Friday, December 2, 2022

औरैया में टीचर की पिटाई से दलित छात्र की मौत:स्कूल के सामने शव रखकर प्रदर्शन-पथराव, पुलिस की गाड़ी फूंकी

Follow us:
Janchowkhttps://janchowk.com/
Janchowk Official Journalists in Delhi

ज़रूर पढ़े

उत्तर प्रदेश के औरैया में एक दलित छात्र को एक टीचर ने इतना पीटा कि उसकी मौत हो गई। बताया जा रहा है कि टीचर ने क्लास में बच्चों का टेस्ट लिया था। इसमें दलित छात्र निखित ने ओएमआर सीट में एक खाने की जगह दो खाने ब्लैक कर दिए थे और सामाजिक विज्ञान में सामाजिक की जगह समाजक लिख दिया था। इससे नाराज टीचर ने उसे डंडे, लात और घूसों से इतना पीटा कि वह बेहोश हो गया। इलाज के दौरान 18वें दिन उसकी मौत हो गई।

इस घटना की जानकारी मिलते ही सोमवार को स्कूल बंद कर दिया गया। आरोपी टीचर फरार है, पुलिस उसकी तलाश कर रही है। उसके खिलाफ मुकदमा भी दर्ज कर लिया गया है। पोस्टमॉर्टम के बाद शाम को शव परिजनों को सौंप दिया गया। वहीं परिजन शव को एंबुलेंस से सीधे स्कूल लेकर पहुंचे और प्रदर्शन शुरू कर दिया। उधर भीम आर्मी के सदस्य भी गांव पहुंच गए और हंगामा कर रहे हैं।

मौके पर एएसपी शिष्य पाल, एसडीएम लवजीत कौर, बिधूना सीओ महेंद्र प्रताप सिंह मौके पर पहुंच गए हैं। परिजनों का कहना है कि मांग माने जाने तक शव उठने नहीं देंगे। परिजनों की पुलिस अधिकारियों से करीब 1 घंटे तक बातचीत हुई, लेकिन कोई हल नहीं निकला। पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को हटाने की कोशिश की तो ग्रामीणों ने पथराव कर दिया। तनाव को देखते हुए फोर्स और PAC बुलाई गई है।

भारी पुलिस फोर्स को देखकर प्रदर्शनकारी कॉलेज में छिप कर बैठ गए हैं। एसपी चारू निगम उनसे बाहर निकलने का आग्रह कर रही हैं। उधर, प्रदर्शनकारियों ने पुलिस जीप में आग लगा दी। मौके पर आंदोलनकारियों के अलावा सभी लोग 500 मीटर दूर खड़े हैं। पास जाने पर प्रदर्शनकारी पथराव कर रहे हैं। परिजन आदर्श इंटर कॉलेज के सामने शव रखकर प्रदर्शन कर रहे हैं। हंगामे के आसार को देखते हुए वहां आसपास के बाजार बंद हो गए हैं।

परिजनों की हैं 7 मांगें, अभियुक्तों के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज हो। पीड़ित परिवार को 50 लाख का मुआवजा दिया जाए। पीड़ित परिवार से एक व्यक्ति को सरकारी नौकरी दी जाए। पीड़ित परिवार को शहरी आवास दिया जाए। पीड़ित परिवार को ग्राम समाज भूमि से 2 एकड़ का पट्‌टा दिया जाए। पीड़ित परिवार को सुरक्षा के लिए शस्त्र लाइसेंस दिया जाए तथा अभियुक्तों के खिलाफ फास्ट ट्रैक कोर्ट में मुकदमा चलाया जाए।

अछल्दा थाना क्षेत्र के कस्बा फफूंद रोड के आदर्श इंटर कालेज में वैशोली गांव निवासी निखित कुमार (15 साल) दसवीं में पढ़ता था। उसके पिता राजू दोहरे ने बताया कि 7 सितंबर को सामाजिक विज्ञान के टीचर अश्विनी सिंह ने क्लास में टेस्ट लिया था। टेस्ट के लिए मेरे बेटे ने खूब पढ़ाई भी की थी। वह पढ़ने में ठीक था, लेकिन टेस्ट में उसने कोई शब्द गलत लिख दिया। उसी बात को लेकर टीचर अश्विनी सिंह ने मेरे बेटे को बाल पकड़ कर लात घूसों और डंडों से इतना पीटा कि वह स्कूल में ही बेहोश हो गया।

