Tuesday, January 18, 2022

Add News

भाजपा के नए माफ़ी-वीर कपिल मिश्रा ने स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन से मांगी माफी

ज़रूर पढ़े

भाजपा के नए माफ़ी-वीर कपिल मिश्रा ने मानहानि मामले में दिल्ली सरकार के स्वास्थ्य मंत्री सत्येन्द्र जैन से दिल्ली की एक कोर्ट के सामने बिना शर्त माफ़ी मांग ली है। साल 2017 में आम आदमी पार्टी (आप) से निकाले जाने के बाद कपिल मिश्रा ने ‘आप’ के नेता सत्येंद्र जैन पर मुख्यमंत्री अरंविद केजरीवाल को दो करोड़ रुपए नकद घूस देने के आरोप लगाया था।

इसके बाद सत्येंन्द्र जैन ने कपिल मिश्रा के खिलाफ़ कोर्ट में मानहानि का आपराधिक केस दायर किया था। इसमें उन्होंने कहा था कि कपिल मिश्रा ने 7 मई 2017 को उन पर झूठा आरोप लगाया है। इसके बाद हाई कोर्ट ने कपिल मिश्रा को तलब किया था। साथ ही उनके खिलाफ़ आईपीसी की धारा 500 (मानहानि की सज़ा) के तहत आरोप भी दर्ज किए गए थे।

28 अक्तूबर को अतिरिक्त मुख्य मेट्रोपोलिटन मिजस्ट्रेट विशाल पाहुजा की अध्यक्षता वाली सांसद-विधायक अदालत के सामने सत्येंद्र जैन ने कहा था कि यदि कोर्ट के सामने कपिल मिश्रा बिना शर्त माफी मांगते हैं तो वो उनके खिलाफ दायर मानहानि का अपना केस वापिस ले लेंगे।

इसके बाद ही कपिल मिश्रा ने कोर्ट के सामने सत्येंद्र जैन से बिना शर्त माफी मांग ली। इसके बाद सत्येंद्र जैन ने कोर्ट से केस वापस ले लिया।

कपिल मिश्रा के अब तक के राजनीतिक सफ़र में उनके झूठे, सांप्रदायिक और हेट स्पीचों का बड़ा योगदान रहा है। जब वह आम आदमी पार्टी में थे तो नरेंद्र मोदी के खिलाफ़ दिल्ली की विधानसभा में एक महिला के साथ उनके कथित संबंधों को लेकर बयान दिया था। और भी कई गंभीर आरोप नरेंद्र मोदी के खिलाफ़ लगाए थे। इसके बाद जब कपिल मिश्रा को आम आदमी पार्टी से निकाल दिया गया तो उन्होंने अरविंद केजरीवाल और उनकी पत्नी सुनीता केजरीवाल के खिलाफ़ भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप लगाकर भाजपा में अपने लिए रास्ता बनाया।

यही नहीं दिल्ली दंगों को भड़काने के लिए बेहद सांप्रदायिक और हेट स्पीच देकर दिल्ली में 53 लोंगों की जान ली और भाजपा में अपने और आगे बढ़ने का रास्ता बनाया। देखना है दिल्ली दंगों को भड़काने में उनकी भूमिका का जांच कब होती है। 

(जनचौक के विशेष संवाददाता सुशील मानव की रिपोर्ट।)

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

पुस्तक समीक्षा: सर सैयद को समझने की नई दृष्टि देती है ‘सर सैयद अहमद खान: रीजन, रिलीजन एंड नेशन’

19वीं सदी के सुधारकों में, सर सैयद अहमद खान (1817-1898) कई कारणों से असाधारण हैं। फिर भी, अब तक,...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This

- Advertisement -