन और मतदान की पवित्रता सुनिश्चित करने का आग्रह किया गया। मतदान की विश्वसनीयता और गोपनीयता पर भी चर्चा हुई।