निखित के क्लास के एक बच्चे ने बताया कि उस दिन सरजी ने हमें भी पीटा था। वह इतने गुस्से में थे कि हम लोगों को डंडे, लात-घूंसों से पीट रहे थे। उस दिन से डर के मारे हम स्कूल भी नहीं गए। हमने घर पर भी नहीं बताया। हमें लगा कि घर पर भी मारे जाएंगे। डर की वजह से मेरी तबीयत भी खराब हो गई थी।

छात्र के पिता ने बताया कि बेटे के बेहोश होने की जानकारी होने के बाद हम लोग स्कूल पहुंचे तो पहले हमें धमकाया गया, जब हमने विरोध किया तो प्रिंसिपल के दखल के बाद टीचर अश्वनी ने उसका इलाज इटावा के एक प्राइवेट अस्पताल में कराने की बात कही। वहां करीब 40 हजार का खर्च आया। डॉक्टरों ने बताया कि बच्चे को बहुत सारी अंदरूनी चोटें आई थीं। जब इटावा के डॉक्टरों से मामला नहीं संभला तो दो दिन पहले बच्चे को लखनऊ रेफर कर दिया।

छात्र के पिता ने कहा कि यह जानकारी जब हमने अश्वनी को उसके घर जाकर दी तो वह नाराज हो गया। उसने हमें गालियां दीं। जाति सूचक शब्द कहे। हमें अपने घर से भगा दिया। हम फिर रविवार को थाने गए। वहां एफआईआर  दर्ज करवाई। बच्चे को हम घर ले आए थे। पुलिस ने हालात देखते हुए हमारे बच्चे को इलाज के लिए सैफई में एडमिट करा दिया। हालांकि, मामला गंभीर था और समय पर इलाज न मिलने की वजह से सोमवार सुबह मेरे बेटे निखित की मौत हो गई।

बच्चे निखित की मौत की खबर मिलते ही टीचर अश्विनी फरार हो गया है। आदर्श इंटर कॉलेज बंद है। वहीं, दलित बच्चे की मौत की खबर मिलते ही भीम आर्मी के सदस्य गांव पहुंच गए हैं। गांव में तनाव को देखते हुए फोर्स भी तैनात कर दी गई है। अछल्दा थाना प्रभारी ललित कुमार ने बताया कि इस मामले में मुकदमा दर्ज कर लिया है। बच्चे की मौत की सूचना मिली है। आरोपी टीचर फरार है। उसे पकड़ने की कोशिश की जा रही है। मामले में कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

राजू दोहरे खेती कर अपने परिवार का खर्च चलाता है। उसके निखित समेत तीन बच्चे थे। जिसमें से अब निखित की मौत हो गई है। इससे राजू अब डर गया है। राजू ने बताया कि वह अपने 12 साल के बेटे राघव और 6 साल के बेटे अभिषेक को स्कूल नहीं भेजेगा।

एसपी चारू निगम के अनुसार कॉलेज की एक अलमारी में टेस्ट की कॉपी रखी है, जिसकी चाबी आरोपी शिक्षक के पास है। उस रूम को बंद कर दिया गया है।

डीआईओएस चन्द्रशेखर मालवीय ने बताया कि शिक्षक को निलंबित करने के आदेश कॉलेज प्रबन्धक को दे दिए गए हैं। विधिक कार्रवाई में भी विभाग सहयोग करेगा।

(जनचौक ब्यूरो की रिपोर्ट।)

तत्काल समाचारों के लिए, हमारा जनचौक ऐप इंस्टॉल करें

Latest News

डीयू कैंपस के पास कैंपेन कर रहे छात्र-छात्राओं पर परिषद के गुंडों का जानलेवा हमला

नई दिल्ली। जीएन साईबाबा की रिहाई के लिए अभियान चला रहे छात्र और छात्राओं पर दिल्ली विश्वविद्यालय के पास...
जनचौक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें

Janchowk Android App

More Articles Like This

- Advertisement -