Sunday, May 29, 2022

हैदराबाद यूनिवर्सिटी में भी नवमी के दिन परिषद ने स्थापित कर दी मूर्ति

Janchowkhttps://janchowk.com/
Janchowk Official Journalists in Delhi

ज़रूर पढ़े

हैदराबाद। हैदराबाद विश्वविद्यालय के अंदर एक पत्थर की संरचना को राम नवमी के अवसर पर रविवार, 10 अप्रैल को राम मंदिर में परिवर्तित कर दिया गया, जिससे छात्रों में चिंता बढ़ गई है। संरचना कथित तौर पर अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) और अन्य दक्षिणपंथी समूहों से संबंधित छात्रों के एक समूह द्वारा स्थापित की गई थी। पुरुषों के छात्रावास एफ के परिसर में चट्टानों का निर्माण नारंगी और लाल रंग के निशानों में रंगा हुआ देखा गया था।  देवताओं के चित्र राम और हनुमान को चट्टानों के नीचे स्थापित किया गया था, भगवा झंडे लगाए गए थे और स्थल पर अनुष्ठान किए गए थे। मंदिर की स्थापना ने छात्र समुदाय में चिंता पैदा कर दी है, क्योंकि इसे परिसर के भगवाकरण और संदिग्ध दावों के साथ हिंदू पूजा स्थल के रूप में स्थान पर कब्जा करने के प्रयास के रूप में देखा जा रहा है।

जबकि एबीवीपी ने दावा किया है कि छात्रों ने केवल एक मौजूदा मंदिर की सफाई की थी, कैंपस के कर्मचारियों और छात्रों ने बताया कि विवादित स्थान पर कोई धार्मिक संरचना नहीं थी।

10 अप्रैल की सुबह विश्वविद्यालय की एबीवीपी इकाई द्वारा आयोजित रामनवमी समारोह गुरुबख्श सिंह मैदान परिसर में आयोजित किया गया।  कुछ छात्रों के अनुसार विश्वविद्यालय के कुलपति बीजे राव ने भी भाग लिया था। गुरुबख्श सिंह मैदान के अलावा भी कैंपस परिसर के हॉस्टल-एफ के सामने पत्थरों पर भी भगवा रंग पोत दिया गया और वहां भी एक छोटी सी मूर्ति के साथ मंदिर की स्थापना की गई। बीते चार दिन बाद भी इस मामले में यूनिवर्सिटी प्रशासन द्वारा कोई भी कदम नहीं उठाया गया है,पत्थरें आज भी भगवा रंग में रंगी हुई हैं।

2019 के बाद से, भाजपा प्रशासन ने भारत को एक मजबूत हिंदू राष्ट्र के रूप में बनाने के प्रयास में कई विवादास्पद निर्णय लिए जिनमें से एक एनईपी था। NEP निश्चित रूप से भारतीय राजनीति में वर्तमान हिंदू-राष्ट्रवादी विमर्श से लिया गया है।  

छात्र संघ के महासचिव और अंबेडकर छात्र संघ (एएसए) के संयोजक गोपी स्वामी ने आरोप लगाया कि हाल के दिनों में एबीवीपी और दक्षिणपंथी ताकतों ने परिसर का भगवाकरण करने की कोशिशें तेज कर दी हैं।  “इस विशिष्ट घटना में, राम नवमी समारोह के बाद, उन्होंने एक पत्थर की संरचना को राम मंदिर में बदल दिया है। वे नए भर्ती छात्रों को अपनी सांप्रदायिक कट्टरता से प्रभावित कर रहे हैं”।

गोपी स्वामी ने आरोप लगाया कि समारोह में कुलपति की भागीदारी से छात्रों को मंदिर स्थापित करने की छूट मिल सकती थी।  उन्होंने कहा कि एबीवीपी कुछ अवसरों का उपयोग विश्वविद्यालय में “प्रगतिशील और वैज्ञानिक ताकतों को उकसाने” के लिए कर रही है।

जिस वक्त जेएनयू जैसे विश्वविद्यालयों में कम्युनल दंगों को हवा दी जा रही थी,मांसाहारी और शाकाहारी खाने के नाम पर बच्चों को दौड़ा दौड़ा कर पीटा जा रहा था उसी वक्त एचसीयू जैसी बड़ी यूनिवर्सिटी में भी भगवाकरण और हिंदुत्ववादी ताकतों को हवा दी जा रही थी। कुछ बड़ा अंतर है नहीं जेएनयू और एचसीयू के मामलों में दोनों जगह संघ के कम्युनल एजेंडा के काम को हवा दी गई। एचसीयू में भी राम नवमी के अवसर पर मांसाहारी खाना नहीं बनाने दिया गया और उसका कारण ये बताया गया कि राम नवमी का प्रसाद बनाया जाएगा। दोनों मामले एक दूसरे से जुड़े हैं और पूरी हिंदुत्व की विचारधारा पर आधारित है।

इस पूरे मामले की नकल दिल्ली में नगर निगम के एक फैसले से की गयी है। जिसमें एसडीएमसी (दक्षिणी दिल्ली नगर निगम) की ओर से कहा गया था कि नवरात्रि के संदर्भ में ‘धार्मिक भावनाओं को आहत करने’ को रोकने के लिए मांस की दुकानों को बंद कर दिया जाना चाहिए।  यह कहते हुए कि नवरात्रि में प्याज और लहसुन की खपत की भी अनुमति नहीं है, एसडीएमसी ने 11 अप्रैल तक सभी मांसाहारी की बिक्री पर प्रतिबंध लगाने का आह्वान किया है, जिससे क्षेत्र में मांस की दुकानें बंद हो जाएंगी। धार्मिक भावनाओं के लिए यह सम्मान केवल हिंदुत्व की विचारधारा को कायम रखने वाली एकरूपता के दक्षिणपंथी एजेंडे से जुड़ा है।

(हैदराबाद से हर्ष शुक्ला की रिपोर्ट।)

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

- Advertisement -

Latest News

दूसरी बरसी पर विशेष: एमपी वीरेंद्र कुमार ने कभी नहीं किया विचारधारा से समझौता

केरल के सबसे बड़े मीडिया समूह मातृभूमि प्रकाशन के प्रबंध निदेशक, लोकप्रिय विधायक, सांसद और केंद्र सरकार में मंत्री...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This