Sat. Apr 4th, 2020

घंटाघर से मार्च करते मैगसेसे पुरस्कार विजेता संदीप पांडेय गिरफ्तार, सत्याग्रहियों ने बनारस से शुरू की आगे की यात्रा

1 min read
गिरफ्तारी से पहले संदीप पांडेय।

नई दिल्ली/ लखनऊ। आज जब सुप्रीम कोर्ट एक बार फिर इस बात को साफ कर रहा था कि शांतिपूर्ण विरोध प्रदर्शन करना किसी का मूल अधिकार है और उससे किसी को वंचित नहीं किया जा सकता है। उसी समय यूपी की योगी सरकार मेगसेसे पुरस्कार विजेता और सोशलिस्ट पार्टी के नेता संदीप पांडेय को पहले रोका और फिर गिरफ्तार कर लिया क्योंकि  वह लखनऊ के घंटाघर से शहर में ही स्थित उजरियांव तक पैदल यात्रा करना चाहते थे। लेकिन लखननऊ पुलिस ने इसकी इजाजत उनको नहीं दी। और उन्हें गिरफ्तार कर ठाकुरगंज थाने लेती गयी।

यूपी पुलिस का यह केवल आज का कारनामा नहीं है। जब से नागरिकता संशोधन कानून लागू हुआ और उसके खिलाफ सूबे में प्रदर्शन शुरू है तभी से सूबे के खाकीदारी प्रदर्शनकारियों से इसी तरह से निपट रहे हैं। पुलिस की इस बर्बरता का ही नतीजा है कि सूबे में अब तक 22 लोगों की मौत हो चुकी है। हालांकि पुलिस इन सारी मौतों को क्रास फायरिंग में हुई मौत बताती है। लेकिन सच्चाई यह है कि ज्यादातर मौतें पुलिस की गोलियों से हुई हैं। और इसको छिपाने के लिए पुलिस पोस्टमार्टम रिपोर्ट तक मृतकों के परिजनों को नहीं दी।

देश दुनिया की अहम खबरें अब सीधे आप के स्मार्टफोन पर Janchowk Android App

इसी तरह की घटना चौरीचौरा से चले सत्याग्रहियों से साथ भी घटी। दिल्ली राजघाट तक की यात्रा करने के मंसूबे से चले इन 10 युवक-युवतियों को गाजीपुर में गिरफ्तार कर लिया गया और फिर उन्हें जेल में बंद कर दिया गया। पहले तो इतनी कड़ी शर्तें रख दी गयीं कि किसी के लिए जमानत ले पाना ही मुश्किल था। बाद में जब उन लोगों ने जेल के भीतर अनशन शुरू कर दिया और बाहर से भी दबाव पड़ा तो आज गाजीपुर पुलिस ने उनमें से कुछ को गाड़ी में बैठाकर सीधे बनारस के लंका पर छोड़ दिया। 

लेकिन सत्याग्रहियों के हौसले अभी टूटे नहीं हैं। उन्होंने अपनी यात्रा जारी रखने का फैसला किया है। बीएचयू के लंका गेट पर विश्वविद्यालय के छात्रों ने उनका पूरे जोशो-खरोश से स्वागत किया। बताया जा रहा है कि उनके कुछ साथी गाजीपुर से यात्रा जारी रखते हुए वाराणसी पहुंच रहे हैं और फिर वाराणसी में सभी इकट्ठा होकर आगे की यात्रा तय करेंगे।

गाजीपुर से जबरदस्ती उठाये गए नागरिक सत्याग्रह पदयात्रियों को बीएचयू के लंका गेट में पुलिस ने छोड़ा।ग़ाज़ीपुर में आज वहीं से यात्रा शुरू होनी थी जहां से 11 फरवरी को गिरफ्तारी हुई थी। कुछ साथियों को पुलिस ने उठा लिया था बाकि गाजीपुर से पदयात्रा कर रहे हैं।

AISA BHU ಅವರಿಂದ ಈ ದಿನದಂದು ಪೋಸ್ಟ್ ಮಾಡಲಾಗಿದೆ ಸೋಮವಾರ, ಫೆಬ್ರವರಿ 17, 2020

संदीप पांडये की गिरफ्तारी की कई संगठनों और पार्टियों ने निंदा की है। सीपीआई एमएल ने कहा है कि एक बार फिर योगी सरकार का जनविरोधी चेहरा सामने आ गया है। उसने उनकी तत्काल रिहाई की मांग की है।  

Donate to Janchowk
प्रिय पाठक, जनचौक चलता रहे और आपको इसी तरह से खबरें मिलती रहें। इसके लिए आप से आर्थिक मदद की दरकार है। नीचे दी गयी प्रक्रिया के जरिये 100, 200 और 500 से लेकर इच्छा मुताबिक कोई भी राशि देकर इस काम को आप कर सकते हैं-संपादक।

Donate Now

Scan PayTm and Google Pay: +919818660266

Leave a Reply